लाइव टीवी

गोपीचंद बोले- सपने में भी नहीं कह सकता सिंधु या सायना कौन मेरा चहेता

भाषा
Updated: January 27, 2020, 12:00 PM IST
गोपीचंद बोले- सपने में भी नहीं कह सकता सिंधु या सायना कौन मेरा चहेता
पीवी सिंधु और सायना नेहवाल

गोपीचंद (Pullela Gopichand) ने एक बार फिर कहा उन्होनें दोनों खिलाड़ियों को अपने बच्चे की तरह माना

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय बैडमिंटन के मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand) ने शुक्रवार को यह माना कि सायना नेहवाल (Saina Nehwal) और पीवी सिंधु (PV Sindhu) को एक साथ संभालना उनके लिए मुश्किल था और वह इन दोनों खिलाड़ियों में से किसी एक को अपना चहेता नहीं चुन सकते.

गोपीचंद ने टाटा स्टील साहित्य उत्सव समारोह में कहा, ‘मैं सपने में भी यह नहीं कह सकता हूं कि दोनों में से कोई एक मेरा चहेता है. मेरे लिये यह मुश्किल था लेकिन मैं संभालने में सफल रहा. दोनो का सफर अलग-अलग है और दोनों अपने तरीके से चैम्पियन है.’

गोपीचंद ने एक बार फिर कहा उन्होनें दोनों खिलाड़ियों को अपने बच्चे की तरह माना और तब बुरा लगा जब सायना (Saina Nehwal) ने प्रकाश पादुकोण अकादमी से जुड़ने के लिए उनकी अकादमी छोड़ दी थी. उन्होंने कहा, ‘अगर मैं किसी को अपना छात्र बनाता हूं तो उसे अपने बच्चे जैसा मानता हूं. मुझे सायना के अकादमी छोड़ने से काफी पीड़ा हुई. मैं इससे दुखी था. फिर जब मैंने उसे ओलिंपिक में देखा तो मुझे लगा कि उसके पास बहुत अच्छा मौका है और फिर मैंने उसे हारते हुए देखा.’

saina nehwal, badminton, sports news, sameer verma
सायना नेहवाल को ओलंपिक में मिला था ब्रॉन्ज मेडल


सिंधु के टोक्‍यो ओलिंपिक में मेडल जीतने की उम्‍मीद
गोपीचंद को उम्मीद है कि रियो ओलिंपिक की रजत पदक विजेता सिंधू टोक्यो ओलिंपिक में पदक जीतने में सफल रहेगी. उन्होंने कहा, ‘उसके पास पदक जीतने का अच्छा मौका है. मेरा मानना है कि अच्छी तैयारियों के साथ वह बेहतर प्रदर्शन करेगी.’ सिंधू टोक्यो के लिए अपना टिकट सुनिश्चित कर चुकी है लेकिन साइना नेहवाल और किदाम्बी श्रीकांत के पास अपनी जगह पक्की करने के लिए कम समय बचा है, लेकिन गोपीचंद का मानना है कि ये दोनों दो-तीन टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करके अब भी क्वालीफाई कर सकते हैं.

सायना-श्रीकांत के पास रैंकिंग सुधारने के लिए 7 टूर्नामेंटसाइना और श्रीकांत ‘रेस टू टोक्यो बीडब्ल्यूएफ ओलंपिक क्वालीफिकेशन रैंकिंग’ में क्रमश: 22वें और 26वें स्थान पर है. प्रत्येक देश के लिए एकल में दो खिलाड़ियों का कोटा है जो 28 अप्रैल की समयसीमा तक उनके शीर्ष 16 में रहने पर तय होगा. उन्होंने कहा, ‘ओलिंपिक क्वालीफिकेशन तक सात टूर्नामेंट खेले जाने हैं. उन्हें ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई करने के लिए वास्तव में अच्छा प्रदर्शन करना होगा. एक-दो टूर्नामेंट में अच्छे प्रदर्शन से वे ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई करने के करीब पहुंच सकते हैं.’खून से लथपथ होते हुए भी भारत के खिलाफ मैदान पर डटा रहा यह कीवी खिलाड़ी

एशिया कप: पाक की निकली हेकड़ी, अब दूसरे देश में भारत के साथ मैच खेलने को तैयार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 12:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर