लाइव टीवी

दुनिया के सामने आई कोबी ब्रायंट की मौत की वजह, खतरे के बावजूद भरी थी उड़ान

भाषा
Updated: January 28, 2020, 2:02 PM IST
दुनिया के सामने आई कोबी ब्रायंट की मौत की वजह, खतरे के बावजूद भरी थी उड़ान
बेटी गियाना के साथ कोबे ब्रायंट (फाइल फाेटो)

राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा बोर्ड (एनटीएसबी) के अनुसार कोबी ब्रायंट (Kobe Bryant) के पायलट ने हवाई यातायात नियंत्रकों को अपने आखिरी रेडियो संदेश में बताया था कि वह बादलों की एक मोटी परत से बचने के लिए विमान को और ऊंचाई पर ले जाने की कोशिश कर रहे हैं

  • Share this:
कैलाबासास.  दुनिया ने एक हेलिकॉप्टर हादसे में महान बास्केटबॉल खिलाड़ी कोबी ब्रायंट (Kobe Bryant) को खो दिया. इस हादसे की शिकार उनकी 13 साल की बेटी गियाना भी बनी. हेलिकॉप्टर हादसे में ब्रायंट और उनकी बेटी सहित कुल नौ लोग सवार थे. ब्रायंट अपनी बेटी के मुकाबले के लिए निजी हेलिकॉप्टर से कैलिफोर्निया से लॉस एंजिलिस जा रहे थे.  उसी दौरान यह बड़ा हादसा हुआ. जिससे पूरा खेल जगत सकते में हैं. दुनिया भर में किसी को भी इस हादसे की असली वजह मामूल नहीं लग रही, क्योंकि जिस हेलिकॉप्टर से दिग्गज खिलाड़ी सफर कर रहे थे, वह खासतौर से सुरक्षा के लिए ही जाना जाता है. मगर हादसे के कई घंटों बाद उसके पीछे के कारण दुनिया के सामने आ ही गए हैं.

kobe brynat,helicopter crash, nba, sports news, कोबी ब्रायंट, ‌ हेलिकॉप्टर क्रैश, एनबीए, स्पोर्ट्स न्यूज
जंगलों में पड़ा कोबी ब्रायंट के हेलिकॉप्टर का मलबा


राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा बोर्ड (एनटीएसबी) के अनुसार पायलट ने  हवाई यातायात नियंत्रकों को अपने आखिरी रेडियो संदेश में बताया था कि वह बादलों की एक मोटी परत से बचने के लिए विमान को और ऊंचाई पर ले जाने की कोशिश कर रहे हैं. इसके तुरंत बाद विमान नीचे गिरने लगा और एक पहाड़ी से टकरा गया.

kobe brynat,helicopter crash, nba, sports news, कोबी ब्रायंट, ‌ हेलिकॉप्टर क्रैश, एनबीए, स्पोर्ट्स न्यूज
कोबी ब्रायंट को श्रद्धांजलि देते फैंस


अधिक ऊंचाई पर चला गया था हेलिकॉप्टर
राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा बोर्ड (एनटीएसबी) की जेनिफर होमेंडी ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि रडार से पता चला है कि हेलिकॉप्टर गिरने से पहले 2,300 फीट तक की ऊंचाई पर चला गया था और उसका मलबा 1,085 फीट पर मिला है. एनटीएसबी जांचकर्ता सबूत जुटाने के लिए हादसे के बाद कैलाबासास में दुर्घटना स्थल पर पहुंचे. होमेन्डी ने कहा कि मलबा दूर-दूर तक फैला हुआ है. उन्होंने कहा कि हेलिकॉप्टर के पिछले हिस्से का एक टुकड़ा पहाड़ी के नीचे पड़ा हुआ है. बीच का हिस्सा पहाड़ी के दूसरी तरफ है और मुख्य रोटर उससे भी 91 मीटर की दूरी पर है.

कोबी ब्रायंट के साथ हेलिकॉप्ट में और भी आठ लोग थे (फाइल फोटो)
पायलट से लेकर इंजन तक, सभी की होगी जांच
कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि कोहरे के चलते पायलट रास्ता भटक गया होगा, लेकिन होमेन्डी का कहना है कि जांच टीमें पायलट के इतिहास से लेकर इंजन तक हर चीच की जांच करेंगी. उन्होंने कहा कि हम व्यक्ति, मशीन और वातावरण सब देख रहे हैं और मौसम उसका बस छोटा सा हिस्सा है. पायलट ने दुर्घटना से चंद मिनट पहले घने कोहरे में उड़ान भरने के लिए विशेष मंजूरी मांगी थी जो उन्हें दे दी गई थी. होमेन्डी ने बताया कि बाद में पायलट ने हवाई यातायात नियंत्रकों से “विमान का पीछा” करने वाली रडार सहायता मांगी, लेकिन उन्हें बताया गया कि उस सहायता के लिए हवाई जहाज बहुत छोटा है. उन्होंने बताया कि चार मिनट बाद, पायलट ने कहा कि बादल की मोटी परत से बचने के लिए वे विमान को और ऊंचाई पर ले जा रहे हैं. होमेन्डी ने कहा कि जब एटीसी ने पायलट से उनकी योजना के बारे में पूछा तो कोई जवाब नहीं मिला.

दो दशक तक खेलने के बाद इस भारतीय ओपनर ने लिया संन्यास, बनाए कई अनूठे रिकॉर्ड

12 साल बाद नए कलेवर में IPL, प्रशंसकों के लिए इस बार किए गए ये चार बड़े बदलाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 1:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर