• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • वरूण भारतीय ओलंपिक हॉकी इतिहास का हिस्सा बनकर खुश, कप्तान के लिए कही बड़ी बात

वरूण भारतीय ओलंपिक हॉकी इतिहास का हिस्सा बनकर खुश, कप्तान के लिए कही बड़ी बात

हिमाचल प्रदेश के वरूण कुमार टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम में शामिल थे. (Varun kumar twitter)

हिमाचल प्रदेश के वरूण कुमार टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम में शामिल थे. (Varun kumar twitter)

Tokyo Olympics: ओलंपिक के लिए भारत की 16 सदस्यीय टीम में जगह नहीं पाने के बाद भारतीय पुरूष हॉकी टीम के डिफेंडर वरूण कुमार निराश थे, लेकिन कोरोना महामारी के बीच ‘वैकल्पिक खिलाड़ी’के रूप में वह टीम का हिस्सा बने और उन्हें खुशी है कि अपने पहले ही ओलंपिक में कांस्य पदक जीत सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. ओलंपिक के लिए भारत की 16 सदस्यीय टीम में जगह नहीं पाने के बाद भारतीय पुरूष हॉकी टीम के डिफेंडर वरूण कुमार निराश थे, लेकिन वह कोरोना महामारी के बीच ‘वैकल्पिक खिलाड़ी’के रूप में टीम का हिस्सा बने और उन्हें खुशी है कि अपने पहले ही ओलंपिक में कांस्य पदक जीत सके. ड्रैग फ्लिकर वरूण और मिडफील्डर सिमरनजीत सिंह को ओलंपिक में पदार्पण का मौका मिला जब अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने महामारी के कारण टीम स्पर्धाओं में वैकल्पिक खिलाड़ियों को शामिल करने की मंजूरी दी.

    वरूण ने कहा कि ओलंपिक के लिये टीम की घोषणा हुई तो मेरा नाम 16 सदस्यों में नहीं था. मुझे वह दिन अच्छी तरह से याद है. मैं बहुत दुखी था. उन्होंने कहा कि लेकिन कुछ दिन बाद आईओसी ने 18 खिलाड़ियों को टीम में रखने की अनुमति दे दी. मुझे और सिमरनजीत को मौका मिला. यह बड़ी राहत की बात थी, लेकिन कहीं ना कहीं दिमाग में ये था कि अंतिम 16 में जगह नहीं मिल सकी थी और मैं खुद को साबित करना चाहता था.

    कप्तान मनप्रीत ने हौसला बढ़ाया था: वरूण
    वरूण ने कहा कि टोक्यो रवाना होने से पहले कप्तान मनप्रीत सिंह से बात करने से उन्हें काफी मदद मिली. मनप्रीत ने मुझसे काफी देर बात की और मानसिक रूप से मुझे तैयार किया. मनप्रीत का मेरे कैरियर पर बड़ा प्रभाव रहा है. हम एक ही अकादमी में खेलते थे और उससे बात करने से काफी मदद मिली. मैं इस तरह से सोचने लगा कि इस मौके का पूरा इस्तेमाल कैसे करना है.

    टोक्यो में पोडियम पर खड़ा होना यादगार
    उन्होंने आगे कहा कि टोक्यो का अनुभव कमाल का था. कांस्य पदक जीतना और पोडियम पर खड़ा होना शायद मेरे कैरियर का सर्वश्रेष्ठ पल था. अब मेरी प्राथमिकता अपने खेल को और बेहतर करने की है. टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज जीतने वाले वरुण कुमार को हिमाचल प्रदेश सरकार ने भी एक करोड़ रुपए का इनाम देने का ऐलान किया था. हिमाचल प्रदेश के सीएम जय राम ठाकुर ने विधानसभा में यह ऐलान किया था. साथ ही उन्हें डीएसपी बनाने की भी बात कही थी.

    Video: मैच के दौरान दर्शकों ने जमकर मचाया हुड़दंग, मौजूदा चैंपियन के फैंस से की हाथापाई

    बता दें कि भारत ने टोक्यो में 41 साल बाद ओलंपिक मेडल जीता था. भारत ने ब्रॉन्ज मेडल के लिए हुए मैच में जर्मनी को 5-4 से शिकस्त दी थी. भारत ने पिछली बार पदक 1980 के मॉस्को ओलंपिक में जीता था. तब भारत ने स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज