भारत की धमकी बेअसर, कॉमनवेल्थ गेम्स का हिस्सा नहीं होगी शूटिंग

भारत की धमकी बेअसर, कॉमनवेल्थ गेम्स का हिस्सा नहीं होगी शूटिंग
कॉमनवेल्थ गेम्स में शूटिंग नहीं होगी हिस्सा

यह 1974 के बाद पहला मौका होगा जब निशानेबाजी को कॉमनवेल्थ (Commonwealth Games) गेम्स में जगह नहीं मिलेगी

  • Share this:
भारत की बहिष्कार की धमकी के बावजूद कॉमनवेल्थ गेम्स महासंघ (Commonwealth Games 2022)) के प्रमुख लुई मार्टिन ने कहा कि निशानेबाजी (Shooting) 2022 बर्मिंघम खेलों का हिस्सा नहीं होगी.

यह 1974 के बाद पहला मौका होगा जब निशानेबाजी को कॉमनवेल्थ गेम्स में जगह नहीं मिलेगी लेकिन सीजीएफ अध्यक्ष ने कहा कि निशानेबाजी कभी इन खेलों का अनिवार्य हिस्सा नहीं था. मार्टिन ने ब्रिटेन के ‘डेली टेलीग्राफ’ से कहा, ‘एक खेल को इन खेलों का हिस्सा बनने का अधिकार हासिल करना होगा.’

उन्होंने कहा, ‘निशानेबाजी कभी अनिवार्य खेल नहीं रहा. हमें इस पर काम करना होगा लेकिन निशानेबाजी खेलों का हिस्सा नहीं होगा. हमारे पास अब कोई जगह नहीं बची है.’कॉमनवेल्थ गेम्स में निशानेबाजी हमेशा से भारत का मजबूत पक्ष रहा है गोल्ड कोस्ट में पिछले खेलों में भारत ने निशानेबाजी में सात गोल्ड सहित 16 मेडल जीते थे. इस कदम का विरोध करते हुए भारत ने 2022 खेलों के बहिष्कार की धमकी दी थी. भारतीय ओलिंपिक संघ के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने इस संबंध में खेल मंत्री किरण रिजिजू से स्वीकृति मांगी है.



भारत ने दी थी बहिष्कार की धमकी
खबर के अनुसार बर्मिंघम ने निशानेबाजी की दो स्पर्धाओं के आयोजन की पेशकश की थी लेकिन अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) ने इसे ठुकरा दिया. आईएसएसएफ चाहता है कि निशानेबाजी को पूर्ण रूप से खेलों में शामिल किया जाए. इससे पहले सीजीएफ के मैनेजर टॉम डिगुन ने भारत की बहिष्कार की धमकी पर निराशा जताई थी और कहा था कि वह चाहते हैं भारत खेलों का हिस्सा रहे. फेडरेशन के मीडिया मैनेजर टॉम डिगुन ने कहा, 'हमें यह जानकर बहुत निराशा हुई कि भारत खेलों में हिस्सा नहीं लेना चाहता है. हम चाहते हैं कि भारत कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा ले. हम आने वाले समय में भारत में आईओए के आधिकारियों से मिलेंगे और बात उनकी समस्या को सुलझाने की कोशिश करेंगे ताकि भविष्य के लिए चीजें सही रहे.'

पढ़ाई की वजह से हिमा दास को बड़ा नुकसान, ओलिंपिक में भुगतना पड़ेगा खामियाजा!

कॉटिफ कप में भारत का शानदार प्रदर्शन, आयोजकों ने दी विशेष ट्रॉफी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज