सिफान हसन ने महिलाओं के 10,000 मीटर रेस में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया, 10 सेकेंड का अंतर

सिफान हसन टोक्यो ओलंपिक में भी उतरेंगी. (World Athletics Twitter)

सिफान हसन टोक्यो ओलंपिक में भी उतरेंगी. (World Athletics Twitter)

नीदरलैंड की महिला एथलेटिक्स खिलाड़ी सिफान हसन (Sifan Hassan) ने नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बना लिया है. उन्होंने 10,000 मीटर की रेस 29 मिनट 6.82 सेकेंड में पूरी की. वे टोक्यो ओलंपिक में भी उतरेंगी.

  • Share this:

एम्सटर्डम. सिफान हसन (Sifan Hassan) ने एथलेटिक्स में नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बना लिया है. उन्होंने कॉन्टिनेंटल इवेंट के दौरान 10,000 मीटर की रेस 29 मिनट 6.82 सेकेंड में में पूरी की. यह पिछले रिकॉर्ड से लगभग 10 सेकंड कम है. इथोपिया की अल्माज अयाना ने रियो ओलंपिक के दौरान 29 मिनट 17.45 सेकेंड में यह कारनामा किया था. लेकिन उनका यह रिकॉर्ड पांच साल बाद टूट गया.

इथोपियन में जन्मीं सिफान हसन 2019 की वर्ल्ड चैंपियन हैं. 28 साल की यह खिलाड़ी अब टोक्यो ओलंपिक में यह प्रदर्शन बरकरार रखना चाहेंगी. जीत के बाद उन्होंने कहा कि रेस के दौरान रिकॉर्ड बनाकर मैं खुश हूं. यह मेरा सपना था. मैं ओलंपिक के लिए तैयार हूं. अपने फैंस के सामने रिकॉर्ड बनाना अच्छा रहा. सिफान हसन ने इसके अलावा पांच किलो मीटर रोड रेस इवेंट में भी वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है.

भारतीय खिलाड़ियों के पास अंतिम मौका

भारतीय एथलेटिक्स खिलाड़ियों के पास ओलंपिक में क्वालिफाई करने का अंतिम मौका है. एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया 25 से 29 जून के बीच पटियाला में इंटर स्टेट सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप आयोजित कर रहा है. इसमें भाग लेने वाले एथलीटों को 10 से 18 जून के बीच फेडरेशन की वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा. अब तक जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा सहित 14 एथलीट टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वलिफाई कर चुके हैं.
टोक्यो में कुल 48 इवेंट होंगे

टोक्यो ओलंपिक के दौरान एथलेटिक्स में कुल 48 इवेंट होने हैं. मुकाबले 30 जलाई से 8 अगस्त तक होने हैं. भारतीय खिलाड़ी इस बार ओलिंपिक में पिछले रिकॉर्ड को पीछे छोड़ना चाहेंगे. रियो में भारत के एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज सहित सिर्फ दो मेडल मिला था. पीवी सिंधू ने बैडमिंटन में सिल्वर मेडल जीता था. दूसरी ओर साक्षी मलिक ने कुश्ती में ब्रॉन्ज पर कब्जा किया था. हालांकि इस बार साक्षी क्वालिफाई नहीं कर सकी हैं. इस बार का ओलंपिक इस मायने में भी खास है कि इसमें महिला और पुरुष खिलाड़ियों की संख्या बराबर है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज