भारतीय पहलवानों के पास ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई करने का अंतिम मौका

अमित धनखड़ को टोक्यो खेलों के लिए क्वॉलिफाई करने का मौका मिला (Amit dhankhar/Instagram)

अमित धनखड़ को टोक्यो खेलों के लिए क्वॉलिफाई करने का मौका मिला (Amit dhankhar/Instagram)

तीन बार के राष्ट्रमंडल चैंपियन 32 साल के अमित धनखड़ अधिकतर मौकों पर बड़ी प्रतियोगिताओं से बाहर रहे, क्योंकि अपने करियर के दौरान उन्हें 66 किग्रा वर्ग में योगेश्वर दत्त को पछाड़ने के लिए जूझना पड़ा.

  • Share this:

सोफिया (बुल्गारिया). अमित धनखड़ को अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के अंतिम चरण में टोक्यो खेलों के लिए क्वॉलिफाई करने का मौका मिला है और यह अनुभवी पहलवान गुरुवार से यहां शुरू हो रहे विश्व ओलंपिक क्वॉलिफायर में 11 अन्य भारतीय पहलवानों के साथ अपना सब कुछ झोंकने के इरादे से उतरेगा. तीन बार के राष्ट्रमंडल चैंपियन 32 साल के अमित धनखड़ अधिकतर मौकों पर बड़ी प्रतियोगिताओं से बाहर रहे, क्योंकि अपने करियर के दौरान उन्हें 66 किग्रा वर्ग में योगेश्वर दत्त को पछाड़ने के लिए जूझना पड़ा. धनखड़ ने पिछला बड़ा पदक चीन के शियान में 2019 एशियाई चैंपियनशिप के 74 किग्रा वर्ग में रजत पदक के रूप में जीता था.

ट्रायल में हार के बाद धनखड़ की टोक्यो खेलों के लिए क्वॉलिफाई करने की उम्मीद टूट गई थी लेकिन अल्माटी में एशियाई क्वॉलिफायर में राष्ट्रीय चैंपियन संदीप सिंह मान के खराब प्रदर्शन के बाद राष्ट्रीय महासंघ ने धनखड़ को सोफिया में मौका देने का फैसला किया. धनखड़ ट्रायल में दूसरे स्थान पर रहे थे. दुनिया के सभी पहलवानों के लिए स्थगित हो चुके तोक्यो खेलों के लिए क्वॉलिफाई करने का यह अंतिम मौका है.

इस प्रतियोगिता में विभिन्न वर्गों में सात ओलंपिक पदक विजेता दावेदारी पेश करेंगे. फाइनल में जगह बनाने वाले दो खिलाड़ी ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई करेंगे. फ्रीस्टाइल वर्ग में धनखड़ के अलावा 2018 राष्ट्रमंडल खेलों के चैंपियन सुमित मलिक (125 किग्रा) और सत्यव्रत कादियान (97 किग्रा) भी चुनौती पेश करेंगे. मलिक के पास अल्माटी में क्वॉलिफाई करने का मौका था लेकिन उन्होंने इसे गंवा दिया.

महिला वर्ग में सीमा बिस्ला (50 किग्रा) भारत की सबसे मजबूत दावेदार हैं. विनेश फोगाट के 53 किग्रा वर्ग में जाने के बाद सीमा ने अच्छा प्रदर्शन किया है. हाल में एशियाई चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने से उनका मनोबल बढ़ा होगा. निशा (68 किग्रा) और पूजा (76 किग्रा) ने अंतरराष्ट्रीय सीनियर स्तर पर अपनी यात्रा शुरू की है और इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने से उन्हें फायदा ही होगा. पूजा ने हाल में अल्माटी में दोनों एशियाई प्रतियोगिताओं में कांस्य पदक जीते.
ग्रीको रोमन वर्ग में सभी की नजरें एशियाई चैंपियन गुरप्रीत सिंह (77 किग्रा) पर होंगी. सचिन राणा (60 किग्रा), आशु (67 किग्रा), सुनील (87 किग्रा), दीपांशु (97 किग्रा) और नवीन कुमार (130 किग्रा) टीम के अन्य सदस्य हैं. छह भारतीय पहलवानों ने अब तक तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई किया है जिसमें पुरुष फ्रीस्टाइल में रवि दाहिया (57 किग्रा), बजरंग पूनिया (65 किग्रा) और दीपक पूनिया (86 किग्रा) शामिल हैं. महिला वर्ग में विनेश फोगाट (53 किग्रा), अंशु मलिक (57 किग्रा) और सोनम मलिक (62 किग्रा) क्वॉलिफाई कर चुकी हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज