जानिए कौन हैं सुमित नागल, जिन्होंने रोजर फेडरर को पहले सेट में दी मात

News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 11:24 AM IST
जानिए कौन हैं सुमित नागल, जिन्होंने रोजर फेडरर को पहले सेट में दी मात
भारत के सुमित नागल का यूएस ओपन के मुख्य ड्रॉ के पहले राउंड में रोजर फेडरर से मुकाबला होगा

सुमित नागल (Sumit Nagal) के अंदर छिपी इस प्रतिभा को उनके पिता ने आठ वर्ष की उम्र में ही पहचान लिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2019, 11:24 AM IST
  • Share this:
भारत के युवा टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल (Sumit Nagal) ने 20 बार के ग्रैंड स्लैम विजेता रोजर फेडरर (Roger Federer) को यूएस ओपन के पहले दौर के मुकाबले में कड़ी टक्कर दी. दोनों के बीच मंगलवार को यूएस ओपन (US Open) के मुख्य ड्रॉ के पहले राउंड का मुकाबला खेला गया, जिसमें नागल ने शुरुआती सेट में फेडरर को 6-4 से हराकर तहलका मचा दिया. हालांकि अंत में फेडरर इस मुकाबले में 4-6, 6-1, 6-2, 6-4 से जीत दर्ज करने में सफल रहे.

सुमित ने शुक्रवार को अंतिम क्वालीफाइंग दौर में ब्राजील के जोआओ मेनेजेस को दो घंटे 27 मिनट में 5-7, 6-4, 6-3 से हराकर साल के अंतिम ग्रैंड स्लैम के मुख्य ड्रॉ में जगह बनाई थी. इसी के साथ 22 साल का यह खिलाड़ी इस एक दशक में ग्रैंड स्लैम एकल मुख्य ड्रॉ में खेलने वाला पांचवां भारतीय बन गया है. उनसे पहले सोमदेव देववर्मन, युकी भांबरी, साकेत मायनेनी और प्रजनेश गुणेश्वरन टेनिस ग्रैंड स्लैम में खेल चुके हैं.

जीत चुके हैं जूनियर ग्रैंड स्लैम

लंबे समय बाद ग्रैंड स्‍लैम में दो भारतीय खिलाड़ी उतरेंगे


सुमित नागल ने 2015 में जूनियर विंबलडन ग्रैंड स्लैम जीता था और वह इसे जीतने वाले छठें भारतीय बने थे. उन्होंने वियतना के नाम हाओंग लि के साथ मिलकर विंबलडन में लड़कों के वर्ग का युगल खिताब जीता था. प्रजनेश भी इसी अमेरिकी ओपन में खेल रहे हैं जिससे भारत के दो खिलाड़ी 1998 के बाद पहली बार ग्रैंड स्लैम में भाग लेंगे. 1998 में महेश भूपति और लिएंडर पेस विंबलडन में खेले थे.

आठ साल की उम्र में शुरू किया खेलना  

हरियाणा ने सुमित नागल ने आठ साल की उम्र में टेनिस खेलना शुरू किया था. उनके परिवार में किसी को भी इस खेल में कोई खास रूचि नहीं थी, बस उनके पिता इस खेल में रूचि रखते थे और उन्होंने ही सुमित को टेनिस खिलाड़ी बनाने के बारे में सोचा. इसी वजह से परिवार दिल्ली में आकर रहने लगा. सुमित के पिता उन्हें अभ्यास कराने के लिए हर जगह पर ले जाते थे.  2010 में एक टैलेंट सर्च प्रतियोगिता में सुमित चुन लिए गए और यहीं से उनका आगे का सफर शुरू हुआ.
Loading...

10वां विकेट और 10 ओवर...बेन स्टोक्स ऐसे बन गए विस्फोटक

बयां करने के लिये शब्द नहीं हैं: सिंधु

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 11:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...