जापान में ओलंपिक खेलों से पहले कोरोना वायरस आपातकाल में दी जाएगी ढील

टोक्यो ओलंपिक की शुरुआत 23 जुलाई से होनी है. (PIC: AP)

कोरोना वायरस के अधिक संक्रामक स्वरूपों के कारण हुए महामारी के प्रकोप को कम करने के लिए जापान मार्च माह के अंत से प्रयास कर रहा है.

  • Share this:
    टोक्यो. टोक्यो तथा अन्य छह क्षेत्रों में इस सप्ताहांत में कोरोना वायरस संबंधी आपातकाल में ढील देने के बारे में अपने फैसले की घोषणा जापान बृहस्पतिवार को करेगा. यहां संक्रमण के दैनिक नए मामले कम होते जा रहे हैं वहीं दूसरी ओर देश लगभग महीने भर बाद शुरू होने जा रहे ओलंपिक खेलों के लिए अंतिम तैयारी शुरू कर चुका है. कोरोना वायरस के अधिक संक्रामक स्वरूपों के कारण हुए महामारी के प्रकोप को कम करने के लिए जापान मार्च माह के अंत से प्रयास कर रहा है. तब दैनिक नए मामले सात हजार से अधिक हो गए थे और टोक्यो, ओसाका तथा अन्य महानगरीय क्षेत्रों के अस्पतालों में मरीजों की संख्या बहुत बढ़ गयी थी.

    हालांकि, उसके बाद से दैनिक मामलों में उल्लेखनीय कमी आई और उम्मीद है कि प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा आपातकाल में कुछ ढील देंगे. आपातकाल की अवधि रविवार को खत्म हो जाएगी. चिकित्सा क्षेत्र के विशेषज्ञों और जनता ने ओलंपिक खेलों के आयोजन में जोखिम को लेकर चिंता जताई है लेकिन सुगा ने कहा है कि वह ‘सुरक्षित’ ओलंपिक करवाने को लेकर मन बना चुके हैं. ओलंपिक खेल 23 जून से शुरू हो रहे हैं.

    वायरस समिति के विशेषज्ञ बृहस्पतिवार को बैठक करेंगे. हालांकि इससे पहले वे टोक्यो, ऐईची, होक्काईदो, ओसाका, क्योटो, ह्योगो और फुकुओका में आपातकाल में ढील देने की सरकार की योजना को प्रारंभिक मंजूरी दे चुके हैं. लेकिन ओकिनावा में पाबंदियां जस की तस रहेंगी क्योंकि वहां पर अस्पतालों में अब भी मरीजों की संख्या अधिक है.

    बता दें कि टोक्यो ओलंपिक की शुरुआत 23 जुलाई से होनी है. टोक्यो को जब गेम्स की मेजबानी सौंपी गई थी तब उसने स्वयं को सुरक्षित स्थल के रूप में पेश किया था, जबकि इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी (IOC) के तत्कालीन उपाध्यक्ष क्रेग रीडी ने ब्यूनस आयर्स में 2013 में वोटिंग के बाद कहा था कि निश्चित रूप से यह अहम मुद्दा होगी.

    गेम्स पिछले साल ही होने थे, लेकिन कोरोना के कारण इसे एक साल के लिए टाल दिया गया था. कोविड-19 के बढ़ते मामलों और जापान में खेलों के आयोजन को लेकर जनता के विरोध के बावजूद आयोजक और आईओसी गेम्स के आयोजन पर जोर दे रहे हैं. इस बार विदेशी फैंस के आने पर रोक लग सकती है. उत्तर कोरिया की टीम पहले ही खिलाड़ियों की सुरक्षा को देखते हुए गेम्स के हट चुकी है. इस बार गेम्स के आयोजन को लेकर कई अलग नियम और पाबंदियां होंगी. खिलाड़ियों का लक्ष्य मेडल जीतना होगा, लेकिन कुछ लोग सिर्फ इतना चाहेंगे कि बिना किसी समस्या के खेलों का आयोजन हो. इन खेलों के जरिए कोविड-19 संक्रमण ना फैले और राष्ट्रीय गौरव बना रहे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.