लाइव टीवी

कोरोना वायरस फैलने के बाद इस खिलाड़ी ने कहा- जिंदगी रही तो ही खेल पाऊंगा

भाषा
Updated: March 23, 2020, 10:58 PM IST
कोरोना वायरस फैलने के बाद इस खिलाड़ी ने कहा- जिंदगी रही तो ही खेल पाऊंगा
बजरंग पूनिया ने अपना 6 महीने का वेतन किया दान

महामारी (COVID-19) फैलने के बाद लगातार खिलाड़ी अपनी ओर से समाज को बचाने और जागरुक करने के लिए योगदान दे रहे हैं

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रतिभाशाली भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Punia) ने कोराना वायरस के संक्रमण से निपटने में मदद करने के लिए सोमवार को अपना 6 महीने का वेतन दान कर दिया. इसके साथ-साथ बजरंग ने टोक्यो ओलिंपिक को टालने की मांग भी कर डाली. पच्चीस साल के इस भारतीय पहलवान ने कहा कि कई देश ओलिंपिक से नाम वापस ले चुके है और ऐसे में अगर इसका आयोजन होता है तो टूर्नामेंट का महत्व कम होगा. बजरंग इन खेलों में भारत के पदक दावेदारों में से एक हैं. कोरोनो वायरस के बढ़ते मामलों के कारण हालांकि इसका आयोजन संदेह के घेरे में है. इस बीमारी से अब तक दुनियाभर में 15000 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है और 3,00,000 से अधिक लोगों इसके संक्रमण की चपेट में आये हैं.

रेलवे अधिकारी हैं बजरंग
बता दें विश्व चैम्पियनशिप (2019) के कांस्य पदक विजेता बजरंग (Bajrang Punia) रेलवे में अधिकारी के रूप में विशेष ड्यूटी (ओएसडी) पर तैनात हैं. बजरंग के छह महीने के वेतन दान करने की पहल का खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने भी समर्थन किया. बजरंग ने ट्वीट किया, 'मैंने अपना छह महीने का वेतन दान करने का फैसला किया है.'

बजरंग (Bajrang Punia) ने पीटीआई से कहा, 'ओलिंपिक से पहले हमें कोरोना वायरस से लड़ना होगा। यदि स्थिति में सुधार नहीं होता है और यह 2-3 महीने तक जारी रहता है तो ओलिंपिक को स्थगित करना पूरी तरह से सही रहेगा.' उन्होंने कहा, 'अगर कोरोना वायरस का कहर जारी रहता है तो बहुत सारे देश अपने खिलाड़ियों को नहीं भेजेंगे. पहले से ही कनाडा और ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वे अपने खिलाड़ियों को नहीं भेजेंगे. ऐसे आयोजन का क्या फायदा.' उन्होंने कहा, 'यह सिर्फ भारत की समस्या नहीं है, यह एक वैश्विक मुद्दा है, जिससे पहले निपटने की जरूरत है.' इसके साथ-साथ उन्होंने कहा कि अगर जिंदगी रहेगी तो ही खेल पाएंगे.



बता दें बजरंग (Bajrang Punia) सोनीपत के एक अपार्टमेंट में प्रशिक्षण ले रहे हैं, जबकि उनके कोच शाको बेंटिनिडिस जॉर्जिया के लिए रवाना हो गए हैं. महिला पहलवान के लिए विदेशी कोच एंड्रयू कुक भी कुछ दिन पहले अमेरिका के लिए रवाना हो गए हैं. भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए)ने कहा कि वह इन खेलों में देश की भागीदारी के बारे में चार सप्ताह में तय करेगा. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) पर खेलों को स्थगित करने का भारी दबाव है. इस बीच इन खेलों में पदक की एक अन्य दावेदार विनेश फोगाट ने कहा कि वह कड़ा अभ्यास कर रही हैं और उन्हें खेलों के स्थगित होने या नहीं होने की कोई चिंता नहीं. उन्होंने कहा, 'मैं अपने घर पर हूं और अब तक का प्रशिक्षण अच्छा रहा है. मेरे कुछ भी कहने से कुछ नहीं होगा.'

टूर्नामेंट रद्द होने से मनु भाकर को नहीं पड़ता कोई फर्क, दिया बड़ा बयान!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 10:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर