वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में अनूठी है ये बात, विजेता को इनाम के तौर पर एक रुपया तक नहीं मिलता

News18Hindi
Updated: August 19, 2019, 4:40 PM IST
वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में अनूठी है ये बात, विजेता को इनाम के तौर पर एक रुपया तक नहीं मिलता
वर्ल्ड चैंपियनशिप के विजेता को सिर्फ मेडल दिया जाता है

बैडमिंटन (Badminton) दुनिया में सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले खेलों में से एक है. दिलचस्प बात है कि उसका सबसे बड़ा टूर्नामेंट वर्ल्ड चैंपियनशिप (World Championship) जीतने वाले खिलाड़ियों पर धन वर्षा नहीं होती.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2019, 4:40 PM IST
  • Share this:
अधिकतर बड़े टूर्नामेंट में विजेताओं पर धनवर्षा होती है, लेकिन बैडमिंटन की वर्ल्ड चैंपियनशिप (World Badminton Championships)  एक ऐसा टूर्नामेंट है, जिसमें विजेताओं को इनामी राशि नहीं दी जाती है. उन्हें जीतने पर सिर्फ मेडल (Medal) मिलता है. दुनिया के सबसे बड़े टूर्नामेंट में से एक वर्ल्ड चैंपियनशिप  में करीब 50 देश के सैकड़ों खिलाड़ी कोर्ट पर उतरते हैं, लेकिन उन्हें जीतने पर मेडल और ट्रॉफी ही मिलती है और साथ में मिलता है वर्ल्ड चैंपियन का खिताब.

1977 में शुरू हुई वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भले ही विजेता को इनामी राशि न मिलती हो, लेकिन यह बैडमिंटन का सबसे ज्यादा रैंकिंग पॉइंट वाला टूर्नामेंट होता है.

इस वजह से चैंपियनशिप शुरू होने में हुई देरी 

सायना नेहवाल 2015 में इस टूर्नामेंट के फाइनल में कैरोलिना मारिन से हार गई थीं


दुनिया में सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले खेल फुटबॉल, क्रिकेट, टेनिस, हॉकी के वर्ल्ड कप या वर्ल्ड चैंपियनशिप काफी पहले ही शुरू हो गए थे. इनमे से सबसे पहले टेनिस वर्ल्ड कप यानी डेविस कप (Davis cup) शुरू हुआ था. बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप (World Badminton Championships) को शुरू होने के पीछे देरी ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप को माना जाता है, जो अनऑफिशियली वर्ल्ड चैंपियनशिप था. दरअसल 1899 में हुआ इंग्लैंड ओपन उस समय बैडमिंटन का सबसे बड़ा टूर्नामेंट होता था, लेकिन वो सिर्फ इंग्लैंड में ही होता था. जबकि बैडमिंटन की विश्व स्तरीय बॉडी इसे पूरी दुनिया तक पहुंचाना चाहती थी और इसीलिए वर्ल्ड चैंपियनशिप की शुरुआत हुई.

ओलिंपिक ईयर में नहीं होती चैंपियनशिप
इस चैंपियनशिप के शुरुआती तीन सीजन हर तीन साल में होते थे. फिर 2005 से यह हर दो साल में होने लगी. 2006 से यह ओलिंपिक ईयर छोड़कर हर साल होने लगी. चैंपियनशिप में सिंगल्स में अधिक से अधिक चार जोड़ियां और डब्‍ल्स में 4 -4 जोड़ियां हिस्सा ले सकती हैं.
Loading...

यह भी पढ़ें- अमिताभ के नीले बाल और जैकेट के पीछे दीवाने हुए चेल्सी फैंस

Davis Cup: पाकिस्‍तानी खिलाड़ी का भारत पर आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 3:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...