Euro 2020: फुटबॉलर के सामने नहीं टिक पाते क्रिकेटर, टॉप खिलाड़ियों की कमाई में ही 750 करोड़ का अंतर

यूरो कप 2020 का आगाज 11 जून से हो रहा है. 24 टीमें उतरेंगी टूर्नामेंट में. (AFP)

यूरो कप 2020 का आगाज 11 जून से हो रहा है. 24 टीमें उतरेंगी टूर्नामेंट में. (AFP)

यूरो कप 2020 (Euro Cup 2020) की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है. 24 टीमों के टूर्नामेंट की शुरुआत 11 जून से होने जा रही है. पिछले साल कोरोना के कारण इसे एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया था. क्रिस्टियानो रोनाल्डो की टीम पुर्तगाल टूर्नामेंट की डिफेंडिंग चैंपियन है.

  • Share this:

लंदन. यूरो कप 2020 के मुकाबले 11 जून से शुरू हो रहे हैं. इसमें यूरोप की 24 टीमों के बीच भिड़ंत होगी. फुटबॉल की बात की जाए तो यहां यूरोप का ही दबदबा है. दुनिया के टॉप खिलाड़ियों की बात की जाए या सबसे ज्यादा कमाने वाले क्लब की, यूरोपीय टीमें टॉप पर हैं. अब अगर फुटबॉल और क्रिकेट की तुलना की जाए तो इसमें इतना बड़ा अंतर दिखता है. क्रिकेट में बीसीसीआई यानी भारत के अलावा इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया ही रेवेन्यू के मामले में अच्छी स्थिति में है. बाकी अन्य देश काफी पीछे हैं.

बीसीसीआई दुनिया का सबसे अमीर बोर्ड है. टी20 लीग आईपीएल क्रिकेट की सबसे बड़ी लीग है. अगर इसकी सिर्फ यूरो कप से तुलना की जाए तो आईपीएल कहीं नहीं टिकता. आईपीएल में 50 करोड़ रुपए की प्राइज मनी दी जाती है. यह राशि क्रिकेट वर्ल्ड कप की प्राइज मनी से ज्यादा है. दूसरी ओर मौजूदा यूरो कप की बात की जाए तो बतौर प्राइज मनी मौजूदा सीजन में 3300 करोड़ रुपए की राशि दी जाएगी. यानी इसमें ही 66 गुना क अंतर है. इसके अलावा बीसीसीआई को आईपीएल से लगभग 5 हजार करोड़ रुपए का रेवेन्यू मिलता है. वहीं 2016 में हुए यूरो कप का रेवेन्यू 16280 करोड़ रुपए था. यानी लगभग 11 हजार करोड़ रुपए ज्यादा.

टॉप-50 कमाई वाले खिलाड़ियों में एक भी क्रिकेटर नहीं

पिछले दिनों फोर्ब्स ने साल 2021 के टॉप-50 सबसे ज्यादा कमाई करने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट जारी की. इसमें कोई क्रिकेटर नहीं था. फुटबॉल के आठ खिलाड़ी लिस्ट में शामिल थे. टॉप-10 कमाई करने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में तीन फुटबॉलर हैं. अर्जेंटीना के लियोनेल मेसी 957 करोड़ रुपए के साथ ओवरऑल दूसरे नंबर पर हैं. पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो 883 करोड़ रुपए के साथ तीसरे और ब्राजील के नेमार 693 करोड़ रुपए के साथ छठे नंबर पर हैं.
कोहली की कमाई 197 करोड़ रुपए थी

पिछले साल फोर्ब्स ने टॉप-100 सबसे ज्यादा कमाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट जारी की थी. इसमें बतौर क्रिकेटर सिर्फ एक खिलाड़ी को जगह मिली थी. भारतीय कप्तान विराट कोहली 197 करोड़ रुपए के साथ 66वें नंबर पर थे. यानी कोहली की कमाई फुटबॉल के टॉप खिलाड़ी लियोनेल मेसी से लगभग 760 करोड़ रुपए कम है. मेसी के अलावा अन्य फुटबॉल खिलाड़ी भी हैं. जबकि क्रिकेट की बात की जाए तो कोहली के अलावा कोई अन्य इसमें शामिल नहीं है.

क्रिकेट की फ्रेंचाइजी 500 करोड़ तो फुटबॉल के क्लब की कमाई 6300 करोड़



आईपीएल में शामिल टीमों की बात की जाए तो एक फ्रेंचाइजी को एक सीजन में लगभग 400 से 500 करोड़ रुपए का लाभ होता है. वहीं फुटबॉल क्लब की कमाई कई गुना अधिक है. डेलोइट की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल स्पेनिश क्लब बार्सिलोना ने बतौर फुटबॉल क्लब सबसे ज्यादा लगभग 6300 करोड़ रुपए की कमाई की. हालांकि कोरोना के कारण टॉप-20 क्लब को 17000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. इसके बाद भी उनकी कमाई क्रिकेट की तुलना में काफी अधिक है.

फीफा के 211 तो आईसीसी के सिर्फ 105 सदस्य

फुटबॉल की वर्ल्ड संस्था फीफा 117 साल पहले 1904 में बनी और आज उसके दुनिया भर में सबसे ज्यादा 211 सदस्य हैं. फुटबॉल दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल भी है. दूसरी ओर से क्रिकेट की वर्ल्ड संस्था आईसीसी 112 साल पहले 1909 में अस्तित्व में आई. उसके 105 सदस्य हैं. यानी फुटबॉल से 106 देश कम. क्रिकेट में टॉप-8 देशों छोड़कर अन्य के पास इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर अच्छे खिलाड़ियों तक की कमी है. दूसरी ओर फुटबॉल में ऐसी कमी नहीं है. फुटबॉल ओलंपिक में भी शामिल है. दूसरी ओर क्रिकेट 1900 में ओलंपिक में खेला गया. इसके बाद आज तक उसे ओलंपिक में जगह नहीं मिली है. 2028 ओलंपिक में इसे शामिल कराने की कोशिश चल रही है. इस मामले में बीसीसीआई भी आईसीसी का सपोर्ट कर रहा है.

फुटबॉल में 80 तो क्रिकेट सिर्फ 23 टीमें वर्ल्ड कप खेल सकीं

फुटबॉल को बढ़ावा मिलने के पीछे छोटी टीमों को बड़े टूर्नामेंट में मौका मिलना भी है. फीफा वर्ल्ड कप में अब तक 80 टीमों को कम से कम एक बार खेलने का मौका मिला है. वर्ल्ड कप के कारण नए खिलाड़ी और नए इंफ्रास्ट्रक्चर मिलते हैं. दूसरी ओर क्रिकेट वर्ल्ड कप (वनडे और टी20) की बात की जाए तो अब तक सिर्फ 23 टीमों को ही मौका मिला है. ऐसे में बड़े टूर्नामेंट में टीमों की संख्या अभी भी कम है. इस कारण आईसीसी ने बड़ा कदम उठाया है. पिछले दिनों बैठक में 2023-31 के फ्यूचर टूर प्रोग्राम (एफटीपी) के तहत वनडे वर्ल्ड कप में 14 जबकि टी20 वर्ल्ड कप में 20 टीमों को शामिल करने का निर्णय लिया गया.

आईसीसी को अमेरिका में क्रिकेट का बड़ा बाजार दिख रहा है

आईसीसी अमेरिका में क्रिकेट को लेकर बेहद उत्सािहत है. वहां इंटरनेशनल मुकाबले भी कराए जा रहे हैं. भारत और विंडीज के बीच टी20 के मुकाबले वहां खेले जा चुके हैं. हालांकि अभी अमेरिका में क्रिकेट बेहद शुरुआती दौर में हैं. वहां क्लब क्रिकेट की शुरुआत होने जा रही है. कोलकाता नाइट राइडर्स ने वहां एक क्लब भी खरीदा है. खेल की बात की जाए तो अमेरिका बड़ा बाजार है. अगर वहां क्रिकेट सफल होता है तो इस खेल को काफी फायदा होगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज