सुमित नागल : क्रिकेट छोड़कर पकड़ा था टेनिस...भूपति से कहा- क्या आप मेरा खेल देखेंगे

सुमित नागल (Sumit Nagal) की मां कृष्‍णा (Krishna) ने कहा कि वे बेटे की उपलब्धि से खुश हैं और उन्हें उम्मीद है कि सुमित देश के लिए कई उपलब्धियां हासिल करेंगे.

News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 2:13 PM IST
सुमित नागल : क्रिकेट छोड़कर पकड़ा था टेनिस...भूपति से कहा- क्या आप मेरा खेल देखेंगे
सुमित नागल ने आठ साल की उम्र से टेनिस खेलना शुरू कर‌ दिया था. (एपी)
News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 2:13 PM IST
खेल की दुनिया में अपनी छाप छोड़ने के लिए किसी खिलाड़ी को लंबा वक्त लग जाता है. किसी कोई कई महीने तो किसी को कई साल अपनी पहचान बनाने में लगते हैं. मगर कोई-कोई खिलाड़ी एक लम्हे में वो कारनामा कर जाता है, जिसे करने का कुछ लोग सिर्फ सपना ही देखते हैं. भारत के युवा टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल (Sumit Nagal) ने अपने पहले ही ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट (Us Open Grandslam Tennis Tournament) के पहले ही मैच के पहले ही सेट में ऐसा ही मुकाम हासिल किया है.

16 अगस्त 1997 को हरियाणा के झज्जर जिले के गांव जैतपुर में पैदा हुए सुमित नागल (Sumit Nagal) ने यूएस ओपन 2019 (US Open 2019) के पहले ही मुकाबले में 20 बार के ग्रैंडस्लैम चैंपियन रोजर फेडरर को पहले सेट में 6-4 से मात दी. हालांकि उन्हें इस मुकाबले में फेडरर ने 4-6, 6-1, 6-2, 6-4 से हरा दिया, लेकिन युवा नागल ने इस हार में भी अपनी जीत तलाश ली. आखिर जब स्विट्जरलैंड का टेनिस लीजेंड मैच के बाद भारत के युवा टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल की तारीफ करे तो यह क्या किसी जीत से कम है.

सुमित के पिता सुरेश नागल फौज से रिटायर हैं और उनकी टेनिस में रुचि थी. लेकिन सुमित पर तो क्रिकेट का खुमार था. कोई स्पोर्ट्स बैकग्राउंड नहीं था तो क्रिकेट ही खेलना शुरू कर दिया. मगर पिता उन्हें भीड़ का हिस्सा नहीं बनने देना चाहते थे. यही वजह रही कि वह सुमित को स्‍थानीय स्पोर्ट्स क्लब ले गए जहां सुमित ने आठ साल की उम्र में पहली बार टेनिस देखा और खेला भी. इसके बाद बेटे को टेनिस खिलाड़ी बनाने के लिए परिवार देश की राजधानी दिल्ली के नांगलोई इलाके में आकर रहने लगा.

जब महेश भूपति से बोले नागल, क्या आप मेरा खेल देखेंगे, प्लीज...

सुमित (Sumit Nagal) ने आठ साल की उम्र से लगातार टेनिस की प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया. दो साल बाद ही टेनिस दिग्गज महेश भूपति के मिशन-2018 के रूप में नागल के पास सुनहरा मौका आया. भूपति का ये मिशन भारत को पहला ग्रैंडस्लैम सिंगल्स चैंपियन दिलवाने के लिए शुरू किया गया था. सुमित नागल ने महेश भूपति से सिर्फ एक ही सवाल पूछा, क्या आप मेरा खेल देखेंगे प्लीज. इसके बाद सुमित नागल की दुनिया एकदम बदल गई. देशभर के हजारों युवाओं में से तीन को इस मिशन के लिए चुना गया, उनमें सुमित नागल का नाम भी था. महेश भूपति की देखरेख में आगे की ट्रेनिंग के लिए उन्हें बेंगलोर ले जाया गया.

Sumit Nagal, Roger Federer,US Open, सुमित नागल, रोजर फेडरर, यूएस ओपन
यूएस ओपन 2019 के अपने पहले मुकाबले में सुमित नागल ने पहले सेट में रोजर फेडरर को 6-4 से हरा दिया. (एपी)


सानिया के बाद विंबलडन में जूनियर डबल्स खिताब जीतने वाले पहले भारतीय
Loading...

साल 2010 में सुमित कनाडा के टोरंटो चले गए, जहां कनाडा के कोच बॉबी महाल ने उन्हें ट्रेनिंग दी. इस दौरान भी उन्हें महेश भूपति से समर्थन और सहयोग मिलता रहा. साल 2014 में सुमित जर्मनी की टेनिस यूनिवर्सिटी में चले गए जहां अर्जेंटीना के मारियानो डेलफिनो ने उन्हें अपनी देखरेख में ट्रेनिंग कराई. इस सफर में सुमित नागल ने कभी रुके और न ही थके. आखिरकार 2015 में वो लम्हा भी आ गया जब सुमित ने विंबलडन में जूनियर डबल्स खिताब अपने नाम किया. 2003 में लड़कियों के जूनियर वर्ग में सानिया मिर्जा (Sania Mirza) के डबल्स खिताब हासिल करने के बाद से ये कारनामा करने वाले वे पहले भारतीय बने.

डेविस कप टीम से बाहर हुए
साल 2017 में न्यूजीलैंड के खिलाफ डेविस कप (Davis Cup) टीम से सुमित नागल को बाहर कर दिया गया. इसकी वजह उनकी अनुशासनहीनता को मानी गई. हालांकि सोमदेव देववर्मन ने यह कहकर तब नागल का बचाव किया कि उन्हें बाहर करने की वजह अनुशासनहीनता नहीं, बल्कि फिटनेस है. हालांकि साल के अंत में नागल ने बेंगलोर ओपन अपने नाम कर फिर से वापसी की. उन्होंने फाइनल में ब्रिटेन के जे क्लार्क को हराकर अपना पहला एटीपी खिताब जीता.

Sumit Nagal, Roger Federer,US Open, सुमित नागल, रोजर फेडरर, यूएस ओपन
रोजर फेडरर ने भी सुमित नागल के खेल की प्रशंसा की है. उन्होंने कहा कि सुमित का भविष्य उज्‍ज्वल है. (एपी)


2018 को भूल जाना ही बेहतर
सुमित नागल के लिए साल 2018 बेहद खराब रहा. वह फ्रेंच ओपन और विंबलडन के क्वालीफाइंग मुकाबलों के पहले दौर से ही बाहर हो गए. इसके अलावा चोटों के चले उनकी वर्ल्ड रैंकिंग भी 306 तक पहुंच गई.

फिर रच दिया इतिहास
पिछले साल की विफलता को भुलाते हुए सुमित नागल ने साल 2019 में जोरदार प्रदर्शन किया. उन्होंने यूएस ओपन के क्वालीफाइंग मुकाबलों में जीत दर्ज करते हुए मुख्य ड्रॉ में प्रवेश किया. इतना ही नहीं, टूर्नामेंट के पहले दौर में उनका सामना स्विट्जरलैंड के स्टार खिलाड़ी रोजर फेडरर से हुआ, जिन्हें नागल ने पहले सेट में मात भी दे दी.

मां ने कहा-आगे जहां और भी हैं...
बेटे सुमित नागल की उपलब्धि से मां कृष्‍णा बेहद खुश हैं. उन्होंने कहा कि हमने रोजर फेडरर के खिलाफ सुमित का मैच देखा था. हम बहुत खुश हैं. सुमित स्पेन के टेनिस स्टार राफेल नडाल को अपना आदर्श मानते हैं. उम्मीद है कि सुमित भविष्य में भी बेहतर प्रदर्शन जारी रखेंगे और देश के लिए कई उपलब्धियां हासिल करेंगे.

INDvsWI: बीच पर गोल टोपी, हाफ पैंट में नजर आए कोच शास्‍त्री, सोशल मीडिया पर जमकर हुए ट्रोल
Karnataka Premier League: विराट कोहली के इस 'दोस्त' ने जड़ दिया उनसे भी तेज शतक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 2:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...