लाइव टीवी

सचिन तेंदुलकर ने खोला राज, पहले ट्रायल में क्यों नहीं हुआ था चयन

News18Hindi
Updated: October 25, 2019, 6:49 PM IST
सचिन तेंदुलकर ने खोला राज, पहले ट्रायल में क्यों नहीं हुआ था चयन
पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर सबसे कामयाब क्रिकेटर में शामिल हैं

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) क्रिकेट में 100 शतक लगाने वाले इकलौते क्रिकेट हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 25, 2019, 6:49 PM IST
  • Share this:
मुंबई. भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने शुक्रवार को खुलासा किया कि पहले चयन ट्रायल के दौरान उनका चयन नहीं किया गया था जिसने उन्हें अपने खेल पर और कड़ी मेहनत करने के लिये प्रेरित किया. तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने मराठी में लक्ष्मणराव दुरे स्कूल के छात्रों के साथ बात करते हुए कहा, ‘जब मैं छात्र था तो मेरे दिमाग में सिर्फ एक ही चीज थी, भारत के लिये खेलना. मेरी यात्रा 11 साल की उम्र में शुरू हुई थी.’

पहले चयन में सेलेक्ट नहीं हुए थे सचिन
उन्होंने कहा, ‘मुझे यहां तक याद है कि जब मैं अपने पहले चयन ट्रायल के लिये गया था तो मुझे चयनकर्ताओं ने चुना नहीं था. उन्होंने कहा था कि मुझे और कड़ी मेहनत करके खेल में सुधार करने की जरूरत है.’ तेंदुलकर ने कहा, ‘उस समय मैं निराश था क्योंकि मुझे लगा कि मैं अच्छी बल्लेबाजी करता था लेकिन नतीजा उम्मीदों के अनुरूप नहीं था और मुझे नहीं चुना गया था. लेकिन इसके बाद मेरा ध्यान, प्रतिबद्धता और कड़ी मेहनत करने की क्षमता और ज्यादा बढ़ गयी. अगर आप अपने सपनों को साकार करना चाहते हो तो ‘शॉर्ट-कट’ से मदद नहीं मिलती.’

सचिन ने कोच आचरेकर को दिया सफलता का श्रेय

cricket news, sachin tendulkar, sourav ganguly, bcci, bcci cricket, indian cricket team, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, बीसीसीआई, बीसीसीआई अध्यक्ष, क्रिकेट न्यूज, भारतीय क्रिकेट टीम, बीसीसीआई क्रिकेट, bcci president
सचिन तेंदुलकर मौजूदा समय में टेस्ट और वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं. (फाइल फोटो)


सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) क्रिकेट में 100 शतक लगाने वाले इकलौते क्रिकेट हैंउन्होंने टेस्ट में 15,921 और वनडे में 18,426 रन बनाये हैं. इस यात्रा में सहयोग करने के लिये तेंदुलकर ने अपने परिवार और कोच रमाकांत अचरेकर को श्रेय देते हुए कहा, ‘‘मेरी सफलता मुझे अपने परिवार के सभी सदस्यों की मदद से मिली. मैं अपने माता पिता से शुरूआत करूंगा, जिनके बाद मेरे भाई अजीत और बड़े भाई नितिन ने सहयोग किया. ’

तेंदुलकर ने कहा, ‘मेरी बड़ी बहन (जो शादी के बाद पुणे में हैं) ने मेरी मदद की. बल्कि मेरी बहन ने मुझे मेरी जिंदगी का पहला क्रिकेट बल्ला भेंट किया था. ’ उन्होंने कहा, ‘शादी के बाद पत्नी अंजलि और बच्चे सारा और अर्जुन तथा अंजलि के माता-पिता ने मेरा सहयोग किया. मेरे अंकल और आंटी और कई अन्य लोग भी इसके लिये मौजूद रहे. और अंत में निश्चित रूप से रमाकांत अचरेकर सर. ’
Loading...

सुनील गावस्कर ने किया खुलासा, अगर क्रिकेटर नहीं होते तो आज कर रहे हाेते ये काम

जसप्रीत बुमराह की फिटनेस पर आई बड़ी खबर, जानिए सर्जरी को लेकर क्या है प्लान?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 6:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...