Home /News /sports /

रवि दहिया बोले- सुशील कुमार, योगेश्वर दत्त के हाथों में मेडल देख जगा था ओलंपिक में जीत हासिल करने का सपना

रवि दहिया बोले- सुशील कुमार, योगेश्वर दत्त के हाथों में मेडल देख जगा था ओलंपिक में जीत हासिल करने का सपना

पहलवान रवि दहिया ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में सिल्वर जीता. (AP)

पहलवान रवि दहिया ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में सिल्वर जीता. (AP)

रवि दहिया ने कहा, ''योगेश्वर दत्त और सुशील कुमार को देखकर हमने भी उसी तरीके से प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया. टोक्यो ओलंपिक में मैंने अपना बेस्ट करने की कोशिश की.''

नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक 2020 के ‘सिल्वर ब्वॉय’ रवि दहिया (Ravi Dahiya) का कहना है कि देश के लिए इतना बड़ा काम करना, इतने बड़े पोडियम पर खड़ा होना ही गर्व की बात थी. पूरा देश खुश था यह हमारे लिए जिंदगी का सबसे बड़ा खुशी का पल था. रवि ने बताया कि वह 2008 में छत्रसाल स्टेडियम आ गए थे. उनके परिवार ने उन्हें यहां तक पहुंचाने के लिए बड़ा बलिदान किया है. यहां आकर हमने इस अखाड़े के खिलाड़ियों को देखा, जिनसे प्रेरणा मिली चाहे वह सुशील कुमार हो या फिर योगेश्वर दत्त जिन्होंने हमारे अंदर इतना होसला भरा.

इतने बड़े खिलाड़ियों देखकर रवि दहिया के मन में शुरुआत में ही आ गया था कि अगर मैं भी जीतूंगा तो मुझे भी इतना प्यार सम्मान मिलेगा और ठान लिया कि ओलंपिक में जाना है. रवि दहिया ने कहा, ”मेरी जीत के पीछे परिवार का त्याग गुरुओं की शिक्षा और अखाड़े के खिलाड़ियों की प्रेरणा अहम हैं. योगेश्वर दत्त और सुशील कुमार को देखकर हमने भी उसी तरीके से प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया. टोक्यो ओलंपिक में मैंने अपना बेस्ट करने की कोशिश की.”

उन्होंने आगे कहा, ”मैंने हमेशा से यह ठान रखा था कि जितनी ट्रेनिंग करेंगे उतना अच्छा रिजल्ट दे पाएंगे. यह तो हमारे गुरु का सम्मान है कि वह कहते हैं कि मैं ट्रेनिंग करता रहता हूं और रोकना पड़ता है, लेकिन ऐसा नहीं है ट्रेनिंग से ही अच्छे रिजल्ट मिलते हैं.” रवि दहिया ने बताया कि जब भारत लौटकर आए तो लोगों का प्यार देखकर आंखें भर आई मेरे पिताजी मुझे दूर से देख कर ही खुश हैं. उनका कहना था कि आज प्रशंसकों का दिन है. हम तो घर के लोग हैं कभी भी मिल लेंगे और मम्मी-पापा से सिर्फ 2 मिनट ही बात हो पाई.

भारतीय पहलवान ने बताया कि 18 अगस्त को गांव में कार्यक्रम है, तभी माता-पिता से मुलाकात होगी. उन्होंने कहा कि जब भारत लौटकर आए तो यहां पर लोगों का प्यार देखकर उनका आशीर्वाद देख कर मन में बहुत खुशी हुई. कभी सोचा नहीं था कि प्रधानमंत्री से बात होगी, लेकिन जब उन्होंने हमारी प्रशंसा करने के लिए फोन किया तो एक पल के लिए तो सांसें रुक गई और गर्व का पल था कि प्रधानमंत्री ने हम से बात की और हमारे खेल की प्रशंसा की.

रवि दहिया ने बताया कि हर दिन उनके पिताजी गांव से छत्रसाल स्टेडियम तक उनके लिए दूध-दही और मक्खन लेकर आते थे. मैं कई बार में मना करता था, लेकिन वह फिर भी नहीं मानते. उनका कहना है कि तुम अपना काम करो मैं अपना काम कर रहा हूं और माता-पिता का आशीर्वाद है कि मैं सिल्वर जीत पाया. उन्होंने बताया कि मेरे पिता खुद रेसलिंग करना चाहते थे, लेकिन वह अपना सपना अब मेरे अंदर पूरा कर रहे हैं.

रवि ने कहा कि उनका अगला टारगेट वर्ल्ड चैंपियनशिप है. मैं स्टेप बाय स्टेप बढ़ रहा हूं और अगले ओलंपिक में गोल्ड लाने का सपना है. उन्होंने कहा कि रेसलिंग ऐसा गेम है कि अगर हम टूर्नामेंट खेलते रहते हैं तो आगे बढ़ते रहते हैं. यह ऐसा नहीं कि हम एकदम से आगे कूदकर चले जाएं. मैं देश के लिए जितना होगा हर जगह गोल्ड जीतने की कोशिश करूंगा.

रवि ने कहा कि फिलहाल तो रेसलिंग पर पूरा ध्यान है शादी को लेकर कुछ नहीं सोचा है और जो माता-पिता तय करेंगे वह मुझे मंजूर है. रवि ने कहा कि मेरे ऊपर एक बायोपिक बनने वाली है. यह मुझे पता चला है, लेकिन मैंने ऐसा कभी नहीं सोचा कि मैं किरदार खुद निभाऊं. मेरा पहला प्यार और आखिरी प्यार रेसलिंग है और मैं सिर्फ रेसलिंग पर ही ध्यान देना चाहता हूं. जो भी मेरा रोल करें, मैं खुश हूं.

रवि दहिया ने बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात हुई. उन्होंने अपना आशीर्वाद दिया. 15 अगस्त के मौके पर कार्यक्रम में शामिल होने पर उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए एक ऐसा क्षण है कि जब देश जश्न ए आजादी का 75 साल बना रहा है और हमें शामिल होने का मौका मिल रहा है. उन्होंने कहा कि खेलों को और बेहतर बनाने के लिए ग्राउंड लेवल पर काम होना चाहिए और छोटी-छोटी जगहों पर जो बच्चे रेसलिंग या अन्य खेलों में जाना चाहते हैं उनके लिए स्टेडियम-अखाड़े बनाए जाने चाहिए ताकि देश के युवा खेल के क्षेत्र में और भी ज्यादा देश का नाम रोशन कर सकें.

Tags: Olympics, Ravi Dahiya, Ravi Kumar, Ravi kumar Dahiya, Silver medal, Sushil kumar, Tokyo Olympics, Tokyo Olympics 2020, Yogeshwar Dutt

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर