Home /News /sports /

Tokyo Olympics: देश के साथ लवलीना का दिल भी मांगे गोल्ड, बोलीं- अभी नहीं, फाइनल जीतने पर बोलूंगी थैंक्यू

Tokyo Olympics: देश के साथ लवलीना का दिल भी मांगे गोल्ड, बोलीं- अभी नहीं, फाइनल जीतने पर बोलूंगी थैंक्यू

Tokyo Olympics : भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन का वेल्टरवेट कैटेगरी (64-69 किग्रा) के सेमीफाइनल में मुकाबला तुर्की की 23 साल की बुसानेज सुरमेनेली (Surmeneli Busenaz) से होगा. (Lovlina Borgohain Instagram)

Tokyo Olympics : भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन का वेल्टरवेट कैटेगरी (64-69 किग्रा) के सेमीफाइनल में मुकाबला तुर्की की 23 साल की बुसानेज सुरमेनेली (Surmeneli Busenaz) से होगा. (Lovlina Borgohain Instagram)

Tokyo Olympics: महिला मुक्केबाजी के सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद भी लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) खुश नहीं हैं. उनका लक्ष्य ओलंपिक गोल्ड है. उन्होंने कहा कि केवल एक ही पदक है, वह स्वर्ण है. और मेरा लक्ष्य इसे जीतना ही है. इसके बाद ही पूरे देश को बधाई देने के लिए थैंक्यू कहूंगी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत का महिला मुक्केबाजी में एक मेडल पक्का हो गया है. शुक्रवार को लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) वेल्टरवेट कैटेगरी (64-69 किग्रा) के सेमीफाइनल में पहुंच गई. उन्होंने क्वार्टर फाइनल में पूर्व विश्व चैम्पियन निएन चिन चेन (CHEN Nien-Chin) को 4-1 से हराया. अब सेमीफाइनल में उनका मुकाबला तुर्की की 23 साल की बुसानेज सुरमेनेली (SURMENELI Busenaz) से होगा. उन्होंने क्वार्टर फाइनल में यूक्रेन की एना लाइसेंको को हराया था.

    सुरमेनेली 2019 की वर्ल्ड चैंपियन हैं. लवलीना को पहले राउंड में उन्हें बाई मिली थी, जबकि राउंड-16 के मुकाबले में उन्होंने जर्मनी की 35 साल की मुक्केबाज नेदिने एपेट्ज को 3-2 से हराया था.

    महिला मुक्केबाजी के सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद भी लवलीना खुश नहीं हैं. उनकी नजर गोल्ड पर है. लवलीना ने कहा कि केवल एक ही पदक है, वह स्वर्ण है. और मेरा लक्ष्य इसे जीतना ही है. अभी, मैं सेमीफाइनल की तैयारी करूंगी. उन्होंने आगे कहा कि मुझे दिग्गज मुक्केबाज मोहम्मद अली (Muhammad Ali) का खेल बहुत पसंद है. मैं अपने खेल में उनके फुटवर्क और लंबे पंच का इस्तेमाल करती हूं.

    लवलीना ने आगे कहा कि मैंने बॉक्सिंग में कदम रखने के बाद, केवल मैरीकॉम का नाम ही सुना है. मुझे बहुत अच्छा लगा कि वो हमारे साथ टोक्यो में थीं. उन्होंने काफी संघर्षों के बाद यह मुकाम हासिल किया और मैं उनसे प्रेरणा लेती हूं.

    Tokyo Olympics: मोहम्मद अली की एक तस्वीर से बदली लवलीना की जिंदगी, अब बनी देश की दूसरी मैरीकॉम

    मैं फाइनल जीतने के बाद सबको थैंक्यू बोलूंगी: लवलीना
    लवलीना को क्वार्टर फाइनल मुकाबला जीतने के बाद से ही पूरे देश की तरफ से बधाई मिल रही है. लेकिन उन्होंने कहा कि मैं अभी किसी को थैंक्यू नहीं कहूंगी. मैं वेल्टरवेट कैटेगरी में अपना फाइनल मुकाबला जीतने के बाद पूरे देश का धन्यवाद करूंगी.

    Tokyo Olympics: लवलीना ने किक बॉक्सिंग से की करियर की शुरुआत, 2012 से बॉक्सिंग को अपनाया

    मैरीकॉम ने लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज जीता था
    लवलीना बोरगोहेन विश्व चैंपियनशिप में दो और एशियाई चैंपियनशिप में एक बार की कांस्य पदक विजेता हैं. लवलीना से पहले महिला बॉक्सर एमसी मैरीकॉम (MC Marykom) ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था. ओलंपिक इतिहास में सिर्फ दो महिला बॉक्सर ही मेडल जीत सकी हैं. वहीं पुरुष कैटेगरी में 2008 बीजिंग ओलंपिक में विजेंदर सिंह (Vijender Singh) ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था.

    Tags: Lovlina Borgohain, Mc mary kom, Olympics 2020, Tokyo 2020, Tokyo Olympics 2020, Tokyo Olympics 2021, Vijender Singh

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर