ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: टूटा सिंधू का फाइनल खेलने का सपना, सेमीफाइनल में वर्ल्ड नं-2 से हारीं

ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: टूटा सिंधू का फाइनल खेलने का सपना, सेमीफाइनल में वर्ल्ड नं-2 से हारीं
सिंधू आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में हारीं

ओलंपिक रजत पदक विजेता शटलर पी.वी सिंधू यहां 10,00,000 डॉलर ईनामी राशि की ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में दुनिया की नंबर दो जापानी खिलाड़ी अकाने यामागुची से हारकर बाहर हो गयीं.

  • Share this:
ओलंपिक रजत पदक विजेता शटलर पी.वी सिंधू यहां 10,00,000 डॉलर ईनामी राशि की ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में दुनिया की नंबर दो जापानी खिलाड़ी अकाने यामागुची से हारकर बाहर हो गयीं.

सिंधू बढ़त बनाने के बावजूद चूक गयी और बीती रात एक घंटे 19 मिनट तक चले मुकाबले में यामागुची से 21-19, 19-21, 18-21 से हार गयीं. जापान की 20 वर्षीय खिलाड़ी की यह लगातार नौंवी जीत है जिन्होंने इस महीने के शुरू में जर्मन ओपन अपने नाम किया था.

यह मुकाबला बिलकुल पिछले साल दुबई सुपर सीरीज़ के फाइनल की तरह दिख रहा था जिसमें सिंधू और यामागुची ने कोर्ट पर अपना सर्वस्व झोंक दिया और दोनों के बीच लंबी रैलियों की सीरीज़ से मुकाबला रोमांचक हो गया.



हालांकि अंत में यामागुची ने बेहतरीन संयम से मैच अपने नाम किया और फाइनल में जगह बनाई, जहां उनका सामना दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी ताईवान की ताई जु यिंग से होगा.
पिछले तीन दिनों में कोर्ट पर तीन गेम के मैचों में करीब साढ़े तीन घंटे खेलने के बावजूद सिंधू ने थकान के ज़रा भी संकेत नहीं दिए. वह मुकाबले में यामागुची के बराबर चल रही थीं जिसमें दोनों खिलाड़ी एक दूसरे को पछाड़ने के लिए बेताब थीं. लेकिन अंतिम क्षणों में हल्का ध्यान भंग होने से सिंधू को हार का सामना करना पड़ा.

सिंधू पिछले नौ में से छह मैचों में जीती हैं, उन्होंने स्मैश से आक्रामक शुरुआत की और यामागुची की अनफोर्स्ड गलतियों से 5-0 की बढ़त बना ली. शुरू में जापानी खिलाड़ी को शटल कोर्ट के अंदर रखने में दिक्कत हो रही थी.

सिंधू के दो शॉट बाहर निकलने से यामागुची ने बढ़त के अंतर को 3-8 कर दिया. सिंधू ने स्मैश लगाए लेकिन उनसे इसमें थोड़ी ग़लती हुई जिससे जापानी खिलाड़ी 5-9 पर आ गयीं. हालांकि पहले ब्रेक तक सिंधू ने 11-5 की बढ़त बनाई हुई थी.

जापानी खिलाड़ी ने इसके बाद अपने आक्रामक खेल से सिंधू को काफी मेहतन कराई. इस भारतीय ने कई कोण से स्ट्रोक लगाने का प्रयास किया और अपनी प्रतिद्वंद्वी को मुश्किल स्थिति में पहुंचा दिया. यामागुची ने अनफोर्स्ड गलतियां करना जारी रखा जिससे सिंधू ने 16-8 से बढ़त बना ली. लेकिन भारतीय खिलाड़ी फोरहैंड फोरकोर्ट शॉट चूक गयी और इस गलती से यामागुची दोहरे अंक तक पहुंच गयी.

यामागुची जूझती रही, पर उन्होंने सिंधू को गलतियां करने के लिए बाध्य कर बढ़त का अंतर 15-17 कर दिया. सिंधू दो बार मौका चूक गयी जिससे दोनों 17-17 की बराबरी पर आ गयीं. दो अनफोर्स्ड गलतियों से सिंधू 19-18 से आगे होने में सफल रहीं. बैक लाइन में सिंधू की समझबूझ ने उन्हें दो गेम प्वाइंट दिलाए. यामागुची ने हाफ स्मैश से एक का बचाव किया लेकिन सिंधू ने स्मैश लगाकर पहला गेम अपने नाम कर लिया.

छोर बदलने के बाद भी तेज़ रैलियों का सिलसिला जारी रहा, दोनों एक दूसरे को पछाड़ने के लिए प्रयासरत थीं. यामागुची ने रैलियों में बाजी मारी तो सिंधू ने भी अपनी प्रतिद्वंद्वी की बराबरी करना जारी रखा, दोनों ने शुरू के 14 अंक एक दूसरे में बांटे.

जापानी खिलाड़ी को पछाड़ना काफी मुश्किल था जो कोर्ट पर काफी तेज़ थीं, जिससे उन्होंने दूसरे गेम के ब्रेक तक 11-9 से बढ़त बना ली. ब्रेक के बाद यामागुची की एक ग़लती से सिंधू 12-12 की बराबरी पर आ गयीं. हालांकि फिर जापानी खिलाड़ी ने चार अंक की बढ़त बना ली और 18-14 से आगे हो गयीं. यामागुची के दो ग़लत स्ट्रोक से वह एक अंक से पिछड़ कर 18-19 पर पहुंच गयीं.

एक और लंबी रैली में सिंधू लाइन से चूक गयीं और यामागुची को दो गेम प्वाइंट मिले. सिंधू ने एक को बचाया लेकिन भाग्य यामागुची के साथ था जिन्होंने यह गेम हासिल कर 1-1 की बराबरी कर ली. अब निर्णायक गेम श्रेष्ठता की जंग का था जिसमें पहले छह अंक के बाद यह सिलसिला जारी रहा. सिंधू ने शानदार 'डाउन द लाइन' स्मैश से 6-3 की बढ़त बना ली और आक्रामक रिटर्न से उन्होंने इसे 8-5 कर दिया.

यामागुची ने 44 शॉट की रैली अपने नाम कर और सिंधू के एक शॉट के नेट में गिराने से उन्होंने इस अंतर को 7-8 कर दिया. यामागुची ने ब्रेक से पहले एक शॉट नेट पर और एक सटीक स्मैश लगाया लेकिन सिंधू ने 11-7 से चार अंक की बढ़त बनाए रखी. फिर ब्रेक के बाद सिंधू ने दो और अंक जुटाये और यामागुची ने 'बॉडी स्मैश' लगाया. जापानी खिलाड़ी ने शटल को मुश्किल कोण में फेंकना जारी रखा और फिर 51 शॉट की एक और रैली अपने नाम की. लेकिन सिंधू के बैकलाइन पर खराब फैसले और एक वाइड शॉट से यामागुची ने 14-14 से बराबरी हासिल कर ली.

रैलियों की चुनौतियां जारी रही और दोनों खिलाड़ी 18-18 तक बराबरी पर चल रही थीं. इसके बाद सिंधू एक वीडियो चैलेंज गंवा दिया और जापानी खिलाड़ी ने दो मैच प्वाइंट हासिल कर यह गेम अपने नाम कर जीत हासिल की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज