लाइव टीवी

मैरीकॉम ने निकहत जरीन के विवाद पर दिया बड़ा बयान, कहा- सिर्फ मैं जीत सकती हूं गोल्ड मेडल

News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 4:54 PM IST
मैरीकॉम ने निकहत जरीन के विवाद पर दिया बड़ा बयान, कहा- सिर्फ मैं जीत सकती हूं गोल्ड मेडल
भारतीय महिला मुक्केबाज मैरीकॉम छह बार वर्ल्ड चैंपियन का खिताब जीत चुकीं हैं. (FILE PHOTO)

निकहत जरीन (Nikhat Zareen) ने टोक्यो ओलिंपिक क्वालिफायर (Tokyo Olympic Qualifier) में हिस्सा लेने के लिए मैरीकॉम (Marykom) के सीधे प्रवेश पर सवाल उठाया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 4:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. छह बार की वर्ल्ड चैंपियन बॉक्सर मैरीकॉम (MC Marykom) इस साल एआईबीए वर्ल्ड चैंपियनशिप (AIBA World Championship) के फाइनल में पहुंचने से चूक गई. इसके बावजूद बॉक्सिंग फेडरेशन (Boxing Federation of India) ने उन्हें ओलिंपिक क्वालिफायर (Olympic Qualifier) में भेजने का फैसला किया था. इसके बाद मैरीकॉम  के कैटगरी की भारतीय बॉक्सर निकहत जरीन ने इस अपत्ति जताई थी. मैरीकॉम ने इस विवाद के बाद कहा कि उन्हें यकीन है कि केवल वह भारत के लिए गोल्ड मेडल जीत सकती हैं.

मैरीकॉम खुद को बताती हैं ओलिंपिक जीतने का सबसे बड़ा दावेदार

न्यूज18 को दिए इंटरव्यू में आठ वर्ल्ड चैंपियनशिप मेडल जीतने वाली मैरीकॉम ने कहा कि उन्होंने अपने वेट कैटगरी को बदलकर 51किग्रा किया क्योंकि वह ओलिंपिक कैटगरी है और उन्हें यकीन है कि केवल वह देश को गोल्ड दिला सकता है. उन्होंने कहा, 'मैं अपनी वैट कैटगरी बदलती रहती हूं क्योंकि अगर मैं ओलिंपिक कैटेगरी में नहीं रहूंगी तो देश के लिए गोल्ड मेडल कौन जीतेगा. मेरे जैसे अलग तरह का बॉक्सर नहीं है, और मुझ जैसा बनने में उन लोगों को बहुत समय लगेगा.'

निकहत जरीन पर साधा निशाना

मैरीकॉम ने यह निशाना निकहत जरीन पर साधा जिन्होंने फेडरेशन के बिना ट्रायल के मैरीकॉम को सीधे ओलिंपिक क्वालिफायर में भेजने के फैसले पर सवाल उठाए थे. पूर्व जूनियर विश्व चैम्पियन मुक्केबाज ने खेलमंत्री किरण रीजीजू को पत्र लिखकर मांग की थी कि ओलिंपिक क्वालिफायर के लिये टीम में जगह के लिए ट्रायल कराएं जाए ताकी सबको मौका मिले. इसके बाद फेडरेशन ने ट्रायल कराने का फैसला किया था.

MC Mary Kom,Nikhat Zareen, Tokyo Olympic Qualifiers, sports news, boxin एमसी मैरीकॉम, निखत जरीन, टोक्यो ओलिंपिक
निखत जरीन ने मैरीकॉम के साथ ट्रायल करवाने की मांग की थी


मैरीकॉम ने बिना किसी का नाम लेते हुए कहा कि युवा बॉक्सर जरा सी सफलता मिलने के बाद ही घमंडी हो जाते हैं. उन्होंने का, 'युवा बॉक्सर कोई छोटा अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट जीत लेते हैं और खुद को बड़ा स्टार मान लेते हैं. ऐसे टूर्नामेंट जिनमें मैं हिस्सा भी लेना नहीं चाहती. मेरे पास आठ वर्ल्ड चैंपियनशिप मेडल हैं बस बल्कि ओलिंपिक मेडल नहीं है और मैं उसी वजह से अब तक खेल रही हूं. उन्हों युवा बॉक्सर्स को सलाह देते हुए कहा कि अगर वह अपना घमंड नहीं छोड़ेंगे तो कुछ भी हासिल नहीं कर पाएंगे.मैरीकॉम ने साथ ही अपने फैंस से अपील की वह उनके लिए दुआ करें कि इस बार वह देश के लिए ओलिंपिक मेडल जीत कर आएं. मैरीकॉम ने कहा कि उनका ध्यान पहले टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने पर है उसके बाद ही वह मेडल के बारे सोचेंगी.

भारत को मिली ओमान से हार, फुटबॉल वर्ल्ड कप में क्वालिफाई करने की उम्मीदें खत्म

गावस्कर का बड़ा बयान,कहा-बर्फ या रेगिस्तान पर खेलकर भी जीत सकती है टीम इंडिया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 4:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर