कोरोना के बाद नए वायरस का कहर, ओलिंपिक क्‍वालिफाई करने वाले एकमात्र भारतीय घुड़सवार की तैयारियां रुकी

एशियाई खेलों के पदकधारी फवाद की तैयारियां उनके घोड़े ‘जारा 4’ को 14 दिन के पृथकवास के कारण रुक गई है (फोटो क्रेडिट: @jon_selvaraj)

एशियाई खेलों के पदकधारी फवाद की तैयारियां उनके घोड़े ‘जारा 4’ को 14 दिन के पृथकवास के कारण रुक गई है (फोटो क्रेडिट: @jon_selvaraj)

ईएचीव-1 ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्‍वालिफाई कर चुके भारत के एकमात्र घुड़सवार फवाद मिर्जा की ओलिंपिक तैयारियों को बाधित कर दिया है जबकि पिछले साल कोविड-19 के कारण उनकी ट्रेनिंग प्रभावित हुई थी.

  • Share this:
नई दिल्ली. घोड़ों में इक्विन हर्पीज वायरस (ईएचीव-1) के फैलने से टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympic) के लिए क्‍वालिफाई कर चुके भारत के एकमात्र घुड़सवार फवाद मिर्जा (Fouaad Mirza) की ओलिंपिक तैयारियों को बाधित कर दिया है जबकि पिछले साल कोविड-19 के कारण उनकी ट्रेनिंग प्रभावित हुई थी. एशियाई खेलों के पदकधारी फवाद की तैयारियां उनके घोड़े ‘जारा 4’ को 14 दिन के पृथकवास के कारण रुक गई है, क्योंकि यूरोप में साल के इस समय घोड़ों में यह वायरस काफी सक्रिय हो जाता है.

उनके घोड़े के पृथकवास का मतलब है कि वह अपने पसंदीदा घोड़े पर ट्रेनिंग नहीं कर पाएंगे और उन्हें केवल उसकी देखभाल की अनुमति होगी, जिससे उनकी ओलिंपिक तैयारियों को झटका लगा.

यह भी पढ़ें : 

Road Safety World Series: श्रीलंका लीजेंड्स ने साउथ अफ्रीका को दी 9 विकेट से करारी मात
IND VS ENG: ऋषभ पंत की वजह से केएल राहुल को नहीं मिलेगी टीम में जगह या धवन बैठेंगे बाहर?

उनके पिता हसनेन मिर्जा ने कहा कि फवाद जर्मनी में अपने ट्रेनिंग बेस पर है, लेकिन उनका घोड़ा दो हफ्तों के लिए पृथकवास में है क्योंकि पूरे यूरोप में ईएचवी-1 वायरस फैला हुआ है. उन्होंने कहा कि वे इटली में एक छोटे टूर्नामेंट में ही खेले थे, लेकिन पूरे यूरोप में इस वायरस के फैलने से अधिकारियों ने घोड़ों पर निगरानी रखने का फैसला किया है क्योंकि यह वायरस बहुत जल्दी फैलता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज