• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics: मनिका बत्रा को नेशनल कोच को नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी, TTFI एक्शन ले सकता है

Tokyo Olympics: मनिका बत्रा को नेशनल कोच को नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी, TTFI एक्शन ले सकता है

Tokyo Olympics: टोक्यो ओलंपिक में मनिका बत्रा (Manika Batra) टेबल टेनिस के महिला सिंगल्स के तीसरे राउंड तक पहुंचीं थी. (AP)

Tokyo Olympics: टोक्यो ओलंपिक में मनिका बत्रा (Manika Batra) टेबल टेनिस के महिला सिंगल्स के तीसरे राउंड तक पहुंचीं थी. (AP)

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में टेबल टेनिस के महिला सिंगल्स के तीसरे राउंड में पहुंचकर इतिहास रचने वाली मनिका बत्रा (Manika Batra) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. उनके खिलाफ कोच विवाद में टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया (TTFI) कार्रवाई कर सकता है. दरअसल, मनिका ने निजी कोच नहीं मिलने पर नेशनल कोच सौम्यदीप रॉय (Soumyadeep Roy) की सेवाएं लेने से इनकार कर दिया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में टेबल टेनिस के महिला सिंगल्स के तीसरे राउंड में पहुंचकर इतिहास रचने वाली मनिका बत्रा (Manika Batra) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. उनके खिलाफ कोच विवाद में टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया ( TTFI) कार्रवाई कर सकता है. फेडरेशन के महासचिव अरूण कुमार बनर्जी (Arun Kumar Banerjee) ने यह साफ कर दिया है कि मनिका के देश लौटने के बाद उनसे टोक्यो ओलंपिक के दौरान नेशनल कोच सौम्यदीप रॉय (Soumyadeep Roy) की सेवाएं लेने से इनकार करने के मामले में सवाल-जवाब होंगे.

    महासचिव अरूण ने कहा कि मनिका के खिलाफ किस तरह की कार्रवाई की जाए, इस पर कार्यकारी समिति फैसला लेगी. उन्होंने कहा कि मनिका की ओर से सौम्यदीप को टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेने वाली सुतीर्था मुखर्जी का निजी कोच बुलाना गैर-पेशेवर था. यह बात सही है कि सुतीर्था सौम्यदीप की एकडेमी में खेलती हैं, लेकिन वो नेशनल कोच हैं. ऐसे में उन्हें निजी कोच बताने को किसी भी सूरत में सही नहीं माना जा सकता है.

    उन्होंने आगे कहा कि मनिका का यह कहना गलत है कि उनके कोच को उनके साथ टोक्यो जाने की अनुमति नहीं थी. वह पहले जानती थी कि कोरोना के कारण टोक्यो 2020 की आयोजन समिति ने कोचों की संख्या पहले से ही निश्चित कर रखी थी. हर खिलाड़ी को यह पता था कि किस हद तक कोच की पहुंच टोक्यो ओलंपिक में होगी.

    सौम्यदीप इस विवाद की जानकारी टीम मैनेजर को देंगे
    महासचिव अरूण बनर्जी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि मनिका ने निजी कोच के लिए आवेदन किया था. हमने भी आयोजन समिति से उन्हें कोच देने की सिफारिश की थी. लेकिन इसे मंजूरी नहीं मिली. टोक्यो पहुंच जाने के बाद नेशनल कोच सौम्यदीप की जगह निजी कोच की मांग करना सही नहीं है. मैंने सौम्यदीप को टोक्यो गए मैनेजर एमपी सिंह से बात करने और इस मामले की पूरी जानकारी देने के लिए कहा है.

    मनिका के निजी कोच को कोर्ट पर रहने की अनुमति नहीं थी
    बता दें कि मनिका ने टोक्यो में भारतीय दल के प्रमुख से अपने निजी कोच सन्मय परांजपे के लिए खेल के मैदान (Field of Play) की अनुमति देने का अनुरोध किया था. लेकिन टीम के मैनेजर एमपी सिंह ने कहा कि उनकी यह मांग पूरी नहीं हुई थी. उन्होंने कहा कि हम खिलाड़ियों के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन उन्हें सरकार को यह बताना चाहिए. आखिरी मिनट में उनके निजी कोच को टोक्यो जाने की मंजूरी मिल गई थी. लेकिन उन्हें मैचों के दौरान कोर्ट पर रहने की मंजूरी नहीं मिल पाई थी. मुझे लगता है कि इस घटना को ध्यान में रखते हुए हमें नियम बनाना होगा कि अगर अगली बार ऐसा कुछ हुआ तो हम क्य़ा करेंगे.

    Tokyo Olympics 2020 में विवाद, मनिका बत्रा ने नेशनल कोच से सलाह लेने से किया इनकार, जानिये क्यों?

    मनिका ने नेशनल कोच की सेवाएं लेने से इनकार किया था
    मनिका ने अपने निजी कोच को कोर्ट में प्रवेश की अनुमति नहीं दिए जाने के बाद टोक्यो ओलंपिक के पहले दौर के मैच में राष्ट्रीय कोच (Manika Batra Coach Controversy) सौम्यदीप रॉय की सलाह लेने से इनकार कर दिया था. हालांकि, वो तब ब्रिटेन की 94वीं रैंकिंग की खिलाड़ी टिन टिन हो से जीत गईं थीं. उन्होंने तीसरे राउंड में भी ऐसा ही किया था. लेकिन 10वीं सीड ऑस्ट्रिया की सोफिया पोलकानोवा से उन्हें शिकस्त झेलनी पड़ी. हालांकि, मिक्स्ड डबल्स के मैच में जब वो अचंता शरत कमल के साथ उतरी थीं तो सौम्यदीप कोच कॉर्नर में खड़े दिखे थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज