लाइव टीवी

पुलेला गोपीचंद का बड़ा बयान, कहा-पीवी सिंधु और सायना नेहवाल से जुड़ा हर फैसला मैं लेता था

News18Hindi
Updated: December 20, 2019, 1:28 PM IST
पुलेला गोपीचंद का बड़ा बयान, कहा-पीवी सिंधु और सायना नेहवाल से जुड़ा हर फैसला मैं लेता था
पुलेला गोपीचंद बैडमिंटन के घरेलू ढांचे को लगातार मजबूत करने की बात कहते रहे हैं. (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच (National Badminton Coach) पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand) ने कहा, साल 2008 के बाद से लेकर अब तक काफी चीजें बदल चुकीं हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 20, 2019, 1:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय बैडमिंटन कोच (Indian Badminton Coach) पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand) को भारत में बैडमिंटन के प्रति जागरूकता फैलाने वाला मशालवाहक माना जाता है. 46 साल के पुलेला गोपीचंद ने 2001 में ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में खिताबी जीत हासिल की थी. पूर्व नंबर पांच खिलाड़ी गोपीचंद दिग्गज प्रकाश पादुकोण के बाद ये उपलब्धि हासिल करने वाले केवल दूसरे ही भारतीय पुरुष खिलाड़ी हैं. एक कार्यक्रम से इतर उन्होंने पिछले कई सालों में बैडमिंटन में आए बदलाव पर खुलकर बात की.

पहले सब कुछ मेरे जरिये ही होता था
पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand) ने कहा, 'अब चीजें काफी बदल चुकी हैं. साल 2008 की शुरुआत में मैं ही कोच था, मैं ही फीजियो और मैनेजर हुआ करता था. तब मैं ही सब कुछ था. मगर आज खिलाड़ियों के पास फीजियो, मैनेजर यहां तक कि मालिश करने वाला भी है. इंटरनेशनल कोचों की भी कमी नहीं है. कम से दस लोग अलग-अलग कामों के लिए हैं.' गोपीचंद के अनुसार, 'भारतीय बैडमिंटन को एक ढांचे की जरूरत है. पहले मैं ही पूरा ढांचा हुआ करता था. सब कुछ मेरे जरिये ही होता था. अब पीवी सिंधु (PV Sindhu) के साथ फीजियो, मैनेजर मालिशिया, सब है, जबकि 2016 में वो क्या खाएंगी, क्या पीएंगी, कहां जाएंगी, इन सभी बातों का फैसला मैं लेता था. सायना (Saina Nehwal) के फैसले भी मैं करता था. मगर अब सायना के पास अपना सपोर्ट स्टाफ है. तो जब भी मैं उनसे किसी बारे में कहता तो जवाब आता कि सर मेरा फीजियो ये कह रहा है. हम अलग ही ईकोसिस्टम में काम कर रहे हैं. मेरा सोचने का नजरिया अलग है और किसी का कुछ और होगा. मैं कहूंगा कि मेरा फॉर्मूला ये है और खिलाड़ियों का अपना फॉर्मूला रहता है. हमें एक संगठित ढांचा बनाने की जरूरत है.'

sports news, pullela gopichand, pv sindhu, saina nehwal, badminton, indian badminton, स्पोर्ट्स न्यूज, पुलेला गोपीचंद, सायना नेहवाल, पीवी सिंधू, बैडमिंटन, इंडियन बैडमिंटन
पीवी सिंधु वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय शटलर हैं. (फाइल फोटो)




गोपीचंद के नेतृत्व में सिंधु-सायना ने रचा इतिहास


सायना नेहवाल (Saina Nehwal) ने 2012 में हुए लंदन ओलिंपिक में देश को बैडमिंटन में उसका पहला पदक दिलाया था. तब सायना ने कांस्य पदक अपने नाम किया था. इसके बाद वह नंबर वन की रैंकिंग हासिल करने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनीं. इतना ही नहीं, गोपीचंद (Pullela Gopichand) की देखरेख में ही किदांबी श्रीकांत 1980 के बाद से शीर्ष रैंकिंग हासिल करने वाले पहले भारतीय पुरुष खिलाड़ी बने. पीवी सिंधु ने रियो ओलिंपिक में इतिहास रचते हुए रजत पदक हासिल किया. इसके अलावा सिंधु वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय शटलर बनीं.

 

 

IPL नीलामी में यूसुफ पठान को किसी ने नहीं खरीदा तो भाई इरफान ने सोशल मीडिया पर कह दी ये बड़ी बात

IPL में चमक बिखेरेगा जम्मू-कश्मीर का लाल, टीचर के बेटे को सनराइजर्स हैदराबाद ने 20 लाख रुपये में खरीदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 20, 2019, 1:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading