'द ग्रेट' खली से सर... सर.. बोलकर फैन्स ने की अजीबोगरीब रिक्वेस्ट, परेशान रेसलर ने उठाया बड़ा कदम

'द ग्रेट' खली अक्टूबर 2000 में एक पेशेवर रेसलर बने (Khali/Instagram)

'द ग्रेट' खली अक्टूबर 2000 में एक पेशेवर रेसलर बने (Khali/Instagram)

खली एक बार फिर से चर्चा में बने हुए हैं. दरअसल, खली के ऑफिशियल इंस्टाग्राम पेज पर फैन्स अजीबोगरीब रिक्वेस्ट उनसे कर रहे हैं, जिससे परेशान होकर इस रेसलर ने अपना कमेंट सेक्शन ही बंद कर दिया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. 'द ग्रेट खली' (The Great Khali) के नाम से मशहूर पूर्व वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट (WWE) चैंपियन दलीप सिंह राणा (Dalip Singh Rana) की भारत में बड़ी फैन फॉलोइंग है. हर कोई द ग्रेट खली की ओर देखता था, क्योंकि एक आदमी का 7 फुट1 इंच, 347 पाउंड वजनी था. खली ने डब्ल्यूडब्ल्यूई जगत में आते ही तहलका मचा दिया. खली न केवल अपने विशाल आकार के लिए लोगों की जिज्ञासा का कारण बने हुए थे, बल्कि मूल भारत से डब्ल्यूडब्ल्यूई के लिए जाने वाले पहले व्यक्ति थे. उन्होंने 'द अंडरटेकर', केन, बिग शॉ, जॉन सीना और शॉन माइकल्स और अन्य जैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाने-माने डब्ल्यूडब्ल्यूई नामों को पछाड़ा हुआ है. अब खली एक बार फिर से चर्चा में बने हुए हैं. दरअसल, खली के ऑफिशियल इंस्टाग्राम पेज पर फैन्स अजीबोगरीब रिक्वेस्ट उनसे कर रहे हैं, जिससे परेशान होकर इस रेसलर ने अपना कमेंट सेक्शन ही बंद कर दिया है.

वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट से रिटायरमेंट के बाद खली नवंबर 2014 में भारत लौट आए थे. वह अब पंजाब के जालंधर शहर में अपनी अकादमी में महत्वाकांक्षी डब्ल्यूडब्ल्यूई सुपरस्टार्स को ट्रेनिंग देते हैं. डब्ल्यूडब्ल्यूईवेबसाइट पर उनकी प्रोफाइल कहती है, ''सभी ने द ग्रेट खली की ओर देखा - चाहे आप चाहें या नहीं.'' रिटायरमेंट के इतने साल बाद भी खली की फैन फॉलोइंग में कोई कमी नहीं आई है. इसका उदाहरण उनका इंस्टाग्राम अकाउंट है, जिस पर आज भी लाखों कमेंट्स और लाइक्स आते हैं.

खली इंस्टाग्राम पर काफी एक्टिव रहते हैं और अपनी रोजमर्रा की जिंदगी के बारे में फैन्स को सोशल मीडिया के जरिये ही बताते रहते हैं. ऐसे में खली की तस्वीरों और वीडियोज पर फैन्स ने कमेंट कर उन्हें परेशान कर दिया है. फैन्स खली के इंस्टाग्राम पर पोस्ट पर सर... सर... बोलकर अजीबोगरीब रिक्वेस्ट कर रहे हैं. इस तरह के कमेंट्स से परेशान होकर खली ने अपने इंस्टाग्राम का कमेंट सेक्शन बंद कर दिया है.


बता दें कि अपने पैतृक गांव से अंतरराष्ट्रीय कुश्ती के अखाड़े तक खली का सफर लंबा और कठिन रहा है. 27 अगस्त 1972 को एक गरीब परिवार में जन्मे खली सात भाई-बहन हैं. उन्हें आजीविका कमाने के लिए सड़क किनारे मजदूर के रूप में भी काम करना पड़ा था. बाद में वह सिक्युरिटी गार्ड बनने के लिए शिमला चले गए. इसके बाद वह पंजाब के पूर्व पुलिस प्रमुख एम.एस. भुल्लर के संपर्क में आए, जिन्होंने उन्हें 1993 में पंजाब पुलिस में भर्ती करवा दिया. वह चंडीगढ़ से 150 किलोमीटर दूर जालंधर स्थित पंजाब सशस्त्र पुलिस की 7वीं बटालियन में तैनात थे.

पुलिस की नौकरी के दौरान रेसलिंग सीखने के बाद वह स्पेशल ट्रेनिंग के लिए अमेरिका चले गए. दलीप राणा यानी द ग्रेट खली अक्टूबर 2000 में एक पेशेवर पहलवान बने.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज