Home /News /sports /

Tokyo Olympics : टोक्यो में गोल्ड मेडल की उम्मीदें, जानिए- ओलंपिक में कितनी बार भारत ने लहराया परचम

Tokyo Olympics : टोक्यो में गोल्ड मेडल की उम्मीदें, जानिए- ओलंपिक में कितनी बार भारत ने लहराया परचम

शूटर अभिनव बिंद्रा ने साल 2008 में भारत को ओलंपिक गोल्ड दिलाया था. (Instagram)

शूटर अभिनव बिंद्रा ने साल 2008 में भारत को ओलंपिक गोल्ड दिलाया था. (Instagram)

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में कई खिलाड़ियों से भारतीय खेल प्रेमियों को गोल्ड मेडल की उम्मीदें हैं. हालांकि इससे पहले कम ही ऐसे मौके आए हैं. करीब 13 साल से भारत इन खेलों में स्वर्ण पदक का इंतजार कर रहा है. जानते हैं कि कितनी बार भारत को ओलंपिक में गोल्ड मेडल मिल चुका है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) शुरू होने में अब करीब एक सप्ताह का ही वक्त बचा है. भारतीय खेल प्रेमी अपने देश के खिलाड़ियों से काफी उम्मीद कर रहे हैं. इस बार मुक्केबाजी से लेकर पहलवानी, तैराकी, तीरंदाजी तक भारतीय खिलाड़ी अपना दमखम दिखाएंगे. इससे पहले जानते हैं कि भारत का राष्ट्रगान कितनी बार ओलंपिक खेलों (Olympic Games) में बजा है यानी कितनी बार खिलाड़ियों ने भारत को स्वर्ण पदक दिलाया है.

    भारत के पदकों की बात करें तो पहली बार नोरमैन प्रिटचार्ड ने 1900 पेरिस के ओलंपिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया था और सिल्वर मेडल जीता था. भारत को ओलंपिक खेलों में पहली बार गोल्ड मेडल हॉकी टीम ने दिलाया. ध्यानचंद, फिरोज खान, रिचर्ड एलन जैसे खिलाड़ियों से सजी हॉकी टीम ने 1928 में एम्सटरडैम में पहली बार भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था. इसके बाद हॉकी में भारत का दबदबा रहा और उसने 1932 लॉस एंजेलिस, 1936 बर्लिन, 1948 लंदन, 1952 हेलसिंकी, 1956 मेलबर्न, 1964 टोक्यो और 1980 मॉस्को के ओलंपिक खेलों में पदक जीता.

    इसे भी पढ़ें, खिलाड़ी अपने दांत से क्यों काटते हैं मेडल? बेहद दिलचस्प है वजह

    टोक्यो ओलंपिक के मेडल
    टोक्यो ओलंपिक के मेडल


    देश आजाद होने से पहले हॉकी में भारत ने तीन बार गोल्ड मेडल जीता जबकि आजादी के बाद पांच बार हॉकी में ही स्वर्ण पदक जीतकर टीम को चैंपियन बनने का गौरव हासिल हुआ. पहली बार खेलों के इस महाकुंभ में भारत के किसी खिलाड़ी ने व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण पदक साल 2008 में बीजिंग के ओलंपिक खेलों में जीता. शूटर अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) यह इतिहास रचने वाले पहले खिलाड़ी बने थे. उन्होंने पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था. तब पोडियम पर अभिनव को सबसे ऊंचा स्थान मिला और भारतीय ध्वज के ऊपर जाने के साथ ही राष्ट्रगान भी बजा.

    इसे भी पढ़ें, टोक्यो ओलंपिक का हिस्सा बनेंगे दिल्ली के चार खिलाड़ी, मिशन एक्सीलेंस टीम से भी

    इसके करीब 13 साल बीत जाने के बाद भी ऐसा पल नहीं आया कि भारत का राष्ट्रगान ओलंपिक में पोडियम पर खिलाड़ी के गले में स्वर्ण पदक के साथ बजे. हालांकि इस बार काफी उम्मीदें हैं कि भारतीय खिलाड़ी इतिहास रचेंगे. पिछले बार के ओलंपिक खेलों में रियो में साक्षी मलिक ने फ्रीस्टाइल रेसलिंग में कांस्य पदक जीता था जबकि बैडमिंटन में पीवी सिंधु ने महिला एकल में रजत पदक अपने नाम किया था. वह फाइनल में स्पेन की दिग्गज कैरोलिना मारिन से हार गई थीं.

    Tags: Abhinav bindra, Olympics, Olympics 2020, Tokyo 2020, Tokyo olympic 2020, Tokyo Olympics, Tokyo Olympics 2020

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर