पिस्टल टीम इवेंट में दो गोल्ड के बाद गनीमत ने जीता महिला स्कीट में ऐतिहासिक ब्रॉन्ज मेडल

 गनीमत सेखों ने ब्रॉन्ज मेडल जीता (Sai Media/Twitter)

गनीमत सेखों ने ब्रॉन्ज मेडल जीता (Sai Media/Twitter)

युवा निशानेबाज गनीमत सेखों ने कांसा जीतकर भारत को आईएसएसएफ विश्व कप महिलाओं की स्कीट इवेंट में पहला मेडल दिलाया जबकि मेजबानों ने रविवार को यहां तीसरे दिन 10 मीटर एयर पिस्टल में अपना दबदबा बनाकर पुरुष और महिला दोनों वर्गों में गोल्ड मेडल जीते. गनीमत का इस स्तर पर यह पहला मेडल है. भारत की यश्वस्विनी सिंह देसवाल, मनु भाकर और श्री निवेथा की टीम ने महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल की टीम इवेंट का गोल्ड मेडल हासिल किया.

  • Share this:
नई दिल्ली. युवा निशानेबाज गनीमत सेखों ने कांसा जीतकर भारत को आईएसएसएफ विश्व कप महिलाओं की स्कीट इवेंट में पहला मेडल दिलाया जबकि मेजबानों ने रविवार को यहां तीसरे दिन 10 मीटर एयर पिस्टल में अपना दबदबा बनाकर पुरुष और महिला दोनों वर्गों में गोल्ड मेडल जीते. गनीमत का इस स्तर पर यह पहला मेडल है. भारत की यश्वस्विनी सिंह देसवाल, मनु भाकर और श्री निवेथा की टीम ने महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल की टीम इवेंट का गोल्ड मेडल हासिल किया.

इसके बाद युवा ओलंपिक और एशियाई खेलों के गोल्ड मेडल विजेता सौरभ चौधरी, अभिषेक वर्मा और शाहजार रिजवी की टीम ने पुरुष वर्ग के फाइनल में वियतनाम को 17-11 से हराकर आसानी से सोने का तमगा अपने नाम किया. पुरुषों के स्कीट फाइनल में हालांकि भारतीय निशानेबाज गुरजोत खांगुरा 17 अंक के साथ छठे स्थान पर रहे. उन्होंने क्वॉलिफिकेशन में भी छठे स्थान पर रहते हुए फाइनल के लिए क्वॉलिफाई किया था.

भारत के दो अन्य निशानेबाजों का कोविड-19 का परीक्षण पॉजीटिव आया है, जिससे राष्ट्रीय राजधानी में चल रहे टूर्नामेंट में इस बीमारी से संक्रमित होने वाले खिलाड़ियों की संख्या छह पहुंच गई है. महिला वर्ग में भारतीय टीम ने गोल्ड मेडल के मुकाबले में 16 शॉट जमाये और वह पोलैंड की जूलिता बोरेक, योआना इवोना वावरजोनोवस्का और एग्निस्का कोरेजवो को पीछे छोड़ने में सफल रही.

कर्णी सिंह रेंज में चल रही प्रतियोगिता में पोलैंड की टीम आठ अंक ही बना पाई. भारतीय टीम ने दूसरे क्वालीफिकेशन में 576 अंक बनाकर शीर्ष स्थान हासिल किया था जबकि पोलैंड की टीम 567 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रही थी. पहले क्वॉलिफिकेशन में भारतीयों ने छह सीरीज में 290, 287, 288, 287, 293 और 287 के साथ कुल 1731 अंक बनाये. पोलैंड ने 286, 283, 286, 286, 286 और 287 की सीरीज के साथ 1701 अंक बनाये थे.
पुरुषों के फाइनल में वियतनाम का प्रतिनिधित्व दिन तान नगुएन, क्वोक कुयोग त्रान और झुआन चुयेनफान कर रहे थे. भारतीय पुरुष टीम ने दूसरे क्वालीफिकेशन में कुल 579 और वियतनामी टीम ने 565 अंक बनाये थे. पहले क्वालीफिकेशन में भारतीय टीम ने 1750 और वियतनाम ने 1708 अंक हासिल किये थे.

कर्णी सिंह निशानेबाजी परिसर की शॉटगन रेंज में विश्व रैंकिंग में 82वें स्थान पर काबिज 20 साल की गनीमत ने महिलाओं के स्कीट मुकाबले में 40 सटीक निशाने लगाए. फाइनल में जगह पक्की करने वाली एक अन्य भारतीय निशानेबाज कार्तिका सिंह शेखावत 32 निशाने के साथ चौथे स्थान पर रही.

प्रतियोगिता के दौरान ज्यादातर समय तक दूसरे स्थान पर रही गनीमत लगातार तीन बार सही निशाना लगाने से चूक गयी जिससे ब्रिटेन की अम्बर हिल और कजाखस्तान की जोया करावचेंको के बीच स्पर्ण मेडल के लिए बेहद करीबी मुकाबला हुआ. क्वॉलिफिकेशन में गनीमत ने 117 अंक के साथ तीसरे जबकि कार्तिका ने 116 अंक के साथ चौथे स्थान पर थी. भारत की एक अन्य खिलाड़ी परीनाज धालीवाल 108 अंक के साथ नौवें स्थान पर रही.



गनीमत इससे पहले 2018 में आईएसएसएफ विश्व चैम्पियनशिप में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय स्कीट निशानेबाज बनी थी. उन्होंने सिडनी में हुए जूनियर इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीता था. वह 2018 एशियाई खेलों में इस इवेंट में 10वें स्थान पर रही थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज