लाइव टीवी

निकहत जरीन की शिकायत पर बोले खेल मंत्री- फेडरेशन खेल के हित में फैसला करे

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 3:23 PM IST
निकहत जरीन की शिकायत पर बोले खेल मंत्री- फेडरेशन खेल के हित में फैसला करे
निकहत जरीन मैरीकॉम की 51 किग्रा की कैटेगरी में लड़ती हैं

निकहत जरीन (Nikhat Zareen) ने गुरुवार को ट्वीट करके खेल मंत्री किरण रीजीजू (Kiren Rijiju) से निष्पक्ष मौके की मांग की थी

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 3:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. खेल मंत्री किरण रीजीजू (Kiren Rijiju) ने मुक्केबाज निकहत जरीन (Nikhat Zareen) की एम सी मैरीकॉम (MC Marykom) के खिलाफ ट्रायल मुकाबला कराने की मांग से उठे विवाद में शुक्रवार को स्पष्ट किया कि वह महासंघ (Boxing Federation of India) को केवल देश और खिलाड़ियों के हित में सर्वश्रेष्ठ फैसला करने के लिए कह सकते हैं.

जरीन (Nikhat Zareen)  ने गुरुवार को रीजीजू (Kiren Rijiju)  को पत्र लिखकर चीन (China) में अगले साल होने वाले ओलिंपिक क्वालिफायर (Olympic Qualifier) के लिए भारतीय टीम (Indian Team) के चयन से पहले मैरीकॉम (MC Marykom) के खिलाफ ट्रायल मुकाबला आयोजित करने की मांग की थी.

निकहत जरीन ने खेल मंत्री को लिखा था पत्र
इससे पहले भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (BFI) ने कहा था कि मैरीकॉम (51 किग्रा) के हाल में रूस में विश्व चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीतने के प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए वह छह बार की विश्व चैंपियन को चुनने का इरादा रखता है. इसके बाद ही जरीन ने यह पत्र लिखा.

mary kom, nikhat zareen, women world boxing championship, loblina borgohain, boxer nikhat zareen, निकहत जरीन, मेरी कॉम, इंडियन बॉक्सिंग, महिला वर्ल्‍ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप
निकहत जरीन भी एक बार वर्ल्‍ड चैंपियनशिप खेल चुकी हैं.


रीजीजू ने जरीन के पत्र के जवाब में कहा, ‘मैं निश्चित तौर पर मुक्केबाजी महासंघ को देश, खेल और खिलाड़ियों के सर्वश्रेष्ठ हितों को ध्यान में रखते हुए फैसला करने के लिये कहूंगा. मंत्री को हालांकि खेल संघों द्वारा खिलाड़ियों के चयन में शामिल नहीं होना चाहिए क्योंकि खेल संघ ओलिंपिक चार्टर के अनुसार स्वायत्त हैं. ’

मैरीकॉम BFI के फैसले का करेगी सम्मान
Loading...

मैरीकॉम ने पहले ही साफ कर दिया था कि वह बीएफआई के फैसले के अनुसार चलेगी. बीएफआई ने पहले कहा था कि विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण और रजत पदक विजेता मुक्केबाजों का ही ओलिंपिक क्वालिफायर के लिये सीधे चयन होगा.

जरीन को विश्व चैंपियनशिप से पहले भी ट्रायल मुकाबले का मौका नहीं दिया गया था. महासंघ ने तब इंडिया ओपन और प्रेसीडेंट कप में स्वर्ण पदक जीतने के कारण मैरीकॉम का चयन करने का फैसला किया था. जरीन को भारत के एकमात्र व्यक्तिगत ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता और दिग्गज निशानेबाज अभिनव बिंद्रा का भी समर्थन मिला है. बिंद्रा ने ट्वीट किया ,‘मैरीकॉम का मैं पूरा सम्मान करता हूं लेकिन खिलाड़ी को अपने करियर में बार बार सबूत देने पड़ते हैं. यह सबूत कि हम आज भी कल की तरह खेल सकते हैं. कल से बेहतर और आने वाले कल से बेहतर. खेल में बीता हुआ कल मायने नहीं रखता.’

क्लब से नहीं इंस्टाग्राम से मोटी कमाई करते हैं रोनाल्डो, मिलते हैं मेसी से दोगुने पैसे, जानिए कैसे

INDvBAN: बांग्लादेश की टीम में तीन साल बाद वापसी करेगा बैन झेल चुका यह खिलाड़ी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 2:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...