Home /News /sports /

Asian Games 2018: ईरान ने भारतीय महिला कबड्डी टीम से भी छीना गोल्‍ड, सिल्‍वर से करना पड़ा संतोष

Asian Games 2018: ईरान ने भारतीय महिला कबड्डी टीम से भी छीना गोल्‍ड, सिल्‍वर से करना पड़ा संतोष

 भारतीय महिला कबड्डी

भारतीय महिला कबड्डी

भारतीय महिला कबड्डी टीम को एक संघर्षपूर्ण मुकाबले में 24-27 से मात खानी पड़ी.

    भारतीय महिला कबड्डी टीम को 18वें एशियाई खेलों के फाइनल में शुक्रवार को ईरान से हार कर रजत पदक से संतोष करना पड़ा. मौजूदा चैम्पियन भारत को एक संघर्षपूर्ण मुकाबले में 24-27 से मात खानी पड़ी. एशियाई खेलों में ईरान का यह पहला स्वर्ण पदक है.

    एशियाई खेलों में यह पहली बार है, जब भारत के अलावा कोई अन्य टीम ने स्वर्ण पदक जीता है. 2010 में महिला कबड्डी को एशियाई खेलों में शामिल करने के बाद से भारत लगातार दो बार से स्वर्ण पदक जीतता आ रहा था.

    ईरान के लिए यह एक ऐतिहासिक जीत है क्योंकि उसके दोनों पुरुष और महिला टीम ने पहली बार फाइनल में प्रवेश किया है. ईरान की महिला टीम को पिछली बार 2014 के एशियाई खेलों के फाइनल में भारत से हारकर रजत पदक से संतोष करना पड़ा था.


    एशियाई खेलों में पहली बार हिस्सा ले रहीं भारतीय महिला कबड्डी टीम की कप्तान पायल चौधरी ने रेड मारकर भारत का खाता खोला. ईरान की रेडर सादिगेह जाफरी ने रेड मारकर स्कोर 2-2 से बराबर कर दिया.

    यहां रणदीप कौर खेरा, पायल और शोनाली की रेडिंग के साथ-साथ रितु नेगी और साक्षी के डिफेंस के दम पर भारत ने ईरान के खिलाफ 13-8 की बढ़त बना ली थी लेकिन ईरान ने अजादेह की रेडिंग और अपने डिफेंस से पहले हाफ में भारत के खिलाफ स्कोर 11-13 कर लिया.

    दूसरे हाफ में ईराने ने अच्छी वापसी की और अपने रेडिंग और डिफेंस से भारतीय टीम पर दबाव बनाते हुए 24-20 से बढ़त बना ली.

    यहां भारत की डिफेंडर रितु नेगी ने अच्छी कोशिश कर एक अंक लिया और भारत का स्कोर 21-14 किया. अपनी कमजोर रेडिंग के कारण भारत एक बार फिर ईरान से चार अंक से पिछड़ गया.

    भारत के पास अपनी हार को जीत में तब्दील करने के लिए केवल तीन मिनट का समय बाकी था.

    साक्षी ने सुपर रेड मारकर तीन अंक लिए और पासा पलटते हुए स्कोर 25-25 कर दिया था लेकिन ईरान ने यहां आखिर में दम लगाते हुए इस मैच को 27-24 से जीत कर स्वर्ण पदक जीत लिया.

    महिला टीम के कोच श्रीनिवास रेड्डी ने कहा कि भारतीय टीम अब अपने विरोधियों को हलके में नहीं ले सकती क्योंकि वे हमारे खेल को करीब से देख रहे हैं.

    उन्होंने कहा, ‘हां, इस हार से दुख हो रहा है क्योंकि हम यहां स्वर्ण पदक की हैट्रिक लगाने आये थे. यह खेल अब वैश्विक हो गया है. दूसरी टीमें भी अब अपने मौके तलाश रही है. यह अब ओलंपिक खेल बनने की ओर है.’

    साथ ही उन्होंने कहा, ‘चीनी ताइपे ने 2014 में यह खेल खेलना शुरू किया लेकिन वह इस बार पोडियम (कांस्य पदक) पर है. इसका यह मतलब है कि ये खेल तेजी से आगे बढ़ रहा है. यह कबड्डी की जीत है.’

    Tags: Asian Games 2018

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर