लाइव टीवी

बेल्जियम ओपन जीतने से बढ़ा है लक्ष्य सेन का आत्मविश्वास, रैंकिंग में करना चाहते हैं और सुधार

News18Hindi
Updated: September 18, 2019, 8:07 PM IST
बेल्जियम ओपन जीतने से बढ़ा है लक्ष्य सेन का आत्मविश्वास, रैंकिंग में करना चाहते हैं और सुधार
लक्ष्य सेन बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग में शीर्ष 100 में मौजूद हैं

लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) ने पिछले शनिवार को डेनमार्क (Denmark) के विक्टर स्वेंडनसन (Victor Svendsen) को सीधे गेम में हराकर बेल्जियम अंतरराष्ट्रीय चैलेंज (Belgian Open title) में पुरुष सिंगल्स का खिताब जीता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2019, 8:07 PM IST
  • Share this:
भारत के शटलर लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) को बेल्जियम ओपन (Belgium Open) में जीत के बाद अपने प्रदर्शन में निरंतरता बरकरार रखना चाहते हैं और उनकी निगाह विश्व रैंकिंग (BWF Ranking) में शीर्ष 50 में जगह बनाने पर है जिससे उन्हें अगले सत्र में बड़े टूर्नामेंट के लिए क्वालिफाई करने में मदद मिलेगी. अल्मोड़ा के 18 वर्षीय सेन ने पिछले शनिवार को डेनमार्क (Denmark) के विक्टर स्वेंडनसन को को सीधे गेम में हराकर बेल्जियम अंतरराष्ट्रीय चैलेंज (Belgium challenge) में पुरुष सिंगल्स का खिताब जीता.

टूर्नामेंट में एक भी गेम नहीं गंवाने वाले लक्ष्य ने पीटीआई से कहा, ‘मैंने पूरे सप्ताह लगातार अच्छा खेल दिखाया और मैं अपने प्रदर्शन से खुश हूं. ’ उन्होंने कहा, ‘इस जीत से मेरा आगामी टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करने के लिये आत्मविश्वास बढ़ा है.’

सेन ने कहा, ‘इस साल मैं सीनियर सर्किट में पिछले साल की तुलना में अधिक टूर्नामेंट खेल सकता हूं और मुझे सभी टूर्नामेंट के लिये अच्छी तरह से तैयार रहने की उम्मीद है.’

इस साल मार्च में शीर्ष 100 पहुंचे थे लक्ष्य सेन

सीनियर सर्किट पर पहली बार पूरे सत्र में खेल रहे लक्ष्य इस साल मार्च में शीर्ष 100 में पहुंचे. बेल्जियम ओपन में जीत से वह बीडब्ल्यूएफ विश्व रैंकिंग में 12 पायदान ऊपर 67वें स्थान पर पहुंच गए. साई कोच और लक्ष्य के पिता डीके सेन ने कहा कि उनका बेटे को जल्द ही शीर्ष 50 में जगह बनानी होगी. उन्होंने कहा, ‘अब लक्ष्य इस साल के आखिर में शीर्ष 50 में जगह बनाना होगा जिससे वह बड़े टूर्नामेंट के लिए क्वालिफाई कर सकता है.’

भारत के उभरते बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने दूसरी वरीयता प्राप्त डेनमार्क के विक्टर स्वेंडसन  को हराकर बेल्जियन इंटरनेशनल चैलेंज का खिताब अपने नाम किया था. यूथ ओलिंपिक के सिल्वर मेडलिस्ट लक्ष्य को पुरुष एकल का खिताब अपने नाम करने में सिर्फ 34 मिनट ही लगे. उन्होंने विक्टर को सीधे गेम में 21-14, 21-15 से हराया. एशियाई जूनियर चैंपियन अल्मोड़ा के लक्ष्य ने डेनमार्क के किम ब्रुन को 48 मिनट में हराकर फाइनल में प्रवेश किया था. उन्होंने किम ब्रुन को 21-18, 21-11 से मात दी थी.

विनेश फोगाट ने जीता ब्रॉन्ज मेडल, ओलिंपिक कोटा भी हासिल कियामेसी से ज्यादा बैलन डी'ओर का हकदार हूं मैं - क्रिस्टियानो रोनाल्डो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 8:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर