Tokyo Olympic: आईओसी अध्यक्ष का टोक्यो दौरा 2 महीने बढ़ा, आयोजन पर संशय

टोक्यो ओलंपिक 23 जुलाई से होना है. (Tokyo Olympics Twitter)

टोक्यो ओलंपिक 23 जुलाई से होना है. (Tokyo Olympics Twitter)

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympic) की उलटी गिनती शुरू हो गई है. इस बीच आईओसी थॉमस बाक (Thomas Bach) जुलाई में टोक्यो जाएंगे. पहले वे मई में जाने वाले थे. दौरे में लंबा अंतर होने के बाद गेम्स के आयोजन पर सवाल उठने लगे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympic) के शुरू होने में लगभग दो महीने का समय बचा है. इस लेकर इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी (IOC) के अध्यक्ष थॉमस बाक (Thomas Bach) जापान जाने की तैयारी में जुट गए हैं. बाक पहले मई के मध्य में जापान का दौरा करने वाला थे, लेकिन बढ़ते कोरोना केस के कारण उनके इस दौरे को स्थगित करना पड़ा था. वे अब 12 जुलाई को जापान जाएंगे. गेम्स की शुरुआत 23 जुलाई से होनी है.

थॉमस बाक के पहले दौर से उम्मीद थी कि वह हिरोशिमा में पिछले हफ्ते हुए टोर्च रिले इवेंट में भी शामिल होंगे, लेकिन इससे पहले ही जापान में बढ़ते हुए केस के कारण थॉमस बाक ने अपना जापान का दौरा स्थगित कर दिया था. इस बीच एक रिपोर्ट के अनुसार जापान में 80 फीसदी लोग कोरोना के बीच दुनिया के सबसे बड़े खेल आयोजन टोक्यो ओलंपिक को कराने के पक्ष में नहीं है. ऐसे में आयोजकों की चिंताएं एक बार फिर जरूर बढ़ गई होगी. ओलंपिक को पहले ही एक साल आगे बढ़ाया जा चुका है. पहले इसका आयोजन 2020 में होना था. बाक के दौरे को लंबा बढ़ाने के बाद से आयोजन पर सवाल उठने लगे हैं.

उपाध्यक्ष खिलाड़ियाें और स्पॉन्सर से मिले थे

आईओसी के उपाध्यक्ष जॉन कॉट्स ने अध्यक्ष बाक के प्लान के बारे में बताया. वे आईओसी कोऑर्डिनेशन कमिशन की तैयारियों की मॉनिटरिंग कर रहे हैं. कॉट्स ने 15 मई को टोक्यो का दौरा किया था. इस दौरान वे खिलाड़ियों, स्पॉन्सर और दूसरे लोगों से मिले थे. इस दौरान वे मुख्य स्टेडियम के दौरान टेस्ट इवेंट में भी शामिल हुए. टेस्ट इवेंट के दौरान स्टेडियम के बाहर लोग आयोजन को लेकर विरोध कर रहे थे.
यह भी पढ़ें: टीम इंडिया के पूर्व कोच ग्रेग चैपल फिर गांगुली पर बरसे, बोले- वे मेहनत नहीं करना चाहते थे

विदेशी फैंस नहीं आ सकेंगे

आयोजकों ने पहले ही साफ कर दिया है कि ओलंपिक के दौरान विदेशी फैंस को जापान आने की इजाजत नहीं होगी. हालांकि घरेलू फैंस को लेकर अब तक कोई निर्णय नहीं हुआ है, क्या उन्हें स्टेडियम में आने की इजाजत मिलेगी या नहीं. इस बारे में जून में फैसला हाे सकता है. जापान किसी भी तरह गेम्स कराना चाहता है क्योंकि अब तक लगभग 90 हजार करोड़ रुपए से अधिक राशि खर्च की जा चुकी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज