कोरोना वायरस के कारण संन्यास लेने को मजबूर है यह खिलाड़ी, ट्वीट करके मांगी मदद

कोरोना वायरस के कारण संन्यास लेने को मजबूर है यह खिलाड़ी, ट्वीट करके मांगी मदद
भारत में अभी स्विमिंग पूल खोलने की अनुमति नहीं दी गई है

वीरधवल खाड़े (Virdhawal Khade) ने कहा कि अभ्यास की बहाली में देरी से टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympic) से पहले भारतीय तैराकों को बहुत नुकसान हो रहा है

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण लगा लॉकडाउन भले ही देश में खत्म हो गया हो लेकिन अब तक हालात पूरी तरह सामान्य नहीं हुए हैं. भारत में अब भी सभी खिलाड़ियों को अभ्यास करने की अनुमति नहीं मिली है.  अभ्यास नहीं कर पाने से परेशान एशियाई खेलों के कांस्य पदक विजेता तैराक वीरधवल खाड़े (Virdhawal Khade) ने रविवार को कहा कि अगर कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण लगे प्रतिबंधों की वजह से स्वीमिंग पूल आगे भी बंद रहते हैं तो वह खेल से संन्यास लेने पर विचार कर सकते हैं.

कोरोना के कारण ओलिंपिक की तैयारियों को लगा है झटका
खाड़े ने कहा कि अभ्यास की बहाली में देरी से टोक्यो ओलिंपिक से पहले भारतीय तैराकों को बहुत नुकसान हो रहा है. थाईलैंड, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन सहित कई देशों ने अपने पूल खोल दिये हैं और तैराकों को अभ्यास की अनुमति दे दी है लेकिन भारत में गृह मंत्रालय ने भले ही प्रतिबंधों में ढील देने की घोषणा की कि लेकिन कोरोना वायरस के लगातार बढ़ रहे मामलों के कारण अब तक ऐसा नहीं हुआ है.

खाड़े ने ट्वीट किया, ‘तैराकी से संन्यास लेने पर विचार करना पड़ सकता है. फिर से तैराकी शुरू करने को लेकर कोई समाचार या संदेश नहीं मिला है. चाहता हूं कि तैराकी को भी अन्य खेलों की तरह से आंका जाए.’ उन्होंने अपने इस ट्वीट में खेल मंत्री किरेन रिजिजू और भारतीय तैराकी महासंघ को भी टैग किया है.
गृह मंत्रालय ने दर्शकों के बिना स्टेडियम खोलने की अनुमति दे दी है तथा ओलिंपिक के लिये क्वालीफाई कर चुके कई खिलाड़ियों ने अभ्यास भी शुरू कर दिया है. खाड़े ने कहा, ‘भारत में तैराकों को तरणताल में उतरे लगभग तीन महीने हो गये हैं. जब अन्य खेलों के खिलाड़ी अभ्यास के दौरान सामाजिक दूरी का पालन कर सकते हैं तो तैराक भी ऐसा कर सकते हैं. उम्मीद है कि ओलंपिक में तैराकी के अन्य संभावित दावेदार इस वजह से संन्यास पर विचार नहीं करेंगे.’



पूल खोलने की जा रही है गुजारिश
भारतीय तैराकी महासंघ (एसएफआई) ने खेल परिसरों के अंदर पूल को खोलने के लिये खेल मंत्रालय से गृह मंत्रालय से स्पष्ट अनुमति लेने का आग्रह किया था ताकि शीर्ष तैराक अभ्यास शुरू कर सकें. एसएफआई के अनुसार एलीट तैराकों के लिये पूल खोलना मनोरंजन के लिये तैराकी के अंतर्गत नहीं आता जैसा कि गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों में कहा गया है.

सुनील छेत्री ने भारतीय फुटबॉल में पूरे किए 15 साल, देश का बढ़ाया है गौरव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading