इस तरह से घर में हाेगा सिंधु का स्वागत, मां ने की खास तैयारी

पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने रविवार क जापान की नोजोमी ओकुहारा को हराकर पहली बार बीडब्‍ल्‍यूएफ वर्ल्‍ड चैंपियनशिप जीती थी.

News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 9:04 AM IST
इस तरह से घर में हाेगा सिंधु का स्वागत, मां ने की खास तैयारी
पीवी सिंधु ने नोजोमी ओकुहारा को हराकर खिताब अपने नाम किया
News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 9:04 AM IST
विश्व चैंपियन बनकर पीवी सिंधु (PV Sindhu) सोमवार को देश लौट आई हैं. वह स्विट्जरलैंड से सीधे नई दिल्ली आईं और अब वह यहां से घर जाएंगी. जहां उनकी मां ने उनके स्वागत की पूरी तैयारी कर रखी है.  घर पर उनके मनपसंद खाने के साथ उनका स्‍वागत होगा. सिंधु की मां पी विजया ने बताया कि उसे फिश करी और कीमा काफी पसंद है. जब वह पहुंचेगी तो उसके लिए यही बनाए जाएंगे. सिंधु ने रविवार क जापान की नोजोमी ओकुहारा को हराकर पहली बार बीडब्‍ल्‍यूएफ वर्ल्‍ड चैंपियनशिप जीती थी. पहली यह टूर्नामेंट जीतने वाली पहली भारतीय हैं. सिंधु मंगलवार को शाम तक घर लौटेंगी और उनके स्‍वागत के लिए तैयारियां जोरों पर हैं.

मां को समर्पित की थी जीत
सिंधु की मां विजया ने बताया, 'वह पत्रकारों से बात करेगी और उसके लिए एक गेट टूगेटर भी आयोजित किया जाएगा. घर पर भी हमने उसके लिए एक छोइा कार्यक्रम रखा है.' सिंधु ने जिस दिन वर्ल्‍ड चैंपियनशिप जीती थी उस दिन उनकी मां का बर्थडे था. उन्‍होंने अपनी जीत मां को समर्पित की. उन्‍होंने कहा था, 'मैं इस जीत को अपनी मां को समर्पित करती हूं. आज उनका बर्थडे है. शुक्रिया मां.'

pv sindhu gold, pv sindhu return, badminton, BWF World Championship, gold medal, Nozomi Okuhara, p vijaya, Pullela Gopichand, PV Sindhu, पीवी सिंधु, पीवी सिंधु मां
पीवी सिंधु की मां पी विजया.


स्‍पेशल है इस बार का बर्थडे गिफ्ट
जब विजया से पूछा गया कि क्‍या उन्‍हें उनका बर्थडे गिफ्ट पसंद आया तो उन्‍होंने कहा, 'यह ताउम्र का गिफ्ट है. बेटी से इस तरह का उपहार मिलना काफी शानदार अनुभव है. उसने मुझे बर्थडे पर हमेशा खूबसूरत उपहार दिए हैं फिर चाहे साड़ी हो या और कुछ. लेकिन यह काफी स्‍पेशल है.'

सिंधु की कामयाबी के सवाल पर काफी विनम्रता से कहती हैं कि इसमें उनकी काफी कम भूमिका है. बकौल विजया, 'सिंधु हमेशा से समर्पित रही. उसने ही बैडमिंटन सीखने और खुद को कुछ बनाने का फैसला किया. हमने उसके लिए कुछ भी स्‍पेशल नहीं किया. कभी कभी वह इतनी मेहनत करती है कि एक मां के रूप में सोचती हूं कि वह कैसे कर लेती है.'
Loading...

बैडमिंटन प्रैक्टिस से पहले होमवर्क पूरा करती थी सिंधु
बचपन में सिंधु बैडमिंटन की प्रैक्टिस से पहले होमवर्क पूरा कर लेती थी और इस समर्पण से ही उन्‍हें मदद मिली. बाद में उन्‍हें कोच पुलेला गोपीचंद और माता-पिता से भी काफी मदद मिली. जब सिंधु छोटी थी तो उनके पिता पीवी रमन्‍ना उन्‍हें प्रैक्टिस के लिए लेकर जाते थे. वहीं मां विजया यह ख्‍याल रखती थी कि सिंधु को अच्‍छा खाना और पर्याप्‍त आराम मिले.

सिंधु को एन्‍जॉय करने को कहती थी मां
इस बारे में विजया ने बताया, 'मैं उसे आराम करने, मस्‍त रहने, फिल्‍में देखने और भाई-बहनों के साथ घूमने-फिरने को को कहती रहती थी. मुझे चिंता होती थी कि ज्‍यादा मेहनत से उसकी सेहत बिगड़ जाएगी और वह कमजोर हो जाएगी.'

सिंधु के माता-पिता थे वॉलीबॉल के खिलाड़ी
विजया भी पहले खिलाड़ी रही हैं. वह रेलवे की ओर से वॉलीबॉल खेलती थीं. वहीं सिंधु के पिता पीवी रमन्‍ना भी नेशनल लेवल के वॉलीबॉल प्‍लेयर रहे हैं. उन्‍होंने 1986 एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्‍व भी किया. रमन्‍ना को अर्जुन अवार्ड भी मिल चुका है. सिंधु के माता-पिता की मुलाकात वॉलीबॉल टूर्नामेंट के दौरान ही हुई थी. धीरे-धीरे जान-पहचान बढ़ी और फिर दोनों ने शादी कर ली. जब सिंधु बैडमिंटन में सक्रिय हो गईं तो विजया ने नौकरी छोड़ दी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 7:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...