महिला हॉकी टीम की मिडफील्डर मोनिका बोलीं- अब ट्रेनिंग सेशन की अहमियत समझने लगे

भारतीय महिला हॉकी टीम का टोक्यो ओलिंपिक में पहला मुकाबला नीदरलैंड्स से होगा. (Hockey India twitter)

भारतीय महिला हॉकी टीम की मिडफील्डर मोनिका ने कहा कि पहले हम आंख मूंदकर वही करते थे, जो कोच कहता था. लेकिन तकनीक के आने के बाद हमें ट्रेनिंग सेशन का उद्देश्य समझ आने लगा है.

  • Share this:
    बेंगलोर. भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी अब तकनीक को बेहतर तरीके से समझने लगी हैं. इसका उन्हें फायदा भी मिल रहा है. पहले जहां वो कोच के निर्देशों का आंख मूंदकर पालन करती थीं, वहीं अब ट्रेनिंग सेशन के पीछे के उद्देश्य को समझ रही हैं. भारतीय महिला हॉकी टीम की मिडफील्डर मोनिका ने सोमवार को ये बातें कहीं. उनके मुताबिक, जब से तनकीक आधारित ट्रेनिंग सेशन शुरू हुए हैं, टीम के खेल में काफी सुधार आय़ा है.

    रियो ओलंपिक 2016 में खेलने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रही मोनिका ने कहा कि शनिवार को सुबह का सत्र सबसे कड़ा होता है. इसमें मैच की परिस्थितियों को ध्यान में रखकर कड़ा अभ्यास किया जाता है. उन्होंने कहा कि प्रत्येक सत्र में तेजी या दमखम पर ध्यान दिया जाता है. हम हफ्ते में ऐसे दो या तीन सेशन करते हैं. इस सेशन में यकीकन हमारे फिटनेस के स्तर की कड़ी परीक्षा होती है.मोनिका ने कहा कि टीम अब प्रत्येक सत्र के महत्व को समझती है.

    उन्होंने आगे कहा कि हमारी हर सेशन और उससे मिलने वाली सीख को लेकर जागरूकता पहले से बेहतर हुई है. पहले हम आंख मूंदकर वही करते थे जो कोच कहता था. चंडीगढ़ की रहने वाली इस खिलाड़ी ने कहा कि कोचिंग स्टाफ हर हफ्ते के ट्रेनिंग सेशन के लिए इस तरह से योजना तैयार करता है. ताकि टीम सही समय पर अपने चरम पर रहे. भारतीय मिडफील्डर ने कहा कि हमारा ध्यान अब अपने कमजोर पक्षों पर काम करने पर है. हमारा लक्ष्य सही समय पर अपने खेल के शिखर पर पहुंचना है. हर​ खिलाड़ी के वर्कलोड पर गौर किया जाता है और उसी हिसाब से उसके खेल में जरूरी सुधार का आकलन किया जाता है.

    भारत के खिलाफ सीरीज से पहले श्रीलंका के खिलाड़ियों ने दी संन्यास की धमकी!

    टोक्यो ओलिंपिक में अब 75 दिन से भी कम का वक्त बचा है. ऐसे में टीम की तैयारियों को देखते हुए मोनिका को इन खेलों में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि कुछ खिलाड़ियों के कोरोना संक्रमित होने के कारण तैयारी पर असर पड़ा था. लेकिन अब सब स्वस्थ हो चुके हैं. ऐसे में हम दोगुने जोश के साथ टोक्यो गेम्स की तैयारी में जुट गए हैं.