सीमा बिस्ला ने कटाया टोक्यो का टिकट, विश्व ओलंपिक क्वालीफायर के फाइनल में बनाई जगह

सीमा बिसला ने कटाया टोक्यो ओलंपिक का टिकट (फोटो-सीमा बिस्ला इंस्टाग्राम)

पहलवान सीमा बिस्ला (Seema Bisla) ने बुल्गारिया में चल रही विश्व ओलंपिक क्वालीफायर के सेमीफाइनल में पोलैंड की पहलवान को मात दी, इस तरह उन्होंने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया.

  • Share this:
    नई दिल्ली. सीमा बिस्ला (Seema Bisla) टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाली भारत की चौथी महिला पहलवान बन गई जिसने विश्व ओलंपिक क्वालीफायर के 50 किलोवर्ग के फाइनल में जगह बनाई जबकि सुमित मलिक को घुटने की चोट के कारण फाइनल से पीछे हटकर रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा .

    सीमा ने यूरोपीय चैम्पियनशिप की कांस्य पदक विजेता पोलैंड की अन्ना लुकासियाक को 2-1 से हराकर फाइनल में जगह बनाई . अब वह इक्वाडोर की लूसिया यामिलेथ येपेज गुजमैन से खेलेंगी. भारत की विनेश ( 53 किलो ) , अंशु मलिक ( 57 किलो ) और सोनम मलिक (62 किलो ) ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर चुकी हैं .

    निशा और पूजा ने किया निराश
    भारत की निशा 68 किलो और पूजा 76 किलोवर्ग में हारकर बाहर हो गई हैं . वहीं पुरुष वर्ग में सुमित मलिक 125 किलोवर्ग के फाइनल में नहीं उतरे . उनके कोच जगमंदर सिंह ने बताया कि कुछ सप्ताह पहले राष्ट्रीय शिविर में अभ्यास के दौरान उन्हें दाहिने घुटने में चोट लगी थी लेकिन वह ओलंपिक कोटा हासिल करने के लिये खेल रहे थे .

    इससे पहले हाल ही में अलमाटी में एशियाई चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली सीमा ने बेलारूस की अनास्तासिया यानोतावा को 8- 0 से हराया . उसने स्वीडन की एम्मा जोन्ना डेनाइस को 43 सेकंड बाकी रहते मात दी .

    निशा ( 68 किलो ) को क्वार्टर फाइनल में बुल्गारिया की मिमि रिस्तोवा ने तकनीकी कौशल के आधार पर हराया . निशा ने पहले दौर में पोलैंड की नतालिया इवोना को मात दी थी .वहीं पूजा 76 किलो वर्ग में लिथुआनिया की कामिले जी से 3- 4 से हार गई .

    IPL 2021: माइकल हसी बोले- भारत में भयानक हालात लेकिन मैं खुशकिस्मत हूं 

    टोक्यो ओलंपिक पर मंडरा रहा है खतरा
    टोक्यो ओलंपिक आयोजन समिति के अध्यक्ष ने शुक्रवार को कहा कि मौजूदा हालात में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रमुख थॉमस बाक की जापान यात्रा संभव नहीं लग रही क्योंकि टोक्यो और अन्य इलाकों में 31 मई तक आपात स्थिति लागू कर दी गई है . इस दौरे के रद्द होने से आईओसी और स्थानीय आयोजकों को शर्मिंदगी झेलनी पड़ेगी जो कोरोना महामारी के बीच ओलंपिक के सुरक्षित आयोजन में सक्षम होने का दावा कर रहे हैं . टोक्यो ओलंपिक 23 जुलाई से और पैरालम्पिक 24 अगस्त से होने हैं . इसमें हजारों की संख्या में खिलाड़ी, अधिकारी और अन्य जापान पहुंचेंगे . जापान में कोरोना महामारी से 10500 मौतें हो चुकी हैं .