लाइव टीवी

अखाड़े में लड़कों के ट्रेनिंग करने पर सुनने पड़ते थे ताने, अब देश के लिए जीता मेडल

News18Hindi
Updated: November 2, 2019, 4:39 PM IST
अखाड़े में लड़कों के ट्रेनिंग करने पर सुनने पड़ते थे ताने, अब देश के लिए जीता मेडल
पूजा गहलोत ने रेसलिंग में देश के लिए मेडल जीता है

पूजा गहलोत (Pooja Gahlot) ने शनिवार को अंडर-23 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप (U23 World Wrestling Championship) में सिल्वर मेडल जीता है

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 2, 2019, 4:39 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पूजा गहलोत (Pooja Gahlot) (53 किग्रा) को यूडब्ल्यूडब्ल्यू अंडर-23 विश्व चैम्पियनशिप (UWW U-23 World Championship) के फाइनल में जापान (Japan) की 2017 विश्व चैम्पियन (World Champion) हारूआना ओकुनो से हार का सामना करना पड़ा लेकिन उन्होंने भारत (India) को दूसरा सिल्वर मेडल दिला दिया. रविंदर (61 किग्रा) ने इस हफ्ते सिल्वर मेडल जीता था.

पूजा गहलोत (Pooja Gahlot) ने (53 किग्रा)सेमीफाइनल में तुर्की (Turkey) की जेनेप येतगिल (Jenep Yetgil) को हराकर यूडब्ल्यूडब्ल्यू अंडर-23 विश्व चैम्पियनशिप 2019 (UWWT U-23 World Championship) के फाइनल में प्रवेश किया था.

पूजा (Pooja Gahlot) ने 2-4 से पिछड़ने के बाद शानदार वापसी करते हुए येतगिल (Jenep Yetgil) पर 8-4 से जीत हासिल की जो 2018 जूनियर यूरोपीय कुश्ती चैम्पियनशिप (Junior Europe Wrestling Championship) की स्वर्ण पदकधारी हैं.

लड़को के साथ ट्रेनिंग करके की रेसलिंग की शुरुआत

pooja gahlot, india, wrestling
पूजा गहलोत ने अंडर23 वर्ल्ड चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल हासिल किया है


पूजा शुरुआत वॉलीबॉल खेला करती थी लेकिन उनकी हाइट की कमी के कारण उनके अंकल धर्मवीर सिंह ने उन्हें रेसलिंग करने की सलाह दी और शुरुआती ट्रेनिंग भी दी. पूजा गहलोत ने जब दिल्ली में आनंद प्रकाश दहिया की अकेडमी को ज्वॉइन किया था तब उनके सामने एक बड़ी परेशानी थी. परेशानी यह थी आनंद प्रकाश के अखाड़े पूजा के अलावा कोई और लड़की नहीं थी जिसके कारण उन्हें लड़कों के साथ ट्रेन करना था.

पूजा के पिता विजेंदर सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि जब ऐसा हुआ तो उन्हें कई लोगों ने सलाह दी कि वह बेटी को वापस बुला लें हालांकि उन्होंने ऐसा नहीं किया क्योंकि वह जानते कि पूजा रेसलिंग करना चाहती है. पूजा ने साल 2015 में जूनियर नेशनल चैंपियनशिप जीती और दो साल बाद जूनियर एशियन चैंपियन भी बनी.
Loading...

कंधे की चोट के बावजूद नहीं छोड़ी रेसलिंग
इसके बाद उन्हें कंधे में इंजरी हो गई जिसके बाद उन्हें खेलने में मुश्किल होने लगी. चोट से उबरने के बाद  उन्होंने अपने पैरों की और शरीर की ताकत पर काम किया ताकी कंधे की इंजरी का ज्यादा असर उनपर ना पड़े. जब पूजा दिल्ली में ट्रेनिंग करती थी तब उनके पिता भी यहीं काम करते थे. हालांकि जब वह रोहतक में ट्रेनिंग करने लगी तब उनकी मां, दादी और तीन भाई-बहन गांव छोड़कर उनके साथ शहर में रहने लगे ताकी वह बाकी सब चीजों की चिंता छोड़कर ट्रेनिंग पर ध्यान दे. कंधे की चोट के बाद पूजा ने भिवानी में एक दंगल में 10 लाख रुपए जीते थे जिससे उन्होंने अपनी बहन की शादी की थी. पूजा कि इस जीत के बाद उनके पिता ने कहा कि उन्हें अपनी बेटी पर गर्व कि उनके त्याग के बदले उन्होंने देश के लिए मेडल जीता है.

इस क्रिकेटर के घर भी हो रहा छठ महापर्व, दादी ने सेलेक्शन के लिए मांगी मन्नत

स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर को लेकर आमने-सामने आईं IPL टीमें, किए मजेदार कमेंट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 4:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...