लाइव टीवी

तीन साल बाद फिर गोपीचंद की अकैडमी में लौटीं साइना नेहवाल

भाषा
Updated: September 5, 2017, 7:53 AM IST
तीन साल बाद फिर गोपीचंद की अकैडमी में लौटीं साइना नेहवाल
भारतीय शटलर साइना नेहवाल

साइना नेहवाल ने अलग होने के तीन साल बाद फिर से लंबे समय तक मेंटर रहे और पूर्व कोच पुलेला गोपीचंद के मार्गर्दशन में हैदराबाद में उनकी अकैडमी में ट्रेनिंग करने का फैसला किया है.

  • Share this:
साइना नेहवाल ने अलग होने के तीन साल बाद फिर से लंबे समय तक मेंटर रहे और पूर्व कोच पुलेला गोपीचंद के मार्गर्दशन में हैदराबाद में उनकी अकैडमी में ट्रेनिंग करने का फैसला किया है. वह जांघ की मांसपेशियों में खिंचाव से उबरने के बाद ट्रेनिंग शुरू करेंगी.

लंदन ओलंपिक की कांस्य पदकधारी शटलर की जांघ में हाल में समाप्त हुई विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के दौरान खिंचाव आ गया था. उन्होंने मुख्य कोच गोपीचंद और अपने मौजूदा कोच विमल कुमार के साथ अपनी इस इच्छा के बारे में चर्चा की.

मांसपेशियों में खिंचाव से उबर रही साइना अभी हैदराबाद में हैं, उन्होंने आज अपने ट्विटर हैंडल पर कहा, "कुछ समय से मैं अपना ट्रेनिंग बेस गोपीचंद अकैडमी में बनाने के बारे में सोच रही थी और मैंने इसके बारे में गोपी सर से भी चर्चा की और मैं शुक्रगुज़ार हूं कि उन्होंने दोबारा से मेरी मदद करने पर सहमति जता दी है."



वह प्री क्वार्टरफाइनल में स्कॉटलैंड की क्रिस्टी गिलमौर के खिलाफ मुकाबले के दौरान गिर गयी थी जिससे खुद को चोटिल करा बैठीं. उन्होंने लिखा, "अपने करियर के इस चरण में, मुझे लगता है कि वह मेरे लक्ष्यों को हासिल करने में मेरी मदद कर सकते हैं. गृहनगर हैदराबाद में ट्रेनिंग करने को लेकर मैं बहुत खुश हूं." साइना का हैदराबाद में लौटने का उद्देश्य मुलयो हांडोयो के ट्रेनिंग करना भी है जिन्हें भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) ने साल के शुरू में एकल कोच नियुक्त किया था. वह इंडोनेशिया के महान खिलाड़ी तौफिक हिदायत को कोचिंग दे चुके हैं.



मुलयो के मार्गदर्शन में भारत ने अपार सफलता हासिल की, जिसमें पीवी सिंधू ने विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने के अलावा इंडिया सुपर सीरीज़ भी जीतीं. किदाम्बी श्रीकांत ने भी इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया में लगातार खिताब अपनी झोली में डाले जबकि बी साई प्रणीत ने सिंगापुर में पहला सुपर सीरीज़ खिताब हासिल किया.

विमल ने कहा, "साइना ने विश्व चैंपियनशिप से लौटने के बाद इंडोनेशियाई कोच मुलयो के साथ काम करने के बारे में मेरी राय पूछी जिन्हें भारतीय खेल प्राधिकरण द्वारा लाया गया है जो राष्ट्रीय शिविरों में एकल खिलाड़ियों का प्रदर्शन देख रहे हैं." उन्होंने कहा, "वह हैदराबाद में गोपीचंद अकादमी से जुड़े हुए हैं. मैंने उसे संकेत दिया कि एक बार कोशिश करने में कोई खराबी नहीं है." विमल ने कहा कि साइना चोट से उबरने के बाद गोपीचंद अकादमी में ट्रेनिंग शुरू कर देंगी और देश को गौरवान्वित करने और सुधार करने के लिए भारतीयों को हर मौका दिया जाना अहम है.

विमल ने कहा, "खिलाड़ी शीर्ष पर काफी कम समय के लिए रहते हैं और हमेशा बेहतर होने के लिए चीज़ों को देखते रहते हैं. साइना और सिंधू विशेष लड़कियां हैं और अगर वे इसमें बेहतर हो सकती हैं तो हमें उन्हें ये मौके देने चाहिए." उन्होंने कहा, "प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन अकादमी (पीपीबीए) और गोपीचंद बैडमिंटन अकादमी साई के मान्यता प्राप्त ट्रेनिंग केंद्र हैं और हमने पीपीबीए में साइना का तब समर्थन किया, जब उसे ज़रूरत थी." सत्ताईस वर्षीय चैंपियन शटलर ने इंचियोन 2014 एशियाई खेलों से पहले राष्ट्रीय कोच गोपीचंद से अलग होने और बेंगलुरु में विमल कुमार के मार्गदर्शन में ट्रेनिंग करने का फैसला किया था.

साइना ने लिखा, "मैं विमल सर की भी बहुत शुक्रगुज़ार हूं कि जिन्होंने पिछले तीन सालों में मेरी मदद की. उन्होंने मुझे विश्व की नंबर एक रैंकिंग में पहुंचने में सहायता की और साथ ही विश्व चैंपियनशिप में दो पदक, 2015 में रजत और 2017 में कांस्य दिलाने तथा कई सुपर सीरीज खिलाब हासिल करने में मदद की." साइना डेनमार्क में 2014 विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के क्वार्टरफाइनल में हारने के बाद गोपीचंद से अलग हो गयी थीं जो पहली बार हुआ था.

साल 2011 में साइना ने भास्कर बाबू के साथ ट्रेनिंग शुरू की थी लेकिन अपने फैसले पर पछताते हुए तीन महीने के अंदर गोपीचंद अकैडमी में लौट गयी थीं. साल 2012 में उन्होंने गोपीचंद के मार्गदर्शन में लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था.

ये भी पढ़ें:

नई ज़िम्मेदारी के लिए राठौर तैयार, पढ़ें उनका खिलाड़ी से मंत्री तक का सफर...

US Open: प्री-क्वार्टर फाइनल में हारकर बाहर हुई शारापोवा, वीनस की जीत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2017, 7:53 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading