• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • दीपक पूनिया शाकाहारी हैं; वजन कम रखने के लिए 6 महीने से नहीं खा रहे घी, मां की मौत के बाद भी डटे रहे

दीपक पूनिया शाकाहारी हैं; वजन कम रखने के लिए 6 महीने से नहीं खा रहे घी, मां की मौत के बाद भी डटे रहे

Tokyo Olympics: दीपक पूनिया सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं. वे पहली बार ओलंपिक में उतर रहे हैं. (Deepak Punia Instagram)

Tokyo Olympics: दीपक पूनिया सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं. वे पहली बार ओलंपिक में उतर रहे हैं. (Deepak Punia Instagram)

Tokyo Olympics: दीपक पूनिया (Deepak Punia) ने ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंचकर मेडल की उम्मीद जगा दी है. 22 साल के इस पहलवान ने वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी मेडल जीता है. सेमीफाइनल मुकाबला आज दोपहर को खेला जाना है.

  • Share this:

    टोक्यो. भारतीय पहलवान दीपक पूनिया (Deepak Punia) ने अपने पहले ही ओलंपिक में कमाल का प्रदर्शन किया है. वे 86 किग्रा वेट कैटेगरी के सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं. वे अगर अगला मुकाबला जीत लेते हैं तो उनका मेडल पक्का हो जाएगा. 22 साल के हरियाणा के पहलवान दीपक ने चीन के शेन को 6-3 से हराया. वे 2019 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी सिल्वर मेडल जीत चुके हैं.

    दीपक पूनिया ने छोटी सी उम्र में ही खेल को अपना साथी बना लिया था. वे 5 साल की उम्र से अखाड़े में उतर गए थे. हालांकि पिछले साल उनकी मां का निधन हो गया था. इसके बाद भी उन्होंने हौसला नहीं खोया और टोक्यो ओलंपिक में भारत के मेडल की उम्मीद जिंदा रखी है. दीपक पूनिया शाकाहारी हैं और उन्हें घर का बना खाना पसंद है. उनकी दो बड़ी बहन भी हैं. वे वर्ल्ड जूनियर रेसलिंग चैंपियनशिप में भी गोल्ड और सिल्वर मेडल जीत चुके हैं.

    6 महीने से नहीं खा रहे हैं घी

    दीपक पूनिया वजन बढ़ने से रोकने के लिए पिछले छह महीने से घी नहीं खा रहे हैं. शाकाहारी होने के कारण वे हरी सब्जियों के सूप और दाल के पानी पर अधिक निर्भर रहते हैं. दीपक को बाहर का खाना पसंद नहीं है. कुश्ती में उन्हें आगे बढ़ाने के लिए उनके पिता ने दूध बेचने तक का काम छोड़ दिया था. कई बार आस-पास के लोग पिता से दीपक को किसी काम-धंधे में भेजने की बात कहते थे, लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी और आज उनके बेटे ने ओलंपिक में अपने प्रदर्शन से सभी को गर्व करने का मौका दे दिया है.

    छत्रसाल स्टेडियम में ले चुके हैं ट्रेनिंग

    दीपक पूनिया दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में ट्रेनिंग ले चुके हैं. यहीं से दिग्गज पहलवान सुशील कुमार भी निकले. वे कुश्ती में दो मेडल जीतने वाले इकलौते भारतीय रेसलर हैं. डेढ़ साल पहले छत्रसाल में ट्रेनिंग लेने के बाद उनके कोच ने नरेला में अखाड़ा खोल दिया और दीपक उसके बाद वहीं ट्रेनिंग कर रहे हैं. दीपक पूनिया एशियन चैंपियनशिप, वर्ल्ड कैडेट चैंपियनशिप और एशियन जूनियर चैंपियनशिप में भी मेडल जीत चुके हैं. अगर वे टोक्यों में मेडल जीत लेते हैं तो अपना नाम इतिहास में दर्ज करा लेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज