आसान जीत के साथ बजरंग पूनिया ने हासिल किया वर्ल्ड चैंपियनशिप को टिकट

बजरंग की 65 किग्रा भारवर्ग में मौजूदगी के कारण ज्यादातर पहलवानों ने खुद को इस मुकाबले से दूर रखा. उन्हें चुनौती देने सिर्फ मौजूदा राष्ट्रीय चैंपियन हरफुल सिंह पहुंचे.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 5:22 PM IST
आसान जीत के साथ बजरंग पूनिया ने हासिल किया वर्ल्ड चैंपियनशिप को टिकट
बजरंग पूनिया को केवल नेशनल चैंपियन चुनौती देने पहुंचे थे
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 5:22 PM IST
भारत के स्टार रेसलर बजरंग पूनिया और रवि कुमार दहिया ने वर्ल्ड चैंपियनशिप का टिकट हासिल कर किया. विश्व चैम्पियनशिप में जगह पक्की करने के लिए चार मिनट से भी कम का समय लगा जबकि रवि कुमार दहिया ने शुक्रवार को सेलेक्शन ट्रायल्स का सबसे रोमांचक मुकाबला जीतकर टिकट हासिल किया.सुमित मलिक ने भी कजाखस्तान के लिए टिकट हासिल किया. उन्होंने 125 किग्रा भारवर्ग में सतेन्द्र को 3-0 से हराया. ओलिंपिक पदक विजेता सुशील कुमार हालांकि शुक्रवार को ट्रायल्स में भाग नहीं ले सके क्योंकि 74 किग्रा में उनके प्रतिस्पर्धी जितेन्द्र कुमार और प्रवीण कुमार चोटिल हैं. दोनों पहलवानों ने चोट से वापसी के लिए और अधिक समय मांगा जिसे डब्ल्यूएफआई ने मान लिया.

वर्ल्ड चैंपियनशिप का आयोजन कजाखस्तान में 14 से 22 सिंतबर तक होगा. यह टूर्नामेंट ओलिंपिक क्वालिफाइंग प्रतियोगिता है. बजरंग की 65 किग्रा भारवर्ग में मौजूदगी के कारण ज्यादातर पहलवानों ने खुद को इस मुकाबले से दूर रखा. उन्हें चुनौती देने सिर्फ मौजूदा राष्ट्रीय चैंपियन हरफुल सिंह पहुंचे.

वर्ल्ड रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज बजरंग को हालांकि हरफूल चुनौती नहीं दे सके. हरफूल घुटने मे चोट के कारण मुकाबले के दूसरे दौर तक प्रतिस्पर्धा भी नहीं कर सके. दूसरे दौर में बजरंग ने उनके दांए पैर पर मजबूत पकड़ बनाई जिससे वह पार नहीं पा सके. मुकाबला (बाउट) रोके जाते समय बजरंग 7-0 से आगे थे.

उन्होंने कहा, ‘मुकाबला पूरे छह मिनट तक चलता तो मेरे लिए और यहां आए फैंस के लिए यह अच्छा होता. इस तरह से मुकाबला खत्म होना ठीक नहीं है. किसी पहलवान के चोटिल होने से बहुत बुरा लगता है. हम सब कड़ी मेहनत करते हैं और मुझे उसके लिए बुरा लग रहा है.’

बजरंग पूनिया को वर्ल्ड चैंपियनशिप का टिकट हासिल किया है
बजरंग पूनिया को वर्ल्ड चैंपियनशिप का टिकट हासिल किया है


रवि दहिया ने भी हासिल किया टिकट

प्रतिभाशाली संदीप तोमर और उत्कर्ष काले सहित सात पहलवान 57 किग्रा वर्ग में शामिल थे. हालांकि पिछले साल अंडर -23 वर्ल्ड चैंपियनशिप के सिल्वर मेडल विजेता रवि ने इसमें बाजी मार कर कजाखस्तान का टिकट कटाया. कोच विरेन्द्र की देख रेख में छत्रसाल स्टेडियम में ट्रेनिंग लेने वाले रवि ने फाइनल मुकाबले में राहुल को 12-2 से हराया.
Loading...

राहुल ने इससे पहले 2016 के एशियाई चैंपियन संदीप तोमर को हराया था जबकि रवि ने काले को शिकस्त दी थी. हरियाणा के 22 साल के रवि ने कहा, ‘विश्व चैंपियनशिप में काफी कड़ा मुकाबला होगा. एशिया कुश्ती का गढ़ हैं. वहां जापान, ईरान, मंगोलिया और कजाखस्तान के पहलवानों से कड़ी टक्कर मिलेगी. मैं कड़ी मेहनत कर रहा हूं और अच्छे नतीजे की उम्मीद है.’

दीपक पूनिया ने 86 किग्रा वर्ग में पवन के खिलाफ 5-0 से जीत दर्ज की. इस वर्ग में सिर्फ यही दो पहलवाना दावेदारी पेश कर रहे थे. छत्रसाल स्टेडियम में कोच विरेन्द्र के साथ प्रशिक्षण करने वाले 20 साल के दीपक के पास अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों का अनुभव हैं. मौसम खत्री ने 97 किग्रा भारवर्ग में सत्यव्रत कादियान को 8-1 से शिकस्त दी. रियो ओलिंपिक के कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक के पति सत्यव्रत के खिलाफ खत्री ने शानदार बचाव करने के साथ जवाबी हमला भी किया.

प्रणीत 36 मिनट में सेमीफाइनल में पहुंचे, 6 दिन में यामागुची से दूसरी बार हारीं सिंधु 

पावरप्ले के रूल तक नहीं पता और बनना चाहते हैं पाकिस्तान के कोच : शोएब अख्तर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 26, 2019, 4:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...