Archery World Cup: महिला रिकर्व टीम क्वॉलिफिकेशन में शीर्ष पर, भारतीय तीन स्पर्धाओं के क्वार्टर फइनल में

अतनु दास और दीपिका कुमारी ने शानदार प्रदर्शन किया. (Deepika Kumari/Instagram)

अतनु दास और दीपिका कुमारी ने शानदार प्रदर्शन किया. (Deepika Kumari/Instagram)

भारतीय रिकर्व तीरंदाजों ने लगभग दो साल बाद विश्व कप में वापसी करते हुए शानदार शुरुआत की, जब यहां शुरुआती चरण में अंकिता भकत और दीपिका कुमारी के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारतीय महिला टीम क्वॉलिफिकेशन में शीर्ष पर रही.

  • Share this:
गुआटेमाला सिटी. भारतीय रिकर्व तीरंदाजों ने लगभग दो साल बाद विश्व कप में वापसी करते हुए शानदार शुरुआत की, जब यहां शुरुआती चरण में अंकिता भकत और दीपिका कुमारी के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारतीय महिला टीम क्वॉलिफिकेशन में शीर्ष पर रही. अतनु दास ने दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी ब्रेडी एलिसन के बाद दूसरा स्थान हासिल किया, जिससे पुरुष टीम तीसरा स्थान हासिल करने में सुफल रही. भारत की पुरुष और महिला टीम ने सीधे क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई. इसके अलावा दास और दीपिका की मिश्रित युगल जोड़ी भी पिछले साल शादी के बाद पहली बार एक साथ चुनौती पेश करेगी.

दीपिका के साथ पिछली बार एशियाई चैंपियनशिप में मिश्रित स्पर्धा का कांस्य पदक जीतने वाले दास ने कहा, ‘‘मुझे मिश्रित टीम स्पर्धा काफी पसंद है. अगर मुझे दीपिका के साथ खेलने का मौका मिलता है तो यह शानदार है. हम शादीशुदा हैं और फिर हम ओलंपिक में खेलने वाली पहली शादीशुदा जोड़ी बनेंगे. यह शानदार है.’’

मिश्रित टीम क्वार्टर फाइनल में दास और दीपिका का सामना फ्रांस से होगा जबकि शीर्ष वरीय महिला टीम मेजबान गुआटेमाला से भिड़ेंगी. पुरुष टीम अंतिम आठ में स्पेन और गुआटेमाला के बीच होने वाले मैच के विजेता से भिड़ेगी. भारत बर्लिन में जुलाई 2019 में चरण चार के बाद पहली बार विश्व कप सर्किट में हिस्सा ले रहा है और बैंकॉक में नवंबर 2019 में एशियाई चैंपियनशिप टीम का आखिरी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट था. भारत ने हालांकि तब विश्व तीरंदाजी के ध्वज तले हिस्सा लिया था क्योंकि राष्ट्रीय महासंघ को निलंबित किया गया था.

यह टूर्नामेंट टोक्यो ओलंपिक की तैयारी का हिस्सा है, जिसके आयोजन में अब 100 से भी कम दिन का समय बचा है. ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुकी भारतीय पुरुष टीम इसका फायदा उठाने की कोशिश करेगी. दीपिका ने मुकाबले की शानदार शुरुआत की. वह आधे मुकाबले के बाद 339 अंक के साथ अंतत: क्वॉलिफिकेशन में शीर्ष पर रही अन्ना वाजक्वेज और अंकिता पर चार अंक की बढ़त बनाए थीं.
दुनिया की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी दीपिका हालांकि इस फॉर्म को बरकरार नहीं रख पाई और अंकिता से आगे दूसरे स्थान पर रही. इन दोनों ने क्रमश: 673 और 671 अंक जुटाए. गत अंडर -18 विश्व चैंपियन कोमालिका बारी ने 659 अंक के साथ 12वां स्थान हासिल किया जिससे भारतीय टीम मैक्सिको को 14 अंक से पछाड़कर शीर्ष स्थान हासिल करने और अंतिम आठ में जगह बनाने में सफल रही. भारत के नंबर एक तीरंदाज दास अमेरिका के एलिसन से 14 अंक पीछे रहे जिन्होंने क्वॉलिफिकेशन में दबदबा बनाते हुए 694 अंक जुटाए जो रैंकिंग दौर में उनके करियर का दूसरा सर्वश्रेष्ठ स्कोर है.

प्रवीण जाधव (15वें) और बी धीरज (20वें) ने भी प्रभावी प्रदर्शन किया जिससे भारतीय टीम तीसरे स्थान पर रही. सबसे सीनियर तीरंदाज तरुणदीप राय ने 663 अंक के साथ 22वां स्थान हासिल किया. इस टूर्नामेंट में सिर्फ रिकर्व तीरंदाज हिस्सा ले रहे हैं क्योंकि कोच के कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद महासंघ ने एशियाई चैंपियन अभिषेक वर्मा और ज्योति सुरेखा की कंपाउंड टीम को हटा लिया.

अगले दिन पता चला कि कोच की सोनीपत में रिपोर्ट गलत पॉजिटिव आई थी लेकिन तब तक नुकसान हो चुका था. कोविड-19 महामारी के कारण एक साल से अधिक के विलंब के बाद मंगलवार को स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स लोस आर्कोस में क्वॉलिफिकेशन राउंड के साथ अंतरराष्ट्रीय सर्किट का 15वां सत्र शुरू हुआ. पिछला तीरंदाजी विश्व कप फाइनल 18 से भी अधिक महीने पहले मॉस्को में हुआ था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज