• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics: 13 साल की मोमिजी निशिया ने ओलंपिक में जीत लिया गाेल्ड, रचा इतिहास

Tokyo Olympics: 13 साल की मोमिजी निशिया ने ओलंपिक में जीत लिया गाेल्ड, रचा इतिहास

Tokyo Olympics: मोमिजी निशिया (Momiji Nishiya) ने जीता गोल्ड. (AP)

Tokyo Olympics: मोमिजी निशिया (Momiji Nishiya) ने जीता गोल्ड. (AP)

Tokyo Olympics: 13 साल की मोमिजी निशिया (Momiji Nishiya) ने अपना नाम इतिहास में दर्ज करा लिया है. इस युवा एथलीट ने ओलंपिक में महिलाओं के स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग इवेंट में गोल्ड मेडल जीता. वे जापान की ओर से गोल्ड जीतने वाली सबसे युवा एथलीट भी हैं.

  • Share this:
    टोक्यो. 13 साल की जापान की एथलीट मोमिजी निशिया (Momiji Nishiya) ने बड़ा कारनामा कर दिया है. उन्होंने महिलाओं के स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग इवेंट में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है. पहली बार इस खेल को ओलंपिक में शामिल किया गया था. इतना ही नहीं सिल्वर जीतने वाली ब्राजील की रेयसा लीएल भी 13 साल की जबकि ब्रॉन्ज जीतने वाली जापान की फुना नाकायामा 16 साल की हैं. यानी तीनों खिलाड़ियों की उम्र 18 साल से कम है. ओलंपिक इतिहास में यह पहला मौका है, जब एक इवेंट के सभी मेडल 18 साल के कम उम्र के एथलीटों ने जीते हैं.

    ओलंपिक के इतिहास में सबसे कम उम्र में गोल्ड मेडल जीतने का रिकॉर्ड अमेरिका की मारजोरी गेस्ट्रिंग के नाम है. उन्होंने 1936 के ओलंपिक खेलों में 13 साल और 268 दिन की उम्र में स्प्रिंगबोर्ड इवेंट में गोल्ड मेडल जीतकर बड़ा कारनामा किया था. निशिया स्केटबोर्डिंग इवेंट में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी भी बन गई हैं. मेजबान जापान ने स्केटबोर्डिंग के स्ट्रीट इवेंट के सभी गोल्ड अपने नाम किए. पुरुषों के इवेंट में जापान के युतो होरिगोम ने गोल्ड मेडल जीता था.

    मोमिजी निशिया के रिकॉर्ड.


    मोमिजी 15.26 के स्कोर के साथ टॉप पर रहीं

    मोमिजी निशिया 15.26 के स्कोर के साथ टॉप पर रहीं. उनके अंतिम तीन प्रयास में 4.15, 4.66 और 3.43 का स्कोर करके पहला स्थान हासिल किया. ब्राजील की रेयसा लीएल 14.64 के स्कोर के साथ दूसरे और नाकायामा ने 14.49 के स्कोर साथ तीसरे पर रहीं.

    यह भी पढ़ें: Tokyo Olympics, Boxing: लवलीना क्वार्टर फाइनल में, भारत दूसरे मेडल से एक कदम दूर

    सभी को स्केटबोर्डिंग करनी चाहिए

    गोल्ड मेडल जीतने के बाद मोमिजी निशिया ने कहा कि सभी को स्केटबोर्डिंग करनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘मैं सबसे कम उम्र में गोल्ड मेडल जीतकर खुश हूं. मैं शुरुआत में थोड़ी नवर्स थी, लेकिन बाद में सब ठीक हो गया.’ उन्होंने कहा कि यह खेल मजेदार और दिलचस्प है. इसलिए मैं चाहती हूं कि सभी को स्केटबोर्डिंग का प्रयास करना चाहिए. मोमिजी निशिया 2024 पेरिस ओलंपिक में भी गोल्ड मेडल जीतना चाहती हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज