Home /News /sports /

Exclusive: नीरज चोपड़ा कोच विवाद- काशीनाथ नाइक का AFI पर पलटवार, बोले-जल्दी पता चल जाएगी सच्चाई

Exclusive: नीरज चोपड़ा कोच विवाद- काशीनाथ नाइक का AFI पर पलटवार, बोले-जल्दी पता चल जाएगी सच्चाई

नीरज चोपड़ा के पूर्व कोच काशीनाथ नाइक को लेकर AFI अध्यक्ष सुमारिवाला ने कहा था- मैं उन्हें नहीं जानता. (News18)

नीरज चोपड़ा के पूर्व कोच काशीनाथ नाइक को लेकर AFI अध्यक्ष सुमारिवाला ने कहा था- मैं उन्हें नहीं जानता. (News18)

एएफआई अध्यक्ष आदिल सुमारिवाला (Adille Sumariwalla) ने कहा था कि उन्होंने काशीनाथ नाइक का नाम कभी नहीं सुना. इसी पर काशीनाथ (Kashinath Naik) ने कहा कि वह नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) के पूर्व कोच रहे हैं और सुमारिवाला के साथ कई आधिकारिक बैठकों में भी हिस्सा लिया था.

अधिक पढ़ें ...

    बेंगलुरु. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) के गोल्ड मेडलिस्ट स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) के कोच को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. अब उनके पूर्व कोच काशीनाथ नाइक (Kashinath Naik) ने भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष आदिले सुमरिवाला (Adille Sumariwalla) पर पलटवार किया है. काशीनाथ ने कहा कि वक्त मिलने पर नीरज खुद दुनिया के सामने सच्चाई बताएंगे.

    इससे पहले सुमारिवाला ने कहा था कि उन्होंने भाला फेंक में पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों का मेडल जीतने वाले काशीनाथ नाइक का नाम कभी नहीं सुना. कर्नाटक सरकार ने हाल ही में काशीनाथ को भाला फेंक में नीरज चोपड़ा को कोचिंग देने के लिए 10 लाख रुपये देने की घोषणा की. टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड जीतकर इतिहास रचने वाले नीरज चोपड़ा के साथ नाइक का नाम भी सुर्खियों में रहा. इसके बाद, सुमरिवाला ने एक कन्नड़ समाचार पत्र, कन्नड़ प्रभा, से बात की और कहा, ‘मैंने कभी काशीनाथ का नाम नहीं सुना. नीरज को पिछले छह वर्षों से विदेशी कोच ही ट्रेनिंग दे रहे हैं और किसी को भी इसका श्रेय नहीं लेना चाहिए.’

    इसे भी पढ़ें, नीरज चोपड़ा ने आखिर क्यों कटवाए अपने लंबे बाल? दिया दिल जीतने वाला जवाब

    इस पर प्रतिक्रिया देते हुए काशीनाथ नाइक ने News18 से खास बातचीत में कहा कि उन्होंने कभी क्रेडिट लेने की कोशिश नहीं की थी. नाइक ने कहा, ‘मैंने नीरज को कोचिंग दी है. मैंने नीरज से भी बात की है, वह अभी थोड़ा व्यस्त हैं. वह खुद दुनिया को बताएंगे कि मैंने उन्हें कोचिंग दी या नहीं. मेरा सवाल एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष सुमरिवाला से है. वह मुझे कैसे नहीं जान सकते? जब से वह AFI अध्यक्ष बने हैं, हम उनकी अध्यक्षता में कई आधिकारिक बैठकों में मिले हैं.’

    नाइक ने आगे कहा, ‘प्रतिष्ठित एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष होने के नाते, अगर वह कहते हैं कि वह मुझे नहीं जानते हैं, तो उन्हें अध्यक्ष क्या बनाता है. मैंने 2010 में नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीता था. यह भारत के लिए भाला फेंक में पहला राष्ट्रमंडल पदक था. मैंने कई अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में देश का प्रतिनिधित्व किया है. मैं 2013 से 2018 तक राष्ट्रीय भाला फेंक टीम का कोच रहा. वहीं, सुमारिवाला महासंघ के अध्यक्ष थे. फिर भी वह कहते हैं कि वह मुझे नहीं जानते. महासंघ प्रमुख होने के नाते, एक पूर्व एथलीट और पूर्व राष्ट्रीय कोच की पहचान नहीं करना कुछ अजीब है.’

    इसे भी देखें, टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड जीतने के बाद नीरज चोपड़ा के डांस का यह पुराना VIDEO हो रहा वायरल

    सुमारिवाला ने कहा था, ‘मैं कर्नाटक सरकार के आधिकारिक आदेश का इंतजार कर रहा हूं. एक बार जब मैं इसे प्राप्त कर लेता हूं, तो महासंघ इसे चुनौती देगा. नीरज चोपड़ा से बात करने वाले सभी को कोच नहीं माना जा सकता. नीरज चोपड़ा ने कभी नहीं कहा कि काशीनाथ उनके कोच थे, मुझे नहीं पता कि यह काशीनाथ कौन हैं.’

    काशीनाथ नाइक ने कहा, ‘यह अजीब है और मुझे समझ नहीं आता कि वह भारतीय कोचों और पूर्व एथलीटों को जाने बिना AFI अध्यक्ष के रूप में क्या कर रहे हैं. 16 जनवरी, 2013 को भारतीय एथलेटिक्स महासंघ ने मुझे राष्ट्रीय सीनियर एथलेटिक्स कोचिंग कैंप, पटियाला में भाला फेंक का राष्ट्रीय कोच नियुक्त किया था.’ फेडरेशन ने आर्मी सर्विस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड को जो नियुक्ति पत्र भेजा है, वह न्यूज18 के पास है. इसमें काशीनाथ को तत्काल राष्ट्रीय मुख्य कोच बहादुर सिंह से जुड़ने का आदेश दिया गया था. दस्तावेजों से तो यह स्पष्ट रूप से साबित हो रहा है कि काशीनाथ कम से कम एक कोच थे, जबकि नीरज चोपड़ा उसी कैंप में प्रशिक्षण ले रहे थे.

    Tags: Neeraj Chopra, Neeraj chopra in Olympics, Neeraj chopra javelin thrower, Sports news, Tokyo olympic 2020, Tokyo Olympics

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर