लाइव टीवी

फेडरेशन ने दिए संकेत, ओलिंपिक क्वालीफायर के ‌लिए एमसी मैरीकॉम को नहीं देना होगा ट्रायल

News18Hindi
Updated: October 16, 2019, 4:08 PM IST
फेडरेशन ने दिए संकेत, ओलिंपिक क्वालीफायर के ‌लिए एमसी मैरीकॉम को नहीं देना होगा ट्रायल
विश्व चैंपियनशिप में मैरीकॉम ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था

विश्व चैंपियनशिप के लिए निखत जरीन ने एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) के साथ ट्रायल करवाने की मांग की थी और ऐसा न होने पर काफी विवाद भी हुआ था

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2019, 4:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय मुक्केबाजी संघ के अध्यक्ष अजय सिंह (Ajay Singh) ने सुझाव दिया है कि टोक्याे ओलिंपिक क्वालीफायर (Tokyo Olympic Qualifiers) के लिए एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom)  और निखत जरीन (Nikhat Zareen ) के बीच कोई ट्रायल नहीं हो सकता. अगले साल 3 से 14 फरवरी तक वुहान में ओलिंपिक क्वालीफायर का आयोजन किया जाएगा और यह भी संभव है कि 36 साल की मैरीकॉम का चुनाव खुद फेडरेशन ही कर सकता है. दरअसल मैरीकॉम और निखत के बीच अगस्त में उस समय विवाद हुआ था, जब वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए 51 किग्रा भार वर्ग में फेडरेशन ने मैरीकॉम के साथ निखत का ट्रायल नहीं करवाया  और बिना ट्रायल के मैरीकॉम वर्ल्ड चैंपियनशिप में उतरीं. हाल ही में रूस में हुए महिला वर्ल्ड मुक्केबाजी चैंपियनशिप के पदक विजेताओं का दिल्‍ली में सम्मान किया गया. इस मौके पर अजय सिंह ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए जानकारी दी कि महिला कैटेगरी में बीएफआई चुनाव नियम पर पुनर्विचार हो सकता है. जिसमें वर्ल्ड स्‍तर पर गोल्ड और सिल्वर जीतने वाले अपने आप ही वुहान क्वालीफायर्स के लिए नामांकित हो जाएंगे.  लवलीना बोरगोहेन ने 69 किग्रा में  दूसरी  बार ब्रॉन्ज जीता और उन्हें ट्रायल्स में छूट दी जा सकती है. मैरीकॉम (MC Mary Kom)  ने 51 किग्रा में ब्रॉन्ज जीता है और दोनों ही ओलिंपिक वेट कैटेगरी हैं.

MC Mary Kom,Nikhat Zareen, Tokyo Olympic Qualifiers, sports news, boxin एमसी मैरीकॉम, निखत जरीन, टोक्यो ओलिंपिक
निखत जरीन ने मैरीकॉम के साथ ट्रायल करवाने की मांग की थी


फेडरेशन अध्यक्ष ने कहा कि यह देखा जाएगा कि उस समय ओलिंपिक में हमे मेडल दिलाने के लिए किसकी तैयारी ज्यादा अच्छी है. उन्होंने मैरीकॉम (MC Mary Kom) के बारे में कहा कि वर्ल्ड स्‍तर पर मैरीकॉम ने अच्छा प्रदर्शन किया है. उन्हाेंने अपनी उम्र और मदरहुड को कमजोरी बनने नहीं दिया. अजय सिंह ने कहा कि यहां तक कि विश्व चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में मैरीकॉम उनके हिसाब से साफ तौर से विजेता थीं. हालांकि वह सेमीफाइनल हार गईं. वर्ल्ड चैंपियनशिप से पहले बीएफआई (BFI) ने कहा था कि पुरुष कैटेगरी के तीनों मेडलिस्ट बिना ट्रायल्स के ओलिंपिक क्वालीफायर में उतर सकते हैं. जबकि महिला वर्ग में सिर्फ गोल्ड और सिल्वर मेडलिस्ट ही बिना ट्रायल्स के ओलिंपिक क्वालीफायर में उतर सकती हैं.  दोनों कैटेगरी में अलग-अलग नियमों पर बीएफआई अध्यक्ष ने कहा कि वह इस पर पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हैं. सभी के लिए नियम एक जैसे होने चाहिए. सिंह ने संकेत दिए है कि यहां पर ऑफिस और चयनकर्ताओं के बीच आपसी तालमेल की कमी थी.

रिकॉर्डतोड़ दर्शकों के जोश के आगे टूटे सुनील छेत्री, भावुक होकर कही बड़ी बात

बांग्लादेश से नहीं जीत पाया भारत, आदिल खान के गोल ने बचाई लाज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 3:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...