40 यार्ड से किया था दमदार गोल, अब विदेश के लिए मिली बड़ी स्कॉलरशिप

भारत की युवा फुटबॉलर डालिमा छिब्बर (Dalima Chibber) ने सालभर पहले एक ऐसा गोल किया था, जो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था.

News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 5:54 PM IST
40 यार्ड से किया था दमदार गोल, अब विदेश के लिए मिली बड़ी स्कॉलरशिप
डालिमा इस सप्ताह के अंत तक कनाडा के लिए रवाना होंगी.
News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 5:54 PM IST
क्या आपने कभी सोचा है कि क्रिकेट (Cricket) के लिए क्रेजी देश में कोई गोल देखते ही देखते वायरल हो जाए. जहां क्रिकेटर्स के शानदार कैच, चौके छक्कों की बारिश,  फील्डिंग कुछ पल में भी वायरल हो जाते हैं. वहां एक महिला फुटबॉलर के गोल को लोगों ने बार- बार देखा और यह गोल किया था 20 साल की  दिल्ली की डालिमा छिब्बर (Dalima Chibber)  ने, जिन्हें फुटबॉल में दमदार प्रदर्शन के कारण कनाडा में पढ़ाई के लिए स्कॉलर‌शिप मिली है.

हाथ आए इस मौके ने इस भारतीय फुटबॉलर को पेशेवर फुटबॉलर के साथ खेलने का भी मौका दिया. डालिमा इस हफ्ते के अंत में कनाडा के लिए रवाना होंगी.

40 यार्ड से किया था दमदार गोल



दिल्ली की इस खिलाड़ी ने करीब सालभर पहले जवाहरलाल स्टेडियम में 40 यार्ड से एक ऐसा गोल किया गया था, जिसने हर किसी को चाैंका दिया था और यह गोल डालिमा का सुपर गोल रहा.

पूरा परिवार ही है खिलाड़ी 

डालिमा अपने परिवार की कोई पहली खिलाड़ी नहीं है, बल्कि खेल को लेकर जुनून तो उन्हें विरासत में ही मिली है. उनके पिता फुटबॉल कोच हैं, जिनसे ही डालिमा को फुटबॉल का शौक लगा.  इनकी मां भी पूर्व स्पोर्ट्सपर्सन रह चुकी हैं. डालिमा का छोटा भाई ट्रिपल जंपर और फुटबॉलर दोनों ही है. जबकि बड़ी बहन भी स्पोर्ट्स पर्सन रह चुकी है.  इंडियन वीमंस लीग में गोकुलम केरला के लिए खेलने वाली यह फुटबॉलर सीनियर में जाने से पहले अंडर-14, अंडर-16 और अंडर-19 में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी है.
Loading...

लड़कों के साथ शुरू किया था अभ्यास

अपने पिता के साथ डालिमा (फाइल फोटो)


2019 सैफ वीमंस चैंपियनशिप की विजेता टीम की सदस्य डालिमा बचपन में अपने पिता के साथ फुटबॉल मैदान पर चली जाती थी. जहां वह लड़कों को फुटबॉल खेलते हुए देखा करती थी. उस समय वहां एक भी लड़की फुटबॉल खेलते हुए नहीं दिखी. इसीलिए उन्हें बॉल को किक करने की आदत हो गई और इसी से फुटबॉल की ओर उनका रुझान भी होने लगा. 11 साल की उम्र में डालिमा ने पहला नेशनल खेला था.

कमरे में रोनाल्डिन्हो के पोस्टर

पहला नेशनल खेलने तक डालिमा दिग्गज फुटबॉलर रोनाल्डिन्हों की फैन बन ही गई थी. उनका कमरा रोनाल्डिन्हो के पोस्टर से ही सजा रहता था. वह उनके आर्टिकल्स पढ़ना भी नहीं भूलती थी. डालिमा के अनुसार एक बार इस खेल काे पसंद करने के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और इसी खेल में करियर बनाने का फैसला लिया.
First published: August 7, 2019, 5:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...