लाइव टीवी

रिटायरमेंट के बाद वापसी करना चाहते थे बोल्ट, इस कारण बदला फैसला

News18Hindi
Updated: February 16, 2020, 3:30 PM IST
रिटायरमेंट के बाद वापसी करना चाहते थे बोल्ट, इस कारण बदला फैसला
उसेन बोल्ट ने साल 2017 में रिटायरमेंट ले लिया था

बोल्ट ने पहली बार 2008 बीजिंग ओलिंपिक (Beijing Olympic) में 100, 200 मीटर दौड़ और 4 गुणा 100 मीटर रिले में गोल्ड अपने नाम किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2020, 3:30 PM IST
  • Share this:
अटलांटा. ओलिंपिक चैंपियन और दुनिया के सबसे तेज दौड़ने वाले एथलीट यूसेन बोल्ट (Usain Bolt) तीन साल पहले अपने करियर को अलविदा कह चुके हैं. हालांकि वह ट्रैक को काफी मिस करते हैं जिसके कारण उन्होंने रिटायरमेंट के बाद वापसी का फैसला किया था हालांकि उन्हें उनके कोच की एक सलाह ने ऐसा करने से रोक दिया. बोल्ट (Usain Bolt) ने आखिरी बार 2017 में वर्ल्ड चैंपियनशिप (World Championship) में हिस्सा लिया था. हालांकि उनके करियर का वैसा अंत नहीं हुआ जैसा उनका करियर रहा. अपनी आखिरी रेस 4x100 मीटर वह हैमस्ट्रिंग के कारण पूरी नहीं कर पाए थे.

bolt, usain bolt, sports news
9.58 सेकंड में 100 मीटर दौड़ने वाले बोल्ट का यह रिकॉर्ड अब तक नहीं टूटा है


रिटायरमेंट के बाद वापसी करना चाहते थे बोल्ट
सीएनएन के मुताबिक यूसेन बोल्ट ने कहा, 'मैंने अपनी वापसी के लिए मैंने ट्रैक कोच से बात की तो उन्होंने कहा नहीं आप ऐसा नहीं करने वाले हैं क्योंकि जो ऐसा करते हैं उनकी वापसी अच्छी नहीं होती. अपने करियर के आखिरी समय में मैं जानता था कि यह सही समय है रिटायरमेंट के लिए. हालांकि जब भी मैं ट्रैक और घड़ी देखता हूं तो मैं खेल को बहुत मिस करता हूं. जब भी वापसी का सोचकर ट्रेनिंग करता हूं तब लगता है मैंने रिटायरमेंट लेकर सही फैसला किया है.'



बोल्ट इस साल होने वाले टोक्यो ओलिंपिक में स्टैंड में बैठकर इस खेल का मजा लेंगे. इस बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, 'मैं पहली बार स्टैंड में बैठकर इवेंट देखूंगा. मैंने हमेशा इवेंट देखें हैं, पहले भी और अभी भी देखता हूं लेकिन मैंने कभी माइकल फ्लेप्स को तैरते हुए नहीं देखा.'

बीजिंग में जीता गया मिक्स्ड रिले इवेंट का गोल्ड जमैका से ले लिया गया था


बोल्ट के नाम हैं कई बड़े रिकॉर्ड
बोल्ट ने पहली बार 2008  बीजिंग ओलिंपिक में 100, 200 मीटर दौड़ और 4 गुणा 100 मीटर रिले में गोल्ड अपने नाम किया था. बोल्ट ने लंदन में ही नहीं, बल्कि 2016 रियो डि जेनेरियो में भी ऐसा कर दिखाया. वह लगातार तीन ओलिंपिक में ट्रिपल-ट्रिपल यानी लगातार तीन-तीन गोल्ड मेडल जीतने का सपना पूरा करने में भी सफल रहे. हालांकि बाद में उनका बीजिंग का चार गुणा, सौ मीटर रिले का गोल्ड एक साथी एथलीट के डोप में पकड़े जाने पर छिन गया. विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी वह 11 गोल्ड जीत चुके हैं. अपनी आखिरी रेस में बोल्ट को हार का सामना पड़ा. लेकिन बेशक वह ट्रैक के बादशाह रहेंगे.

पुलवामा अटैक के बाद पहली बार भारत आएंगे पाकिस्तानी खिलाड़ी, सरकार ने दिया वीजा

सीओए के हटने के बाद बीसीसीआई के पहले CE0 राहुल जौहरी ने दिया इस्तीफा - सूत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 16, 2020, 3:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर