AITA कर सकता है डेविस कप के मुकाबलों को पाकिस्तान से बाहर कराने का अनुरोध

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 केंद्र सरकार द्वारा हटाये जाने के बाद पाकिस्तान ने बुधवार को भारत के साथ राजनयिक संबंध कम करने का फैसला लिया.

भाषा
Updated: August 8, 2019, 4:05 PM IST
AITA कर सकता है डेविस कप के मुकाबलों को पाकिस्तान से बाहर कराने का अनुरोध
भारतीय टेनिस खिलाड़ी रामकुमार रामानाथन
भाषा
Updated: August 8, 2019, 4:05 PM IST
पाकिस्तान के साथ बढते राजनयिक तनाव के बीच भारत का राष्ट्रीय टेनिस महासंघ खेल की विश्व नियामक ईकाई आईटीएफ से अनुरोध कर सकता है कि वह अगले महीने इस्लामाबाद में होने वाले डेविस कप मुकाबलों का आयोजन किसी तटस्थ स्थान पर करे.

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 केंद्र सरकार द्वारा हटाये जाने के बाद पाकिस्तान ने बुधवार को भारत के साथ राजनयिक संबंध कम करने का फैसला लिया. पाकिस्तान में भारत के दूत से भी देश छोड़ने को कहा गया.

एआईटीए महासचिव हिरण्यमय चटर्जी ने कहा ,‘इससे मैच पर असर पड़ सकता है. अभी कुछ कहना जल्दबाजी है लेकिन मैं एक दो दिन इंतजार करूंगा. इसके बाद हम अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ से हालात पर गौर करके फैसला लेने का अनुरोध करेंगे. जरूरत पड़ने पर तटस्थ स्थान पर मुकाबला कराने का अनुरोध किया जायेगा.’

14 और 15 सितंबर को होने हैं मुकाबले

डेविस कप मुकाबले 14 और 15 सितंबर को होने है. महासंघ ने खिलाड़ियों के लिये वीजा लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. चटर्जी ने कहा ,‘पाकिस्तान वीजा नहीं देता है तो हम वहां कैसे जायेंगे. हो सकता है कि वह वीजा नहीं दे. यदि वीजा दे भी देता है तो क्या वे हमें पर्याप्त सुरक्षा दे सकेंगे.’ भारतीय डेविस कप टीम आखिरी बार 1964 में पाकिस्तान गई थी. दोनों देशों के द्विपक्षीय क्रिकेट संबंध 2008के मुंबई आतंकी हमले के बाद से बंद है.

चटर्जी ने कहा ,‘पाकिस्तान ने कई मुकाबले तटस्थ स्थानों पर खेले हैं. हम आईटीएफ से अनुरोध करेंगे क्योंकि हालात काफी नाजुक है. हम यह नहीं कहेंगे कि हम पाकिस्तान नहीं जायेंगे. हम वह रास्ता नहीं अपनाना चाहते. मैं नहीं चाहता कि टीम का नुकसान हो.’

यह पूछने पर कि आईटीएफ अन्यत्र आयोजन से इनकार कर दे तो, उन्होंने कहा ,‘सुरक्षा के मानदंड हमने नहीं आईटीएफ ने बनाये है. कोई भी अनहोनी होने पर वही जिम्मेदार होगा. यही वजह है कि उसे इस पर गंभीरता से विचार करना होगा.’

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टेनिस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 4:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...