Role Model: कैरोलिना को देश में प्रैक्टिस पार्टनर भी नहीं मिलते, फिर भी Badminton World का नक्शा बदल दिया

Role Model: कैरोलिना को देश में प्रैक्टिस पार्टनर भी नहीं मिलते, फिर भी Badminton World का नक्शा बदल दिया
स्पेन की कैरोलिना मारिन मौजूदा ओलिंपिक चैंपियन हैं.

लीक तोड़कर नया रास्ता बनाने वालीं कैरोलिना मारिन (Carolina Marin) ने आठ साल की उम्र तक रैकेट छुआ भी नहीं था. अब उनके नाम तीन विश्व खिताब और ओलंपिक का गोल्ड भी है.

  • News18India
  • Last Updated: April 20, 2020, 7:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. खेलों की दुनिया हमेशा सरप्राइज करती है. अब स्पेन (Spain) को ही लीजिए. जब भी इस देश का जिक्र होता है तो सबसे पहले बात होती है बुलफाइटिंग की. फिर टेनिस, फुटबॉल, हॉकी, फॉर्मूला-1 रेस... इस लिस्ट में बैडमिंटन (Badminton) दूर-दूर तक नहीं आता. इसीलिए दुनिया तब हैरान रह जाती है जब स्पेन की कैरोलिना मारिन (Carolina Marin) विश्व चैंपियन और ओलंपिक चैंपियन बनती हैं. लीक तोड़कर नया रास्ता बनाने वालीं मारिन ने आठ साल की उम्र तक रैकेट छुआ भी नहीं था. अब दुनिया की दिग्गज खिलाड़ी उनके सामने रैकेट उठाने से घबराती हैं.

कैरोलिना मारिन की बैडमिंटन से जुड़ने की कहानी बड़ी दिलचस्प है. वे जब आठ साल की थीं तब डांसर बनना चाहती थीं. फ्लेमेंको डांस सीख रही थीं. तभी एक दिन मारिन की बेस्ट फ्रेंड ने उनसे बैडमिंटन कोर्ट तक साथ चलने को कहा. दोनों साथ गईं. यह पहला मौका था जब कैरोलिना बैडमिंटन का खेल करीब से देख रही थीं. फ्रेंड के कहने पर वे कुछ देर खेलीं भी. उन्हें यह खेल पसंद आया... सिलसिला चल निकला. आज मारिन के नाम तीन वर्ल्ड कप और एक ओलिंपिक गोल्ड है. बाकी खिताबों की तो गिनती नहीं है. वे ओलिंपिक गोल्ड जीतने वाली पहली गैर-एशियाई खिलाड़ी हैं.

परिवार से मिला दर्द खेल में भुलाया
26 साल की कैरोलिना मारिन कहती हैं, ’12 साल की उम्र में बैडमिंटन और डांस में से एक चुनने की घड़ी आई. मैंने खेल चुना. 13 साल की उम्र में अंउर-15 चैंपियनशिप में हिस्सा लिया. वहां मेरे कोच फर्नांडो रिवासो को लगा कि मुझमें कुछ खास है. उन्होंने मेरे माता-पिता से बात की, जो पहले से ही अलग-अलग रहने का फैसला ले चुके थे. मेरे लिए खेल इस दर्द से दूर जाने की वजह भी बना. मैंने परिवार को छोड़ दिया और हुवेला में रहने लगी, जहां ट्रेनिंग की बेहतर सुविधाएं थीं.’
थाईलैंड में प्रैक्टिस को मजबूर


कैरोलिना कहती हैं, ‘मैं आज कामयाब खिलाड़ी हूं. लेकिन लोगों को यह नहीं पता कि मैंने यहां तक पहुंचने के लिए कितना संघर्ष किया है. कितना दर्द झेला है. परिवार से दूर रही हूं, ताकि खेल प्रभावित ना हो. स्पेन में बैडमिंटन के मुश्किल से 7 हजार खिलाड़ी हैं. वो भी हर वर्ग और महिला-पुरुष खिलाड़ियों को मिलाकर. ऐसे में अच्छी प्रैक्टिस के लिए सही पार्टनर तक नहीं मिलता.’ कैरोलिना बेहतर प्रैक्टिस के लिए ज्यादातर समय थाईलैंड या मलेशिया में रहती हैं. इसकी वजह यह है कि उन्हें यहां प्रैक्टिस के लिए सही पार्टनर मिल जाते हैं, जो स्पेन में नहीं मिलते.

नडाल स्पोर्ट्स आइकन
बैडमिंटन में आपका आदर्श कौन है? कैरोलिना मारिन इस सवाल का जवाब हैरानीभरा देती हैं. कहती हैं कोई नहीं. वे स्पोर्ट्स का आइकन अपने ही देश के टेनिस सितारे राफेल नडाल (Rafael Nadal) को मानती हैं. वे कहती हैं कि नडाल और उनमें एक समानता है. वे दोनों एक-एक प्वाइंट के लिए जान की बाजी तक लगा देते हैं.



मेसी बेस्ट, पर पंसद इनिएस्ता हैं
स्पेन में रहती हैं, पर स्पेनिश फुटबॉल लीग में रियल मैड्रिड नहीं, बार्सिलोना को सपोर्ट करती हैं. कहती हैं कि लियोनल मेसी (Lionel Messi) दुनिया के बेस्ट फुटबॉलर हैं. हालांकि, उनका फेवरेट आंद्रेस इनिएस्ता (Andres Iniesta) हैं. इनिएस्ता स्पेन के ही फुटबॉलर हैं.

क्या कोई अंधविश्वासी है?
क्या आप किसी अंधविश्वास पर यकीन करती हैं? इस सवाल के जवाब में कैरोलिना कहती हैं, ‘मुझे नहीं पता कि यह अंधविश्वास है या नहीं. लेकिन मैं जब भी मैच खेलती हूं, एक लॉकेट जरूर पहनती हूं, जिस पर C और A लिखा है. C से मेरा नाम शुरू होता है और A से मेरे ब्वॉयफ्रेंड अलेक्जांद्रो का.’

कमर में ओलिंपिक रिंग का टैटू
कैरोलिना जब 2012 के लंदन ओलिंपिक में शुरुआती राउंड में ही हार गईं तो उन्होंने अपनी कमर में ओलिंपिक रिंग का टैटू बनवाया. टैटू बनवाने का कारण यह था कि वे चाहती थीं कि यह याद दिलाता रहे कि उन्हें अगले ओलिंपिक में अच्छा प्रदर्शन करना है. कैरोलिना ने इसके बाद 2016 के ओलिंपिक में गोल्ड मेडल जीता. उन्होंने फाइनल में भारत की पीवी सिंधु (PV Sindhu) को हराया. कैरोलिना कहती हैं कि दुनिया में सबसे मुश्किल प्रतिद्वंद्वी सिंधु ही हैं.

डिनर खुद बनाती हैं मारिन
कैरोलिना कहती हैं कि उन्हें कुकिंग, शॉपिंग, माउंटेनियरिंग और फिल्में देखना पसंद हैं. वे दिनभर की प्रैक्टिस से चाहे कितनी भी थक जाएं, अपना डिनर खुद ही बनाती हैं.

चैरिटी में भी आगे
दुनिया इन दिनों कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ रही है. स्पेन इससे खासा प्रभावित है. वहां करीब 21 हजार लोग कोरोना की वजह से मारे जा चुके हैं. कैरोलिना मारिन संकट के इस वक्त में लोगों के लिए मदद जुटा रही हैं. वे राफेल नडाल, गेरार्ड पिक समेत 20 खिलाड़ियों के उस ग्रुप में शामिल हैं, जिसने कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए करीब 5 करोड़ रुपए जुटाए हैं.

यह भी पढ़ें: 

3 बाईपास सर्जरी के बाद फिट हुआ विश्व चैंपियन क्रिकेटर, बताई नई ख्वाहिशें

पालघर में भीड़ ने की 2 संतों की हत्या, गुस्साए इरफान ने कह दी यह बात

युवराज का खुलासा, नेटवेस्ट ट्रॉफी जीतने के बाद मैंने भी अपनी शर्ट उतारी थी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading