• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics : 'बस ध्यान लगाए रखो, जीत जाओगी'... पीवी सिंधु ने बताया, लगातार हौसला बढ़ा रहे थे कोच

Tokyo Olympics : 'बस ध्यान लगाए रखो, जीत जाओगी'... पीवी सिंधु ने बताया, लगातार हौसला बढ़ा रहे थे कोच

भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. (AP)

भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. (AP)

रियो ओलंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट शटलर पीवी सिंधु (PV Sindhu) के साथ दक्षिण कोरियाई कोच पार्क ताए सांग मौजूद हैं. सिंधु ने दुनिया की पांचवें नंबर की खिलाड़ी अकाने यामागुची को सीधे गेमों में हराकर टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) के सेमीफाइनल में जगह बना ली है.

  • Share this:

    टोक्यो. मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन शटलर पीवी सिंधु (PV Sindhu) शुक्रवार को जापान की दुनिया की पांचवें नंबर की खिलाड़ी अकाने यामागुची को सीधे गेम में पराजित कर टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) की महिला एकल स्पर्धा के सेमीफाइनल में पहुंच गईं. इससे उन्होंने बैडमिंटन में भारत की पहले ओलंपिक स्वर्ण पदक की उम्मीद जीवंत रखी हैं. रियो ओलंपिक-2016 की रजत पदक विजेता सिंधु ने मैच के बाद बताया कि कोच पार्क ताए सांग (Park Tae Sang) ने उनसे कहा था कि ध्यान लगाए रखो, तुम जीत जाओगी.

    सिंधु ने क्वार्टर फाइनल मैच में शानदार खेल दिखाया और अपने आक्रामक अंदाज की बदौलत चौथी वरीय यामागुची को 56 मिनट तक चले मुकाबले में 21-13, 22-20 से शिकस्त दी. अब उनका सामना चीनी ताइपे की दूसरी वरीय ताई जु यिंग से होगा जिन्होंने दूसरे क्वार्टरफाइनल में थाईलैंड की रतचानोक इंतानोन को 14-21, 21-18, 21-18 से हराया.

    इसे भी पढ़ें, सिंधु सेमीफाइनल में, लगातार दूसरे ओलंपिक मेडल से एक जीत दूर

    छठी वरीयता प्राप्त सिंधु ने मैच के बाद कहा, ‘पहला गेम ज्यादातर समय मेरे नियंत्रण में था. मैं बढ़त बना रही थी लेकिन मैं डटी रही क्योंकि पिछले मैचों में उन्होंने (यामागुची) वापसी कर ली थी. मैंने बढ़त कायम रखी और इसे जीत लिया. दूसरे गेम में मैं बढ़त बना रही थी लेकिन फिर यामागुची ने वापसी की लेकिन मैंने भी सामना किया, मैंने उम्मीद नहीं गंवाईं. उसी लय में खेलना जारी रखा. मैं जिस तरह से खेली, ज्यादा गलतियां नहीं की, उससे खुश हूं.’

    मैच से पहले सिंधु का जापानी खिलाड़ी के खिलाफ जीत का रिकॉर्ड 11-7 था जिन्हें उन्होंने इस साल मार्च में ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में हराया था. यामागुची ने दूसरे गेम में वापसी की कोशिाश की लेकिन सिंधु ने उन पर 19 भिड़ंत में 12वीं जीत दर्ज की. भारतीय खिलाड़ी ने कहा, ‘मैं नर्वस नहीं थी, हालांकि वह गेम प्वाइंट पर थीं. मेरे कोच कह रहे थे- ध्यान लगाए रखो, तुम पहुंच जाओगी. वह लगातार मेरा समर्थन कर रहे थे, मैं खुश हूं कि दो गेम में वापसी कर सकी.’

    इसे भी पढ़ें, ओलंपिक में पदक तैयारी के लिए ये थी मीरा चानू की डाइट, क्या खाते हैं खिलाड़ी

    उन्होंने कहा, ‘मैंने इसके लिए बहुत मेहनत की है. अब जाकर मैं थोड़ा सहज महसूस करूंगी और अगले मैच के लिए तैयारी करूंगी. मैं खुश हूं लेकिन मुझे अगले मैच की तैयारी करनी है.’ चीन की चेन यु फेई और ही बिंग जियाओ सेमीफाइनल में पहुंचने वाली अन्य दो खिलाड़ी हैं.

    दुनिया की नंबर-1 खिलाड़ी ताई जु को कोच पार्क ताए सांग भारतीय खिलाड़ी की सबसे बड़ी प्रतिद्वंद्वी मानते हैं और जिनका सिंधु के खिलाफ जीत का रिकॉर्ड 13-7 है. सिंधु पिछले तीन मुकाबलों में ताई जु से हार चुकी हैं लेकिन वह महत्वपूर्ण टूर्नामेंट जैसे 2016 रियो ओलंपिक, 2019 विश्व चैंपियनशिप और 2018 विश्व टूर फाइनल्स में ताईवानी शटलर को पराजित करने में सफल रही थीं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज