अवॉर्ड लौटाने की धमकी देने वाले खिलाड़ियों से IOA ने कहा, पुरस्‍कार और किसान आंदोलन दोनों को अलग देखें

किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए  विजेंदर सिंह  रविवार को उनके बीच गए थे

किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए विजेंदर सिंह रविवार को उनके बीच गए थे

किसानों के प्रति अपनी एकजुटता दिखाते हुए खेल रत्न पुरस्कार विजेता विजेंदर सिंह सहित पंजाब और हरियाणा के कुछ खिलाड़ियों ने अपने राष्ट्रीय खेल पुरस्कार वापस लौटाने की धमकी दी थी

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने नए कृषि कानूनों के विरोध का समर्थन करने वाले खिलाड़ियों से गतिरोध का समाधान करने के लिये सरकार पर भरोसा बनाये रखने का आग्रह करते हुए कहा कि उन्हें अपने राष्ट्रीय सम्मानों और विरोध को दो अलग अलग चीजों के रूप में देखना चाहिए.

किसानों के प्रति अपनी एकजुटता दिखाते हुए खेल रत्न पुरस्कार विजेता विजेंदर सिंह सहित पंजाब और हरियाणा के कुछ खिलाड़ियों ने अपने राष्ट्रीय खेल पुरस्कार वापस लौटाने की धमकी दी. आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा और महासचिव राजीव मेहता ने संयुक्त बयान में कहा कि हाल में खिलाड़ियों को मौजूदा किसान मसले के समर्थन में अपने राष्ट्रीय पुरस्कारों को लौटाने की घोषणा करते हुए देखा गया. राष्ट्रीय पुरस्कार और किसानों का मसला दो अलग अलग चीजें हैं.

बातचीत का इंतजार करें खिलाड़ी 



उन्होंने कहा कि प्रत्येक भारतीय जिनमें हम भी शामिल हैं, किसानों से प्यार और उनका समर्थन करते हैं और हम हमेशा चाहते हैं कि हमारा किसान समुदाय खुश रहे, क्योंकि वे हमारे देश के अन्नदाता हैं. आईओए अधिकारियों ने इस मसले के जल्द समाधान की उम्मीद जताई और खिलाड़ियों से सरकार और किसान नेताओं के बीच बातचीत के परिणाम का इंतजार करने का आग्रह किया.
यह भी पढ़ें : 

जेहान दारूवाला ने रचा इतिहास, बने F2 रेस जीतने वाले पहले भारतीय

बड़ी खबर: इंग्‍लैंड और साउथ अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज रद्द, बायो बबल में घुस गया था कोरोना

उन्होंने कहा कि सरकार और किसान नेताओं के बीच बातचीत चल रही है और हमें जल्द ही इस मामले के समाधान की उम्मीद है. ऐसे समय में हमें अपनी सरकार और बातचीत में भाग ले रहे किसान नेताओं पर भरोसा रखना चाहिए. एशियाई खेलों के दो बार के स्वर्ण पदक विजेता पूर्व पहलवान करतार सिंह की अगुआई में पंजाब के कुछ खिलाड़ियों ने किसानों के प्रति एकजुटता दिखाते हुए ‘35 राष्ट्रीय खेल पुरस्कार’ लौटाने के लिए राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज