सानिया मिर्जा के बेटे और बहन को मिला ब्रिटेन का वीजा, रीजीजू और पीएमओ को कहा शुक्रिया

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण सानिया 
मिर्जा के बेटे को वीजा नहीं मिल पाया था. (Pic- Instagram)

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण सानिया मिर्जा के बेटे को वीजा नहीं मिल पाया था. (Pic- Instagram)

खेल मंत्रालय की ओर से कुछ सप्ताह पहले सानिया के बेटे इजहान और बहन अनम को यूके का वीजा दिलाने के मामले में विदेश मंत्रालय से हस्तक्षेप की मांग की गई थी. सानिया को बर्मिंघम ओपन, ईस्टबोर्न ओपन और विम्बलडन में हिस्सा लेना है जिसके लिए वह ब्रिटेन में हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा (Sania Mirza) ने केंद्रीय खेल मंत्री किरण रीजीजू और अन्य का अपने बेटे और बहन के ब्रिटेन के वीजा को मंजूरी दिलाने में उनके त्वरित हस्तक्षेप के लिए गुरुवार को आभार व्यक्त किया. अब ये दोनों टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) की तैयारी के लिए आयोजित टूर्नामेंट में उनके साथ जा सकते हैं. खेल मंत्रालय ने कुछ सप्ताह पहले विदेश मंत्रालय से इस मुद्दे पर हस्तक्षेप की मांग की थी और भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने मंगलवार को कहा कि सानिया के बेटे और बहन के वीजा को मंजूरी मिल गई है.

छह युगल ग्रैंडस्लैम विजेता सानिया मिर्जा ने ट्वीट कर सभी को मदद करने के लिए शुक्रिया कहा. सानिया ने ट्वीट किया, ‘मैं खेल मंत्री रीजीजू सर, संयुक्त अरब अमीरात और ब्रिटेन में भारतीय दूतावासों, साई और ब्रिटिश सरकार का मेरे बेटे इजहान और मेरी बहन अनम को वीजा दिलाने में मदद के लिए शुक्रिया करना चाहती हूं जिससे ये मेरे साथ टूर्नामेंट के लिए ब्रिटेन की यात्रा कर पाएंगे.' उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय को भी शुक्रिया कहा.

इसे भी पढ़ें

Tokyo-2020 के प्रमुख बोले- हम फिर से ओलंपिक को स्थगित नहीं कर सकते
टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों के अंतर्गत सानिया को बर्मिंघम ओपन (14 जून से), ईस्टबोर्न ओपन (20 जून से) और विम्बलडन (28 जून से) में हिस्सा लेना है.

सानिया के ट्वीट का जवाब देते हुए रीजीजू ने उन्हें ओलिंपिक के लिए शुभकामनाएं दीं. रीजीजू ने ट्वीट किया, ‘भारत को आपकी उपलब्धियों पर गर्व है. आप फिर से आगामी ओलिंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए तैयारी में जुटी हो, हमारी शुभकामनायें आपके और पूरे भारतीय ओलिंपिक दल के साथ हैं.’

34 साल की सानिया सरकार की ‘टारगेट ओलिंपिक पोडियम स्कीम’ (टॉप्स) का हिस्सा हैं, उन्हें वीजा मिल गया था लेकिन भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण लगी यात्रा पाबंदियों के कारण उनके बेटे और उसकी देखभाल करने वाले को वीजा नहीं मिल पाया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज