रियो में जियोः ये महिला तिकड़ी लगाएगी मेडल पर निशाना

रिलायंस जियो अब भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन का प्रिंसिपल पार्टनर बन गया है। कंपनी को रियो ओलंपिक के लिए जा रहे अब तक के सबसे बड़े भारतीय दल का स्पॉन्सर अधिकार मिल गया है।

  • News18India
  • Last Updated: August 2, 2016, 5:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। रिलायंस जियो अब भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन का प्रिंसिपल पार्टनर बन गया है। कंपनी को रियो ओलंपिक के लिए जा रहे अब तक के सबसे बड़े भारतीय दल का स्पॉन्सर अधिकार मिल गया है। रिलायंस एसोसिएशन इससे पहले भी फुटबॉल समेत देश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए कई प्रोग्राम चला रहा है।

आईबीएन7 अपनी खास पेशकश रियो में जियो के जरिए उन एथलीट्स के बारे में बता रहा है जो रियो ओलंपिक में भारत के लिए मेडल की सबसे बड़ी उम्मीद हैं। इसी क्रम में निशानेबाजी में तीन महिला एथलीट्स भारत की झोली में पदक डाल सकती हैं।

पटियाला, राजनीति और इतिहास के लिहाज से पंजाब का एक अहम शहर है लेकिन, खेल प्रेमियों के लिए इस शहर की पहचान हिना सिद्धू से है जो रियो ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीतने की अहम दावेदारों में से एक हैं। हिना कहती हैं कि जब मैंने शूटिंग शुरू की थी तो ओलंपिक गोल्ड जीतना मेरा सपना नहीं था, मेरा सपना था वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना।



हिना उस वक्त सुर्खियों में आईं जब 2013 के अंत में उन्होंने रिकॉर्ड ब्रेकिंग स्कोर के साथ वर्ल्ड कप में गोल्ड जीता। उनके बेहतरीन फॉर्म का आलम ये रहा कि वो 2014 की शुरुआत में वर्ल्ड नंबर-एक भी बनीं। उनके पति जाने-माने निशानेबाज रौनक पंडित कहते हैं कि  हिना मुझसे बहुत ही ज्यादा अनुशासित हैं, प्रतिभावान हैं, दृढ़ हैं और मेहनती भी हैं। तो अगर हम दोनों में से किसी एक के पास ओलंपिक मेडल आना होगा तो हिना मुझसे कहीं ज्यादा उसकी काबिल हकदार हैं।
पटियाला से थोड़ी दूर जयपुर से भी शूटिंग में मेडल की एक और तगड़ी दावेदार उभर कर आई हैं। वो उस नई पीढ़ी का हिस्सा हैं जो कुछ कर गुजरने की हसरत रखती है। राजघरानों की धरती रही जयपुर की होनहार खिलाड़ी अपूर्वी चंदेला ने 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को गोल्ड दिलाया था।

अपूर्वी कहती हैं कि  चाहे कोई अच्छा मैच हो या बुरा, आप हमेशा मुझे मुस्कुराता हुआ देखेंगे। अपूर्वी के घर में प्रेरणा के तौर पर लगी तस्वीरें उनके खुद के सपनों की तरफ इशारा करती हैं। उनके हीरो सिर्फ अपने खेल से ही जुड़े नहीं हैं।

अपूर्वी कहती हैं कि मैंने कई बड़े खिलाड़ियों की आत्मकथा पढ़ी। सचिन तेंदुलकर, रफेल नडाल, अभिनव बिंद्रा को भी पढ़ा। मैं उन किताबों से हर एक प्वॉइंट उठाती हूं और उसे शूटिंग में प्रयोग करती हूं। रियो ओलंपिक के लिए जगह पक्की करने वाली अपूर्वी दूसरी भारतीय शूटर थीं और वो भी अपने पहले ही प्रयास में। खेलों के इस महाकुंभ के लिए तैयारी करने के लिए अपूर्वी को एक साल से भी ज्यादा का वक्त मिला है।

अपूर्वी कहती हैं कि जब तक आपको अपने ऊपर पूरा विश्वास नहीं तो चाहे आप कितनी भी अच्छी तकनीक के साथ जाएं, आप विफल होंगे तो मैं अपने अंदर वही विश्वास पैदा करने की कोशिश करती हूं।  रियो में गोल्ड जीतने का सबसे पहला मौका 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में ही होगा। अपूर्वी की तरह अयोनिका पॉल की भी उस पदक पर नजरें हैं। अयोनिका कहती हैं कि आखिरकार ओलंपिक आ ही गया और पोडियम पर पहुंचने के लिए सिर्फ और सिर्फ जुनून की जरूरत है।

बचपन में अयोनिका एक चैंपियन स्विमर रहने के साथ-साथ एक बाल कलाकार के तौर पर कई टीवी एड्स पर भी आ चुकी हैं। उन्होंने बॉर्नवीटा, गुलाब जैम जेली, सलमान के साथ डोनियर सूटिंग्स की भी एड की हैं। मां अपर्णा पॉल कहती हैं कि मेरी दोनों ही बेटियां मल्टी टैलेंटिड हैं। जो उसने बोला है उसे वो करके दिखाती है।

(डिस्क्लोजरः आईबीएनखबर.कॉम रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इनवेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है। रिलायंस जियो का स्वामित्व भी रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है।)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज