लाइव टीवी

Belgian International Challenge: 18 साल के लक्ष्य का कमाल, दूसरी रैंकिंग के खिलाड़ी को हराकर बने चैंपियन

News18Hindi
Updated: September 15, 2019, 11:23 AM IST
Belgian International Challenge: 18 साल के लक्ष्य का कमाल, दूसरी रैंकिंग के खिलाड़ी को हराकर बने चैंपियन
जीत के बाद ट्रॉफी के साथ लक्ष्य सेन और रनरअप विक्टर

लक्ष्य सेन ( Lakshya Sen) ने 34 मिनट में डेनमार्क के विक्टर स्वेंडसन (Victor Svendsen) को सीधे गेम में मात दी

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2019, 11:23 AM IST
  • Share this:
बेल्जियम. भारत के उभरते बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) ने दूसरी वरीयता प्राप्त डेनमार्क के विक्टर स्वेंडसन (Victor Svendsen) को हराकर बेल्जियन इंटरनेशनल चैलेंज (Belgian International Challenge) का खिताब अपने नाम कर लिया. यूथ ओलिंपिक के सिल्वर मेडलिस्ट लक्ष्य (Lakshya Sen)  को पुरुष एकल का खिताब अपने नाम करने में सिर्फ 34 मिनट ही लगे. उन्होंने विक्टर (Victor Svendsen) को सीधे गेम में 21-14, 21-15 से हराया. एशियाई जूनियर चैंपियन अल्मोड़ा के लक्ष्य (Lakshya Sen) ने डेनमार्क के किम ब्रुन (Kim Bruun) को 48 मिनट में हराकर फाइनल में प्रवेश किया था. उन्होंने किम ब्रुन (Kim Bruun)  को 21-18, 21-11 से मात दी थी.

इस  पहले लक्ष्य (Lakshya Sen)  नेदरलैंड्स के शीर्ष वरीयता प्राप्त मार्क कालजोव के टूर्नामेंट से हटने से सेमीफाइनल में पहुंचे थे, जहां उन्होंने किम को मात देकर फाइनल में प्रवेश किया था. उससे पहले भारत के युवा बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य ने फिनलैंड के ईतू हेइनो केए 21-15, 21- 10 से हराकर क्वार्टरफाइनल में प्रवेश किया था.

Lakshya Sen, Belgian International Challenge, sports news, लक्ष्य सेन

जीत के बाद लक्ष्य  (Lakshya Sen) ने ट्वीट करके कहा कि बेल्जियन इंटरनेशनल चैलेंजर (Belgian International Challenge)  का खिताब जीतकर उन्हें काफी खुशी है और उन्होंने इस जीत का  श्रेय कोच और सपोर्ट स्‍टाफ को  दिया. लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) ने बैडमिंटन की दुनिया में पिछले साल तहलका मचा दिया था. उन्होंने यूथ ओलिंपिक में पुरुष एकल में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था. वहीं मिक्‍स्ड टीम इवेंट में टीम एल्फा को गोल्ड मेडल दिलवाने में अहम भूमिका निभाई थी. वहीं पिछले साल एशियन जूनियर चैंपियनशिप में उन्होंने दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी कुनलवुत को हराकर खिताब अपने नाम किया था. पिछले साल जीते इन दो बड़े खिताब के बाद  से ही खेल प्रेमी उनमें बैडमिंटन में भारत का भविष्य देखने लगे, जिसे वह काफी हद तक सही भी साबित कर रहे हैं.

World Boxing Championship: प्री क्वार्टरफाइनल में पहुंचे एशियन चैंपियन पंघाल

World Wrestling championship: भारत के लिए निराशा भरा रहा पहला दिन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 15, 2019, 11:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...