Tokyo Olympic: गोल्ड मेडलिस्ट कैरोलिना मारिन ओलंपिक में नहीं खेलेंगी, चोट के कारण हटीं

कैराेलिना मारिन ने पिछले ओलंपिक में गोल्ड जीता था. (Carolina marin Twitter)

कैराेलिना मारिन ने पिछले ओलंपिक में गोल्ड जीता था. (Carolina marin Twitter)

दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी कैराेलिना मारिन (Carolina Marin) ने ओलंपिक (Tokyo Olympic) से नाम वापस ले लिया है. वे घुटने की चोट से परेशान हैं और इसकी जल्द सर्जरी होने वाली है. उन्होंने 2016 रियो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता था.

  • Share this:

नई दिल्ली. ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट बैडमिंटन खिलाड़ी कैरोलिना मारिन ने चोट के कारण टोक्यो ओलंपिक से हटने का फैसला किया है. उन्होंने 2016  रियो ओलिंपिक के फाइनल में भारत की पीवी सिंधु को हराकर गोल्ड मेडल जीता था. मारिन को अभ्यास के दौरान घुटने में परेशानी हुई थी. डॉक्टरों ने मारिन के कई टेस्ट किए, जिसके बाद पता चला कि मारिन को बाएं घुटने में चोट है. उन्होंने जानकारी दी है कि उनकी इस हफ्ते सर्जरी होने जा रही है. ओलंपिक के मुकाबले 23 जुलाई से शुरू होने हैं.

स्पेन की कैरोलिना मारिन के ओलिंपिक से हटने का फायदा भारत की पीवी सिंधू को मिल सकता है. सिंधू की एक बड़ी विरोधी खिलाड़ी हट गई है. कैरोलिान मारिन ने आठ बार सिंधु को हराया है, जबकि सिंधु सिर्फ 5 मैच में जीत हासिल कर सकी हैं. हालांकि पिछले कुछ समय में सिंधू का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है. दूसरी ओर साइना नेहवाल ओलंपिक के लिए क्वालिफाई नहीं कर सकी हैं.


वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी तीन गोल्ड जीत चुकी हैं
कैरोलिना मारिन का प्रदर्शन इंटरनेशनल इवेंट में बेहद शानदार रहा है. उन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप में तीन बार 2014, 2015 और 2017 में गोल्ड मेडल जीता है. वे भारतीय ओपन बैडमिंटन में भी भाग लेती हैं. 27 साल की मारिन ने जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में 2011 में ब्रॉन्ज मेडल जीता था. इस पूर्व नंबर-1 खिलाड़ी के अलावा कोई अन्य महिला खिलाड़ी तीन बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल नहीं जीत सकी है.

2019 में भी चोटिल हुई थीं

कैरोलिना मारिन को 2019 में भी चोट लगी थी. इसके कारण वे महीनों तक तक कोर्ट से दूर रही थीं. इस साल उन्होंने पांच टूर्नामेंट खेले हैं और पांचों के फाइनल में पहुंची थीं, जिसमें से चार में उन्होंने खिताब भी जीता था. ऐसे में वे टोक्यो ओलंपिक मेडल की रेस में थीं. लेकिन करियर रिकॉर्ड की बात की जाए तो उन्होंने 410 मुकाबले जीते हैं. 116 में उन्हें हार मिली है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज