साक्षी मलिक के दावे को हरियाणा के गृहमंत्री ने बताया गलत, कहा- नौकरी और जमीन दोनों की पेशकश की थी

साक्षी मलिक के दावे को हरियाणा के गृहमंत्री ने बताया गलत, कहा- नौकरी और जमीन दोनों की पेशकश की थी
साक्षी मलिक ने 2016 रियो ओलिंपिक में कांस्‍य पदक जीता था (फाइल फोटो )

रियो ओलिंपिक की मेडलिस्‍ट साक्षी मलिक ने दावा किया था कि अभी तक न तो उन्‍हें जमीन दी गई है और न ही नौकरी. उन्‍हें सिर्फ आश्वासन ही मिल रहा है.

  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री अनिल विज ने शुक्रवार को ओलिंपिक कांस्य पदक विजेता पहलवान साक्षी मलिक ( Sakshi Malik) के उस दावे को खारिज किया कि उन्हें राज्य सरकार से सिर्फ आश्वासन ही दिया गया नौकरी नहीं. वर्ष 2016 रियो ओलिंपिक खेलों की पदकधारी साक्षी ने गुरुवार को दावा किया था कि अभी तक न तो उन्‍हें जमीन दिया गया है और न ही नौकरी. मैं पहले खेल मंत्री और मुख्यमंत्री से मिली थी, लेकिन मुझे सिर्फ आश्वासन ही मिले.

उनके दावे को खारिज करते हुए विज ने शुक्रवार को कहा कि जिस दिन वह ओलिंपिक में पदक जीतने के बाद भारत लौंटी थीं, उसी दिन उन्हें 2.5 करोड़ रुपये का चेक दिया था.

नौकरी की पेशकश भी की गई
विज ने कहा कि पहली बार खिलाड़ी के अनुरोध पर उनके दोनों कोंचों को 10-10 लाख रुपये का पुरस्कार दिया गया. हमने उन्हें नौकरी की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने यह कहते हुए इससे इनकार कर दिया कि उन्हें रेलवे में पद्दोन्नति मिल गई है और वह वहीं काम करेंगी.
यह भी पढ़ें: 



IPL 2020: दुबई पहुंचकर विराट कोहली ने शेयर की पहली तस्‍वीर, अहंकारी कहने वालों को दिया करारा जवाब!

खेल मंत्रालय का बड़ा फैसला, खेल रत्‍न साक्षी मलिक और मीराबाई को नहीं मिलेगा अर्जुन अवॉर्ड

शर्तों के अनुसार नहीं लेना चाहती थी जमीन
जहां तक प्लॉट का संबंध है तो विज ने कहा कि यह नीति के अनुसार ही दिया गया, लेकिन जिन शर्तों पर इसे दिया जा रहा था, साक्षी उनके मुताबिक इसे लेने को इच्छुक नहीं थीं. इससे पहले खेल मंत्रालय ने शुक्रवार को पूर्व में खेल रत्न (Khel Ratna) हासिल करने वाली साक्षी मलिक (Sakhi Malik) और मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) को अर्जुन पुरस्कार नहीं देने का फैसला किया, जिससे इस साल यह पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ियों की संख्या 27 रह गई है. खेल मंत्रालय ने हालांकि देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार खेल रत्न के लिए जिन पांच खिलाड़ियों के नाम की सिफारिश की गयी थी, उन्हें स्वीकार कर लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज